दरभंगा : सीता मिथिला की कुलदेवी : पूर्व कुलपति - Live Aaryaavart

Breaking

मंगलवार, 24 अप्रैल 2018

दरभंगा : सीता मिथिला की कुलदेवी : पूर्व कुलपति

sita-mithila-kuldevi
दरभंगा (आर्यावर्त डेस्क) 24 अप्रैल,  जानकी नवमी के अवसर पर जगह-जगह कार्यक्रमों का आयोजन किया गया. इस अवसर पर माता सीता पूजनोत्सव और मैथिली दिवस कार्यक्रम मनाया गया. स्थानीय महाराजा महेश ठाकुर मिथिला महाविद्यालय में जानकी नवमी का आयोजन किया गया. आयोजन स्थल पर शिव धनुषधारिणी माता सीता की प्रतिमा स्थापित कर वैदिक रीति से पूजा-अर्चना की गई. वहीं इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक ने कहा कि मिथिला विकास के चरम शिखर पर पहुंचे इसके लिए हम सभी को निरंतर प्रयास करना होगा. उन्होंने कहा कि सीता के नाम पर समाज एकजुट हो रहा है. जानकी सर्किट और राम सर्किट के माध्यम से मिथिला के महत्वपूर्ण स्थलों को जोड़ने के लिए केन्द्र सरकार प्रयत्नशील है. इससे इलाके की संस्कृति की संरक्षा तथा विकास संभव हो सकेगा. इस मौके पर बतौर मुख्य अतिथि कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डॉ. देवनारायण झा ने कहा कि माता सीता तो मिथिला की कुलदेवी है. इनके प्राकट्य से मिथिला का महात्म्य और बढ़ गया है. यक पुण्य भूमि है और यहां जन्म लेने वालों को मुक्ति मिलती है. वहीं पूर्व कुलपति डॉ. उपेन्द्र झा वैदिक ने सीता के महत्व को रेखांकित किया. कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व विधान पार्षद प्रो. विनोद कुमार चौधरी ने की. इस मौके पर कमला कांत झा, डॉ. सत्यनारायण ठाकुर, डॉ. अयोध्यानाथ झा, डॉ. अनलि कुमार झा, विनोद कुमार झा, चंद्रशेखर झा बूढ़ाभाई आदि ने विचार व्यक्त किये. कार्यक्रम के प्रारंभ में विद्यापति सेवा संस्थान के महासचिव डॉ. बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने अवसर के महत्व पर विस्तार से प्रकाश डाला. कार्यक्रम का संचालन वरिष्ट पत्रकार अमलेन्द्र शेखर पाठक ने किया. अतिथियों का स्वागत प्राधानाचार्य डॉ. उदयकांत मिश्र ने किया. इस अवसर पर गीत-संगीत, काव्य पाठ के भी कार्यक्रम आयोजित किये गये. वहीं दूसरी ओर स्थानीय सीतायन विवाह भवन में जानकी नवमी के अवसर पर पूजन सह विचारगोष्ठी का आयोजन किया गया. अखिल भारतीय मिथिला संघ के तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम के प्रारंभ में सर्वप्रथम उपस्थित लोगों ने मां जानकी के चित्र पर माल्यार्पण किया. उसके बाद पवन कुमार चौधरी की अध्यक्षता में विचारगोष्ठी का आयोजन किया गया. जिसमे मैथिली को द्वितीय राजभाषा का दर्जा दिलाने को लेकर संकल्प लिया गया. कार्यक्रम में संघ के अध्यक्ष विनय कुमार झा संतोष, सुरेन्द्र नारायण मिश्र, कमलेश, सुजित कुमार आचार्य, शैलेन्द्र कश्यप, रौशन झा, सरोज राय, मदन चौधरी, आनंद चौधरी, दीपक शांडिल्य, दीपक स्टार, मनोज कुमार, बलजीत झा, अजीत चौधरी आदि ने विचार व्यक्त किये. कार्यक्रम का संचालन शशिमोहन भारद्वाज और धन्यवाद ज्ञापन रौशन कुमार झा ने किया. स्थानीय नवटोलिया मुहल्ला में जानकी नवमी के अवसर पर अष्टयाम का समापन करते हुए ध्वजारोहन किया गया. इस मौके पर विधान पार्षद डॉ. संजय पासवान ने कहा कि आज ही के दिन भगवती सीता का प्राकट्य हुआ था. जिस प्रकार राम जन्मोत्सव मनाया जाता है. उसी प्रकार मिथिला में माता सीता के जन्म का महत्व है. इस मौके पर अशोक नायक, पूर्व मेयर अजय पासवान, ई. विभाकर राम, दिलीप कुमार लाला, मुरारी श्रीवास्तव, शिवनाथ पासवान, सुनीति रंजन दास,रंजीत कुमार, मुन्ना ठाकुर थे.
एक टिप्पणी भेजें
Loading...