उपचुनावों के नतीजे भाजपा के लिए बड़ा झटका - Live Aaryaavart

Breaking

शुक्रवार, 1 जून 2018

उपचुनावों के नतीजे भाजपा के लिए बड़ा झटका

by-poll-result-setback-for-bjp
नयी दिल्ली 31 मई, चार लोकसभा सीटों तथा 11 विधानसभा सीटों के आज घोषित उप चुनावों के परिणाम भारतीय जनता पार्टी के लिए 2019 के आम चुनाव से पूर्व बड़ा झटका है जबकि विपक्षी एकता के लिए संबल है। भाजपा को दो लोकसभा सीट गंवानी पड़ी हैं और एक सीट बचा पाने में वह सफल रही है। भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश में कैराना लोकसभा सीट और नूरपुर विधानसभा के परिणाम सबसे बड़ा आघात है। ये दोनों ही सीटें पहले उसके पास थीं। इन सीटों पर विपक्ष की एकजुटता ने उसकी हार सुनिश्चित की। इससे पहले वह राज्य में विपक्ष की एकता के कारण गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों के उपचुनाव हार चुकी है।  भाजपा महाराष्ट्र की पालघर सीट बचाने में सफल रही जहां उसने शिवसेना को परास्त किया। राज्य की भंडारा गोंदिया सीट राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने जीत ली। उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा सीट पर राष्ट्रीय लोकदल प्रत्याशी तबस्सुम हसन ने भाजपा की मृगांका सिंह को 46,618 मतों से हराया। नूरपुर विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी(सपा) के नईम उल हसन ने भाजपा की अवनी सिंह को 5678 मतों से पराजित किया। कैराना से भाजपा ने पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को चुनाव मैदान में उतारा था, वहीं एकजुट विपक्ष की तरफ से राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) की तबस्सुम मुनव्वर हसन मैदान में थीं। नूरपुर सीट भाजपा विधायक लोकेन्द्र सिंह चौहान की सडक दुर्घटना में मौत के कारण रिक्त हुई थी। उपचुनाव में भाजपा ने इस सीट पर उनकी पत्नी अवनी सिंह काे चुनाव मैदान में उतारा था।

पालघर लोकसभा सीट भाजपा सदस्य चिंतामन वनगा के निधन के कारण रिक्त हुई थी। श्री वनगा के पुत्र श्रीनिवास वनगा को भाजपा ने टिकट नहीं दिया जिसके कारण वह शिवसेना में शामिल हो गये थे और शिवसेना ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया था। शिवसेना भाजपा के साथ केन्द्र और राज्य दोनों जगह सरकार में है। भाजपा के उम्मीदवार राजेन्द्र गावित ने शिवसेना के उम्मीदवार को 29574 मतों से पराजित किया। प्राप्त जानकारी के अनुसार नागालैंड लोकसभा सीट पर नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी के उम्मीदवार टी येपथोमी ने नागा पीपुल्स फ्रंट के सी अपोक जमीर को हराकर कब्जा कर लिया है। भाजपा उत्तराखंड में अपनी सीट बचाये रखने में कामयाब रही। राज्य की थराली विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में भाजपा की मुन्नी देवी शाह ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के जीत राम को 1981 मतों से पराजित कर दिया। चुनाव आयोग के अनुसार थराली उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार मुन्नी देवी को 25737 मत मिले जबकि कांग्रेस प्रत्याशी जीत राम ने 23756 वोट हासिल किये। यह सीट भाजपा विधायक मगनलाल शाह के निधन से रिक्त हुई थी और इस सीट पर 28 मई को मतदान हुआ था। श्रीमती मुन्नी देवी दिवंगत भाजपा विधायक मगनलाल शाह की पत्नी हैं। पंजाब में कांग्रेस के हरदेव सिंह लाडी शेरोवालिया ने जालंधर जिले की शाहकोट विधानसभा सीट उपचुनाव में अपने निकटतम प्रतिद्धंदी शिरोमणि अकाली दल(शिअद) के उम्मीदवार नायब सिंह कोहाड़ को 38802 मतों के अंतर से पराजित किया। यह सीट शिअद विधायक अजीत सिंह कोहाड़ के निधन के कारण रिक्त हुई थी। वह इस सीट से पांच बार जीत कर विधानसभा में पहुंचे और उनके रहते हुये शाहकोट विधानसभा क्षेत्र अकालियों का गढ़ माना जाता था।

