परमार्थ निकेतन में आयोजित मानस कथा में श्री श्याम जाजू ने किया सहभाग - Live Aaryaavart

Breaking

शनिवार, 2 जून 2018

परमार्थ निकेतन में आयोजित मानस कथा में श्री श्याम जाजू ने किया सहभाग

  • श्री राम कथा के मंच से नशामुक्त, प्लास्टिक मुक्त और प्रदूषण मुक्त स्वर्ग आश्रम का किया आह्वान
  • बिंदाल, रिस्पना और सुसवा को स्वच्छ करने का करवाया संकल्प
  • स्वर्ग आश्रम बने माॅडल -स्वामी चिदानन्द सरस्वती

manas-katha-rishikeshऋषिकेश, 1 जून। परमार्थ निकेतन के पावन गंगा तट पर स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज के संरक्षण एवं मार्गदर्शन में आयोजित पर्यावरण एवं जल संरक्षण को समर्पित श्री राम कथा में महामण्डलेश्वर स्वामी बालकानन्द जी महाराज, स्वामी ऋषिश्वरानन्द जी महाराज, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भाजपा एवं दिल्ली व उत्तराखण्ड प्रभारी श्री श्याम जाजू जी और अन्य विशिष्ट अतिथियों ने सहभाग किया। प्रसिद्ध मानस कथा कथाकार श्री मुरलीधर जी महाराज के मुखरबिन्द से श्री राम गमन का प्रसंग सुनकर श्रद्धालु भावुक हो गये।  स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने श्री श्यान जाजू जी और अन्य विशिष्ट अतिथियों से नशामुक्त, प्लास्टिक एवं गंन्दगी मुक्त भारत बनाने के विषय में चर्चा की। उन्होंने कहा कि अगर पहाड़ों की रानी मसूरी तम्बाकू मुक्त हो सकती है तो देश के बाकी शहरों को भी किया जा सकता है और क्यो न हम इसकी शुरूआत योग की नगरी स्वर्ग आश्रम से करे? क्योकि यहां पर विश्व के 120 से अधिक देशों के सैलानी आते है अतः इस क्षेत्र को माॅडल बनाना बहुत जरूरी है। स्वामी जी महाराज ने सोन और सरस्वती नदियों के विषय में चर्चा करते हुए कहा कि आज देश की अनेक नदियां जल के स्थान पर रेत में तब्दील हो गयी है तथा बिंदाल, रिस्पना, सुसवा व अन्य नदियों का जल जहर के समान हो गया है। ताजा रिपोर्ट के अनुसार रिस्पना, बिंदाल और सुसवा का जल जहर बनता जा रहा है, जिससे उसके आस-पास के क्षेत्र में कैंसर जैसी घातक बीमारियो में इजाफा हो रहा है इसलिये हम सभी का कर्तव्य है कि जल संवर्धन एवं संरक्षण के लिये आगे आये और नदियों को स्वच्छ रखने में अपना योगदान प्रदान करें। इन प्राणवाहिनी नदियों को स्वच्छ करना हमारा परम कर्तव्य है।

 स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि वर्तमान पीढ़ी परिवर्तन के दौर से गुजर रही है उन्हें पर्थदर्शक और मार्गदर्शक की जरूरत है ताकि वे अच्छे बने और अच्छा करे। स्वामी जी ने सभी से आह्वान किया कि युवा पीढ़ी को प्रकृति, पर्यावरण और नदियों के संरक्षण के लिये जागरूक किया जाये।  राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भाजपा एवं दिल्ली व उत्तराखण्ड प्रभारी  श्री श्याम जाजू जी ने कहा कि  कथा के मंच से पर्यावरण संरक्षण एवं स्वच्छता का संदेश प्रसारित करना एक नवोदित प्रयास है। स्वामी जी महाराज के द्वारा गंगा आरती के माध्यम से विश्व स्तर पर वसुधैव कुटुम्बकम, विश्व शान्ति और विभिन्न धर्मो के धर्मगुरूओं को एक मंच पर लाने का जो अद्भुत कार्य किया जा रहा है उसे आगे ले जाने के लिये हम सभी को मिलकर कार्य करना होगा। उन्होने कहा कि श्री राम कथा हमें मिलकर कार्य करने का संदेश देती है इसे आत्मसात कर आगे बढ़े यही कथा की सार्थकता है।’   श्री श्याम जाजू जी ने सभी प्रबुद्ध एवं समाजसेवी बन्धुओं को सम्पर्क करने की योजना का शुभारम्भ परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज को साहित्य देकर किया। केन्द्र सरकार की बहुआयामी उपलब्धियाँ देखकर स्वामी जी महाराज ने संतोष व्यक्त किया और आगे की योजनाओं को लेकर कुछ सूचनायें भी दी। उन्होने कहा कि समाज को आगे बढ़ाने व प्रगतिपथ पर ले जाने के लिये केन्द्र सरकार के साथ साथ समाज को भी योगदान देना चाहिये। आने वाले दिनों में पार्टी के सभी विधायक, सांसद, पदाधिकारी एवं अलग-अलग क्षेत्रों में काम करने वाले वरिष्ठजनों को सम्पर्क करने की महत्वाकांक्षी योजना भारतीय जनता पार्टी ने बनायी है। उन्होने स्वच्छता अभियान, पर्यावरण, शिक्षा, संस्कृति एवं संस्कारों के लिये स्वामी जी महाराज द्वारा चलाये जा रहे अभियान में सहयोग करने हेतु धार्मिक क्षेत्र में काम करने वाले सभी कथाकारों, महंतो, धर्माचार्यों एवं महापुरूषों का विनम्रतापूर्वक आह्वान किया। उन्होने कहा कि सदियों से सभी धर्मगुरू अपने-अपने स्तर पर कार्य कर रहे है अब समय आ गया है कि सभी मिलकर कार्य करे  ऐसा मनोयोग व्यक्त किया।  स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने श्री श्याम जाजू जी एवं अन्य विशिष्ट अतिथियों को शिवत्व का प्रतीक रूद्राक्ष का पौधा भेंट किया तथा बिंदाल, रिस्पना, सुसवा और अन्य नदियों को स्वच्छ करवाने का संकल्प कराया,  श्रद्धालुओं ने बहुत ही जोश से हाथ खडे कर संकल्प को दोहराया। परमार्थ गंगा आरती में श्री श्याम जाजू जी ने सहभाग किया।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...