मधुबनी : केन्द्रीय विद्यालय के लिए MSU का जारी है अनशन - Live Aaryaavart

Breaking

गुरुवार, 12 अप्रैल 2018

मधुबनी : केन्द्रीय विद्यालय के लिए MSU का जारी है अनशन

msu-protest-for-central-school-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त डेस्क) 12 अप्रैल, मिथिला स्टूडेंट यूनियन के छात्रों के द्वारा आज आमरण अनशन का दूसरा दिन है कल से आमरण अनशन शुरू किया गया है मगर अभी तक जिला प्रशासन से वार्ता करने कोई अधिकारी नही पहुंचा है ना ही अनशनकारियों को किसी भी तरीके का मदद किया जा रहा है रात में घना अंधेरा को देखते हुए भी जिला प्रशासन से कोई मदद नहीं किया गया सुबह साफ सफाई भी अनशन स्थल की नही करवाया गया अनशन स्थल पर अनशनकारियों की अब हालत गंभीर होती जा रही है जिला प्रशासन से कोई सुध लेने वाला नही है !  अनशनकारियों में शशि अजय झा प्रिये रंजन पांडे विजय श्री टुन्ना मयंक विश्वास जॉनी झा प्रशांत रंजन कुंदन कश्यप अभिजीत सिंह की हालत अब गम्भीर बनती जा रही है ! धीरे धीरे सेनानी सब बेहोसी के अवस्था मे पहुंच रहे है ! सेनानी के समर्थन में जिला भर से सेनानी सब साथी के साथ डटे हुए है ! वहीं प्रधान सचिव प्रवेश झा ने कहा कि जबतक हमारी मांगो को नही माना जाता है तबतक सेनानी का अनशन जारी रहेगा और अगर किसी भी सेनानी को कोई भी नुकसान पहुंचता है तो उसी पूर्ण जिम्मेदार जिला प्रशासन की होगी ! 

वहीं MSU उपाध्यक्ष सुजीत यादव ने कहा कि विगत तीन वर्षों से हम MSU सेनानी केंद्रीय विद्यालय के लिए धरना प्रदर्शन अनशन करते आ रहे है मगर जिला प्रशासन द्वारा जिला के जनता को बार बार ठगा जाता है और झूठी आश्वाशन के साथ धरना प्रदर्शन खत्म करवा दिया जाता है मगर इस बार अनशन बिना लिखित जवाब के बिना नही टूटेगी और एक ठोस आधार और सबूत पर सेनानी अपना अनशन तोड़ेगी ! वहीं नगर अध्यक्ष विजय घनश्याम ने कहा कि मधुबनी को अभी तक क्यों नही केंद्रीय विद्यालय मिला क्या मधुबनी की शिक्षा कमजोर करने की साजिश बिहार सरकार तो नही कर रही ? दस विधानसभा और दो लोकसभा सीट होने के बावजूद भी मधुबनी की शिक्षा हालत खराब है और कोई भी जनप्रतिनिधियों को इसकी चिंता नही है जिलावासी को सोचना चाहिए क्यों नही जिला मधुबनी में केंद्रीय विद्यालय खुलना चाहिये ! आमरण अनशन में सेनानी सुमित सिंह नीति कश्यप नीति मनोहर झा मिरत्युजंय मिश्र हिमांशु शेखर राम बालक पासवान रजनीश मिश्र विकास सूरज राजा रंजन झा जय किशन रोहित मौजूद थे !
एक टिप्पणी भेजें
Loading...