झारखंड का विकास और विस्थापितों का पुनर्वास प्राथमिकता : रघुवर दास - Live Aaryaavart

Breaking

रविवार, 17 जून 2018

झारखंड का विकास और विस्थापितों का पुनर्वास प्राथमिकता : रघुवर दास

development-and-rehabilitation-priority-raghubar-das
रांची 16 जून, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज कहा कि उनकी सरकार राज्य का विकास करने के साथ -साथ विस्थापितों की भी सुध ले रही है। श्री दास ने झारखंड विधानसभा और झारखंड उच्च न्यायालय के निर्माण से विस्थापित हुए लोगों के लिए बन रही कॉलोनी का निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस समय झारखंड में विकास के साथ-साथ विस्थापितों की भी सुध लेने वाली सरकार है। पहले जहां विस्थापित दर-दर भटकते रहते थे, वहीं वर्तमान सरकार विस्थापितों को बसा रही है। इसका ताजा उदाहरण झारखंड विधानसभा और झारखंड उच्च न्यायालय के निर्माण से होने वाले विस्थापित है। सरकार निर्माणाधीन भवनों से विस्थापित हुए लोगों को अक्टूबर तक घर बनाकर बसा देगी।  मुख्यंत्री ने संवेदक को गुणवत्ता को बरकरार रखते हुए समयसीमा में काम पूरा करने का निर्देश दिया और कहा कि विधानसभा और उच्च न्यायालय भवन के बनने से पूर्व विस्थापितों को बसायें। अक्टूबर तक विस्थापितों की कॉलोनी बनकर तैयार हो जाये। उन्होंने झारखंड उच्च न्यायालय के निर्माण कार्य को दिसंबर और विधानसभा के निर्माण कार्य को जनवरी तक पूरा कर लेने का निदेश दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा, “राज्य गठन के 14 साल बाद भी राज्य की सबसे बड़ी पंचायत का अपना भवन नहीं था। इस पर काफी राजनीति होती रही। विधानसभा किराये के भवन में चलता रहा। हमने सरकार में आते ही विधानसभा के लिए अपना भवन बनाने का लक्ष्य रखा। इसका शिलान्यास किया। अगले साल जनवरी तक झारखंड विधानसभा का अपना भव्य भवन होगा। अगला ग्रीष्मकालीन सत्र नये विधानसभा में होगा। जहां राज्य के 81 विधायक बैठकर जन समस्याओं का समाधान कर सकेंगे। गांवों में भी सरकार पंचायत भवन बनवा रही है, ताकि गांव की सरकार को भी निर्णय लेने के लिए एक स्थान मिल सके।” श्री दास ने कहा कि हर किसी को अच्छी जिंदगी जीने का अधिकार है और हमारी सरकार इसी दिशा में कार्य कर रही है। इसी क्रम में विस्थापितों के लिए कॉलोनी बनवाई जा रही है। विस्थापितों की कॉलोनी में 400 परिवारों के लिए उच्छी गुणवत्ता वाले घर बनाये जा रहे हैं। जिस पर लगभग 200 करोड़ रुपये का खर्च आ रहा है। औसतन एक घर पर 50 लाख रुपये का खर्च आ रहा है। हर घर में तीन बेडरूमए किचन, बाथरूम, बरामदा आदि है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नई कॉलोनी में स्कूल और मार्केट कंप्लेक्स का भी निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने इन कार्यों में लगे विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों, संवेदक, हजारों मजदूरों को कार्य की प्रगति के लिए बधाई देते हुए कहा कि इनके निर्माण से बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिल सका है। निरीक्षण के दौरान भवन निर्माण विभाग के सचिव सुनील कुमार समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...