मॉस्को में निष्कासित राजनयिकों ने अमेरिकी दूतावास छोड़ा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 5 अप्रैल 2018

मॉस्को में निष्कासित राजनयिकों ने अमेरिकी दूतावास छोड़ा

usa-consolet-leave-mascow
मॉस्को, पांच अप्रैल, जासूस को जहर देने पर उपजे विवाद के मद्देनजर मॉस्को में वाशिंगटन के दूतावास से निष्कासित किए गए अमेरिका के 60 राजनयिकों का पहला जत्था आज रवाना हो गया। मौके पर मौजूद एएफपी के संवाददाता ने बताया कि अमेरिका के कई राजनयिकों और उनके परिवारों ने स्थानीय समयानुसार सुबह साढ़े छह बजे दूतावास छोड़ दिया और वे तीन बसों तथा एक मिनीबस में सवार होकर हवाईअड्डे की ओर रवाना हुए।  रूस ने राजनयिकों को देश छोड़ने के लिए आज की समय सीमा दी थी।  ब्रिटेन में चार मार्च को सालिसबरी में पूर्व डबल एजेंट सर्गेइ स्क्रिपल और उनकी बेटी यूलिया पर नर्व एजेंट से हमला किया गया जिसमें वे दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। ब्रिटेन ने इस हमले के पीछ रूस का हाथ बताया है। इसके बाद जैसे को तैसा नीति के तहत राजनियकों को अपने-अपने देश से निकालने का सिलसिला जारी है। ब्रिटेन ने कहा कि इस हत्या के पीछे रूस के होने की ‘‘पूरी संभावना’’ है। हालांकि रूस ने आक्रामक रूप से इस आरोप को खारिज किया है। अमेरिका, यूरोपीय संघ के सदस्यों, नाटो देशों और अन्य देशो ने रूस के150 से अधिक राजनयिकों को निष्कासित करने का आदेश दिया था और रूस ने भी इसका ऐसा ही जवाब दिया। मार्च के अंत तक रूस ने अमेरिका के60 राजनयिकों को देश छोड़ने के लिए कहा और साथ ही सेंट पीटर्सबर्ग में वाणिज्य दूतावास को बंद करने का आदेश दिया। राजनयिकों के देश छोड़कर जाने के मद्देनजर दूतावास में कई वाहन आते और जाते हुए दिखाई दे रहे हैं। कई वाहनों में निष्कासित राजनयिकों के सामान और पालतू जानवरभी हैं।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...