दिल्ली कांग्रेस का आप के साथ चुनावी गठबंधन नहीं : माकन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 3 जून 2018

दिल्ली कांग्रेस का आप के साथ चुनावी गठबंधन नहीं : माकन

congress-will-not-alliance-with-aap-makanनयी दिल्ली 02 जून, दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने आगामी लोकसभा चुनाव में दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस के बीच संभावित गठबंधन की अटकलों को खारिज करते हुए शनिवार को कहा कि पार्टी कार्यकर्ता और सभी नेता नहीं चाहते कि श्री अरविंद केजरीवाल की पार्टी के साथ किसी किस्म का गठबंधन हो।  श्री माकन ने दिल्ली कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन की मीडिया में आ रही रिपोर्ट का खंडन करते हुए कहा कि उसके साथ गठबंधन नहीं करने के दो बहुत स्पष्ट कारण हैं। पहला कारण है कि दिल्ली में कोई काम नहीं करने के कारण केजरीवाल सरकार की लोकप्रियता तेजी से घट रही है। जनता अब केजरीवाल सरकार को नकार रही है और दिल्ली में कांग्रेस को वापस लाना चाह रही है।  उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि दिल्ली के कांग्रेस कार्यकर्ता और सभी नेता यह बिल्कुल नहीं चाहते कि केजरीवाल की पार्टी के साथ किसी तरह का गठबंधन हो।  उन्होंने कहा कि दूसरी वजह यह है कि 2011 में श्री केजरीवाल ने बाबा रामदेव, किरण बेदी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ मिलकर कांग्रेस को नुकसान पहुंचाया। ऐसे में आप के साथ गठबंधन का सवाल ही नहीं उठता है। श्री माकन ने कहा कि विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 56 फीसदी वोट मिले थे और नगर निगम चुनाव में उसे सिर्फ 26 फीसदी वोट मिले। दूसरी तरफ कांग्रेस का वोट नौ फीसदी से बढ़कर 22 फीसदी पर पहुंच गया है।  उन्होंने कहा कि कांग्रेस का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। राजौरी गार्डन और बवाना विधानसभा के उपचुनावों में भी आप के वोट प्रतिशत में काफी गिरावट दर्ज की गयी। उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली के लोग बिजली और पानी की समस्या से परेशान हैं। दिल्ली में 10वीं और 12वीं कक्षा के इस बार के परिणाम सबसे कम रहे हैं। इससे भी लोग नाराज हैं, ऐसे में आप से गठबंधन से कोई सवाल ही नहीं उठता।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...