कर्नाटक में राजराजेश्वरी नगर विधानसभा सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार मुनिरत्ना ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के थुलासी मुनिराजू गौडा को 25492 मतों से हरा दिया। कांग्रेस ने यह सीट बरकरार रखी। राज्य में गत 12 मई को हुए विधानसभा चुनाव के दौरान ही चुनाव आयोग ने इस सीट पर मतदान 28 मई तक के लिए स्थगित कर दिया था। आयोग को इस निर्वाचन क्षेत्र में मतदाताओं को नगद और उपहारों से लुभाने की शिकायतें मिली थीं और जलाहल्ली क्षेत्र में हुई छापेमारी में नौ हजार से अधिक मतदाता पहचान पत्र बरामद किये गये थे। इस संबंध में श्री मुनिरत्ना समेत 13 लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया था। मेघालय में भी कांग्रेस ने जीत का परचम लहराया है और प्रतिष्ठित अम्पाती विधानसभा सीट के उपचुनाव में पार्टी उम्मीदवार एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री मुकुल संगमा की बड़ी बेटी मियानी डी शिरा ने सत्तारूढ़ नेशनल पीपुल्स पार्टी प्रत्याशी क्लेमेंट मोमिन को 3191 मतों से हराकर जीत हासिल की। श्री संगमा फिलहाल विधानसभा में विपक्ष के नेता हैं। श्री संगमा के इस सीट को खाली करने के बाद यहां उपचुनाव कराया गया। वह इस सीट के अलावा सोंगसाक विधानसभा सीट से चुनाव जीते थे। श्री संगमा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा उम्मीदवार बकुल सी हजोंग को 6,000 से ज्यादा वोटों से हराकर अम्पाति सीट बरकरार रखी थी जबकि सोंगसाक सीट उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी एनपीपी उम्मीदवार एन डी शिरा को 1300 से ज्यादा वोटों से हराया था।

महाराष्ट्र के पलूस कादेगांव विधानसभा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी विश्वजीत कदम ने निर्विरोध जीत दर्ज की है। यह सीट कांग्रेस विधायक एवं पूर्व मंत्री पटंगराव कदम के निधन के बाद रिक्त हुई थी। पार्टी ने उनके बेटे विश्वजीत कदम को मैदान में उतारा। केरल में चेंगानूर विधानसभा सीट मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी नीत वाम लोकतांत्रिक मोर्चा ने जीत ली है। इस सीट पर एलडीएफ उम्मीदवार साजी चेरियन ने अपने निकटम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस नीत यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट प्रत्याशी डी विजयकुमार को 20956 मतों से पराजित किया। श्री चेरियन को कुल 67303 मत मिले जबकि श्री विजयकुमार ने 46347 वोट हासिल किये। बिहार में अररिया जिले की जोकीहाट विधानसभा सीट के लिए हुये उपचुनाव में राष्ट्रीय जनता दल के प्रत्याशी शाहनवाज आलम निर्वाचित घोषित किये गये। वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में जोकीहाट सीट जदयू प्रत्याशी एवं शाहनवाज आलम के बड़े भाई सरफराज आलम ने जीती थी लेकिन उनके पिता एवं सांसद मोहम्मद तस्लीमुद्दीन के निधन से अररिया लोकसभा सीट रिक्त होने के बाद सरफराज आलम ने जदयू विधायक पद से इस्तीफा देकर राजद के टिकट पर उपचुनाव लड़ा और विजयी हुये। सरफराज आलम के इस्तीफे के कारण जोकीहाट विधानसभा सीट रिक्त हुई थी, जिस पर 28 मई को उपचुनाव कराया गया था।

झारखंड में रांची जिले के सिल्ली विधानसभा सीट के लिए हुये उपचुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) प्रत्याशी सीमा देवी ने ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष एवं उम्मीदवार सुदेश महतो को 13510 मतों से पराजित कर दिया। यह सीट तत्कालीन झामुमो विधायक अमित कुमार महतो को एक मामले में न्यायालय द्वारा दोषी करार दिये जाने के बाद उनके पद से इस्तीफा देने के कारण रिक्त हुई थी। राज्य की ही गोमिया विधानसभा सीट के लिए हुये उपचुनाव में झामुमो प्रत्याशी बबीता देवी ने ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन के उम्मीदवार लंबोदर महतो को 1344 मतों के अंतर से पराजित किया। यह सीट तत्कालीन झामुमो विधायक योगेंद्र महतो को एक मामले में न्यायालय द्वारा दोषी करार दिये जाने के बाद उनके पद से इस्तीफा देने के कारण रिक्त हुई थी। पश्चिम बंगाल में महेशतला विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने अपनी सीट बचाने में सफलता हासिल की है। पार्टी उम्मीदवार दुलाल दास ने भाजपा के सुजीत घोष को 62324 मतों के अंतर से हरा दिया। पार्टी विधायक कस्तूरी दास के निधन के बाद यहां उपचुनाव कराया गया। पार्टी ने दिवंगत विधायक के पति दुलाल दास को यहां से अपना उम्मीदवार बनाया।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...