मुजफ्फरपुर दुष्कर्म मामले में सीबीआई ने समाज कल्याण विभाग से दस्तावेज लिए - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 3 अगस्त 2018

मुजफ्फरपुर दुष्कर्म मामले में सीबीआई ने समाज कल्याण विभाग से दस्तावेज लिए

cbi-take-file-of-muzaffarpur-shelter-home
पटना, 2 अगस्त, बिहार के मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में दुष्कर्म का मामला मिलने के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने गुरुवार को कहा कि उसने बिहार के समाज कल्याण विभाग से मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) से संबंधित दस्तावेज इकट्ठे कर लिए हैं। सीबीआई के एक अधिकारी ने दिल्ली में कहा कि एजेंसी के अधिकारियों ने समाज कल्याण विभाग के पटना स्थित मुख्यालय से एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति के दस्तावेज इकट्ठे किए हैं। अधिकारी के अनुसार, एजेंसी जांच कर रही है कि ठाकुर के एनजीओ और कंपनी कैसे पंजीकृत हुई और क्या राज्य सरकार द्वारा जारी राशि का उन्होंने दुरुपयोग तो नहीं किया? सीबीआई ने समाज कल्याण विभाग के निदेशक से भी मुलाकात की। अधिकारी ने बताया कि एजेंसी विभाग से प्राप्त दस्तावेजों का विश्लेषण करेगी। सीबीआई अधिकारियों ने इस मामले में बुधवार को राज्य समाज कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव अतुल प्रसाद से मुलाकात कर उनसे भी दस्तावेज लिए थे। इस मामले में ठाकुर को गिरफ्तार किया जा चुका है। मुजफ्फरपुर जिले के एक एनजीओ द्वारा संचालित लड़कियों के अस्थायी आश्रय गृह 'बालिका गृह' में कम से कम 34 नाबालिग लड़कियों का यौन उत्पीड़न होने का मामला सामने आया था। टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस मुंबई द्वारा एक आश्रय गृह में एक सोशल ऑडिट करने के बाद यह मामला सामने आया था जिसके बाद इसे बंद कर दिया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: