रिम्स में बर्दाश्त नहीं की जाएगी अनुशासनहीनता : रघुवर दास - Live Aaryaavart

Breaking

बुधवार, 13 जून 2018

रिम्स में बर्दाश्त नहीं की जाएगी अनुशासनहीनता : रघुवर दास

indiscipline-not-tolerate-in-rims-raghubar-das
रांची 12 जून, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज चेतावनी देते हुये कहा कि राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) में किसी भी कीमत पर अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। श्री दास ने यहां रिम्स एवं स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में कहा कि रिम्स सेवा स्थल है, जहां लोग स्वयं एवं परिजनों के बेहतर इलाज कराने की उम्मीद से आते हैं। उन्होंने कहा कि यदि भविष्य में रिम्स में हड़ताल के दौरान किसी मरीज की मौत हुई तो हड़ताल में शामिल लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतयेक व्यक्ति को ईमानदारीपूर्वक अपने कर्त्तव्यों का निर्वहन करना होगा। साथ ही चिकित्सकों की जिम्मेवारी होगी कि वे मरीजों का बेहतर इलाज करें। उन्होंने कहा कि अस्पतालों के प्रबंधन कार्य को संपन्न कराने के लिए भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारियों की नियुक्ति की जाएगी और प्रत्येक व्यक्ति की जवाबदेही तय की जाएगी। श्री दास ने रिम्स परिसर में पुलिस पोस्ट बनाने का निर्देश देते हुये कहा कि यह पोस्ट अस्पताल में सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखने के लिए जवाबदेह होंगे। साथ ही दुर्घटना के मामलों की सूचना संबंधित थाने को देंगे। उन्होंने 200 सेवानिवृत्त सुरक्षा अधिकारियों को बहाल करने के भी निर्देश दिये।

मुख्यमंत्री ने कहा कि रिम्स में मरीजों एवं उनके परिजनों की जबर्दस्त भीड़ होती है जबकि निजी अस्पतालों में मरीजों के साथ उनके परिवार के केवल एक सदस्य को साथ रहने की अनुमति दी जाती है। इसके अलावा मरीजों से मिलने आने वालों के लिए भी समय निर्धारित होता है। ऐसी ही व्यवस्था रिम्स में भी की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि अस्पताल में स्वच्छता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा। इस कार्य के लिए उत्तरदायी कर्मचारी यदि अपना काम ठीक से नहीं करते हैं तो उन्हें नौकरी से बर्खाश्त कर दिया जाएगा। श्री दास ने रिम्स परिसर के अंदर चल रहे डाइगनोसिस सेंटर और पैथोलॉजी को बंद कराने का आदेश देते हुये कहा कि अस्पताल के अंदर किसी भी कीमत पर बिचौलियों को प्रवेश नहीं करने दिया जाये। उन्होंने कहा कि सरकार चिकित्सकों को निजी क्लिनिक चलाने की अनुमति नहीं होगी। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुये कहा कि अस्पताल में पेइंग वार्ड और ट्रॉमा सेंटर का कार्य जितनी जल्दी हो पूरा कर लिया जाये और जरूरत के अनुसार और इस काम में और लोगों को लगाया जाये। उन्होंने कहा कि अस्पताल में चिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिए कैंपस प्लेसमेंट किया जाएगा। समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी, मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, विकास आयुक्त डी. के. तिवारी समेत कई अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...