बिहार : भाकपा-माले का राज्यस्तरीय कन्वेंशन कल, माले महासचिव सहित भाग लेंगे अन्य वरिष्ठ नेता. - Live Aaryaavart

Breaking

शनिवार, 9 जून 2018

बिहार : भाकपा-माले का राज्यस्तरीय कन्वेंशन कल, माले महासचिव सहित भाग लेंगे अन्य वरिष्ठ नेता.

cpi-ml-state-convention-tomorrow
पटना (आर्यावर्त डेस्क) 9 जून, भाकपा-माले का राज्यस्तरीय कार्यकर्ता कन्वेंशन कल 10 जून को भारतीय नृत्य कला मंदिर में आयोजित किया गया है. कन्वेंशन में सूबे बिहार के सभी जिलों से पार्टी के प्रमुख कार्यकर्ता भाग लेंगे. मुख्य अतिथि माले महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य होंगे. उनके अलावा पार्टी के वरिष्ठ नेता काॅ. स्वदेश भट्टाचार्य, राज्य सचिव कुणाल, पोलित ब्यूरो के सदस्य काॅ. धीरेन्द्र झा, अमर, राजाराम सिंह सहित अन्य वरिष्ठ नेता गण तथा जिला स्तरीय प्रमुख नेतागण भी कन्वेंशन के हिस्सा होंगे. कन्वेंशन दो सत्रों में होगा. पहले सत्र में विश्व सर्वहारा आंदोलन के महान शिक्षक कार्ल माक्र्स की दूसरी जन्मशती के मौके पर ‘माक्र्स के विचार और हमारे कार्यभार’ विषय पर चर्चा की जाएगी. भाकपा-माले ने कहा है कि जिस माक्र्स को ये विदेशी कहते हैं, उसी माक्र्स ने सबसे पहले 1853 में अंग्रेजों से भारत की आजादी का सवाल पेश कर दिया था. भारत पर लिखे गए उनके लेख इसके उदारहण हैं. दूसरी ओर भारतीय और विदेशी मूल का विभेद करने वाली संघी ताकतों ने हमेशा विदेशी प्रतीक-पुरूष तानाशाह और घोर मानवता विरोधी हिटलर को ही अपना आदर्श बनाया. ये लोग, जो माक्र्स और लेनिन का विरोध करते हैं, वे ही अम्बेडकर और पेरियार का भी विराध करते हैं. स्पष्ट है कि मामला देशी-विदेशी का मामला नहीं है. संघी माक्र्स-लेनिन से लेकर भगत सिंह-अंबेदकर व पेरियार के के सामाजिक बदलाव के महान विचारों से घृणा करते हैं. दरअसल इन विचारों से वे भयभीत रहते हैं. वे सभी लोग जो समानता, न्याय, स्वतंत्रता और भाईचारे के पक्षधर हैं और उसके लिये लड़ते हैं, उन्हें हमेशा माक्र्स से प्रेरणा मिलती रहेगी. जबकि समानता के दुश्मन हमेशा इस क्रांतिकारी महापुरुष से प्रचंड भयभीत रहेंगे और उन्हें बदनाम करने की कोशिश करेंगे.

दूसरे सत्र में 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव और राज्य की ताजा राजनीतिक परिस्थिति व आगामी कार्यभारों पर चर्चा होगी. विदित हो कि भाकपा-माले ने 23 अप्रैल से लेकर 1 मई तक बिहार में पांच स्थानों से भाजपा भगाओ बिहार बचाओ पदयात्रा का आयोजन किया था. इस अभियान का दूसरा चरण अभी जारी है. जिसमें पंचायत स्तर पर पदयात्राएं निकाली जा रही हैं और जनसम्मेलन का आयोजन हो रहा है. कन्वेंशन के उपरांत 11-12 जून को जहानाबाद में पार्टी की राज्य कमिटी की बैठक आयोजित होगी. इसके पूर्व आरा और सिवान में लोकसभा स्तरीय कार्यकर्ता कन्वेंशन का आयोजन किया गया. आरा में 8 जून और सिवान में 7 जून को यह कन्वेंशन हुआ. जिसमें पार्टी महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य, राज्य सचिव कुणाल, केंद्रीय कमिटी के सदस्य संतोष सहर व अन्य वरिष्ठ नेताओं तथा जिला स्तर के नेताओं ने भाग लिया. 12 जून को ही जहानाबाद में जहानाबाद लोकसभा स्तरीय कार्यकर्ता कन्वेंशन का आयोजन होगा. इस कन्वेंशन को भी मुख्य अतिथि के बतौर माले महासचिव और राज्य सचिव संबोधित करेंगे. काराकाट, पाटलिपुत्र, दरभंगा आदि लोकसभा स्तर पर राज्य कमिटी की बैठक के उपरांत कार्यकर्ता कन्वेंशन की योजना बनाई जाएगी. इन कार्यकर्ता कन्वेंशनों के जरिए भाकपा-माले ने 2019 लोकसभा चुनाव की अपनी तैयारी आरंभ कर दी है.
एक टिप्पणी भेजें
Loading...