आतंकवाद अंतराष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बडी चुनौती: सीतारमण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 5 अप्रैल 2018

आतंकवाद अंतराष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बडी चुनौती: सीतारमण

http://www.uniindia.com/cms/gall_content/2018/4/2018_4$largeimg05_Apr_2018_220125540.jpg
नयी दिल्ली 05 अप्रैल, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने आतंकवाद को मानवता के लिए अभिशाप बताते हुए आज कहा कि यह अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बड़ी चुनौती बना हुआ है और इससे निपटने के लिए सभी देशों को एकजुट होना होगा। रूस की तीन दिन की यात्रा पर गयी रक्षा मंत्री ने कल रात मास्को में अंतर्राष्‍ट्रीय सुरक्षा पर सातवें ‘मॉस्‍को सम्‍मेलन ’ में ‘ग्‍लोबल सिक्‍युरिटी इन ए पॉलीसेन्ट्रिक वर्ल्‍ड’ विषय पर अपने संबोधन में मौजूदा समय में रक्षा, सुरक्षा और रणनीतिक परिदृश्य पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि आतंकवाद का अभिशाप अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा के क्षेत्र में प्रमुख चुनौती बना हुआ है। आतंकवादी अधिक खतरनाक तरीके अपना रहे हैं। युवा कट्टरपंथी नई टेक्नोलॉजी और सोशल मीडिया नेटवर्कों का इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने आतंकवादियों द्वारा पश्चिम एशिया में क्षेत्रीय अड्डे स्थापित करने तथा कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव कम करने के प्रयासों की भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि भारत काफी लंबे समय से क्षेत्र में परमाणु हथियारों के प्रसार की ओर इशारा कर रहा था, जो हमारी अपनी सुरक्षा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। रक्षा मंत्री ने कहा कि यूरेशियाई पड़ोसियों के साथ स्थिरता और सुरक्षा सुनिश्चित करने खासतौर से आतंकवाद की समस्या से निपटने के लिए रूस के साथ सहयोग कायम करना भारत के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने खड़ी समस्याओं का समाधान किसी एक देश अथवा देशों के समूह द्वारा नहीं किया जा सकता इसके लिए सबको एकजुट होना होगा।
एक टिप्पणी भेजें