झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 02 अगस्त - Live Aaryaavart

Breaking

शुक्रवार, 3 अगस्त 2018

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 02 अगस्त

सिर्फ भाजपा ने ही किसानों के हित में काम करके उनकी उन्नति का मार्ग प्रषस्त किया- मनोहर सेठिया
  • गा्रम मातासुला बडा में किसान चैपाल का हुआ  आयोजन

jhabua news
झाबुआ । गरीबों को उनकी परेशानियों से मुक्ति दिलाने के उद्देश्य से ही प्रदेश में महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) योजना शुरू की गयी है और आने वाले समय में यह देश के अन्य राज्यों के लिए मिसाल बनेगी। जिला भाजपा अध्यक्ष मनोहर सेठिया ने गुरूवार को  गा्रम मातासुला बडा में आयोजित किसान चोपाल में बडी संख्या में उपस्थित गा्रमीणों को प्रदेश सरकार की किसान हितैषी योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश में भाजपा की सरकार के आने के बाद से कृषि का रकबा कई गुना बढा है और खेती को लाभ का धंधा बनाने की दिशा में प्रदेश सरकार ने किसानों के लिये विभिन्न योजनाओं के माध्यम से उन्हे लाभाव्ति करने के कदम उठाने से यहां का किसान सम्पन्नता की ओर अग्रसर हुआ है। श्री संठिया ने मुख्यमंत्री संबल योजना का जिक्र करते हुए कहा कि गरीबों की परेशानियां दूर करने के लिए उन्हें रोटी, कपड़ा, मकान, शिक्षा और स्वास्थ्य के संसाधन, बिजली और सामाजिक सुरक्षा मुहैया करा दी जाए, तो उनकी गरीबी स्वमेव ही दूर हो जाएंगी। श्री सेठिया ने कहा कि शिवराजसिंह चैहान ने इसी दर्शन के साथ यह योजना राज्य में  में शुरू की है। उन्होंने दावा किया कि इसके अभूतपूर्व नतीजे सामने आएंगे और अन्य राज्य भी इसे आदर्श मानकर अपनाएंगे। श्री सेठिया ने इसे महायोजना निरूपित करते हुए कहा कि सवा सात करोड़ की आबादी वाले इस राज्य में एक करोड़ 80 लाख से अधिक लोगों की पहचान की गयी है। संबल योजना के अंतर्गत विभिन्न गरीब हितग्राहियों को लाभ देना शुरू कर दिया गया है। सरकार ने इस योजना के क्रियान्वयन के लिए करोडों़ रूपयों का प्रावधान किया है। संबल योजना के तहत इन सभी योजनाओं को समन्वित रूप में लागू किया गया है। इससे गरीब, महिलाएं और समाज की अंतिम पंक्ति का अंतिम व्यक्ति भी लाभांवित होगा। इस योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए पूरे राज्य में अभियान चलाया जा रहा है। विशेष तौर से श्रमिक वर्ग का पंजीयन भी किया जा रहा है, जिससे इस वर्ग के सभी लोगों को योजना का लाभ मिल सके।,उन्होने गा्रमीणों से इस योजना का अािक से अधिक लाभ उठाने का आग्रह किया तथा प्रदेश सरकार की किसान हितैषी योजनाओं के साहित्य का वितरण भी किया । गा्रम मातासुला बडा में आयोजित किसान चैपाल में 200 से अधिक गा्रमीण किसानों एवं माता बहिनों ने भागीदारी की । इस अवसर पर नगरपरिषद अध्यक्ष सुनिता अजनार एवं जनपद अध्यक्ष माना अजनार ने भी अपने विचार व्यक्त किये ।

उज्जवला योजना का उद्देष्य महिला सषक्तिकरण को बढावा देना है-मनोहर सेठिया
  • संबल योजना से हर गरीब के चेहरे पर आयेगी मुस्कान- शांतिलाल बिलवाल
  • समोई में 172 गैस कनेक्षनों को हुआ वितरण

झाबुआ । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उज्जवला योजना भारत के गरीब परिवारों की महिलाओं के चेहरों पर खुशी लाने के उद्देश्य से 1 मई 2016 को शुरू की गई एकमहत्वाकांक्षी एवं महिला संशक्तिकरण की दिशा में अभिनव योजना है। इस योजना के अंतर्गत गरीब महिलाओं को मुफ्त एलपीजी गैस कनेक्शन दिये जारहे है । केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना से गरीब महिलाओं को मिट्टी के चूल्‍हे से आजादी मिल जाएगी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में खाना पकाने के लिए उपयोग में आने वाले जीवाश्म ईंधन की जगह एलपीजी के उपयोग को बढ़ावा देना है। योजना का एक मुख्य उद्देश्य महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना और उनकी सेहत की सुरक्षा करना भी है। गरीब परिवार की महिला सदस्यों को मुफ्त रसोई गैस (एलपीजी) कनेक्शन मुहैया कराने के लिए केन्द्र की सरकार ने करोडो रूपयो की योजना को मंजूरी दी है। इस आदिवासी अंचल में प्रत्येक गा्रम पंचायत क्षेत्र के गा्रमों में ऐसी महिलाओं को निशुल्क एपीजी गैस कनेक्शन दिये जाने का काम तेजी से चल रहा है और इससे गा्रमीणी महिलाओं के चेहरें पर झलकती खुशी दिखाई दे रही है। उक्त उदबोधन जिला भाजपा अध्यक्ष मनोहर सेठिया ने गुरूवार को गा्रम समोई में  172 महिलाओ को उज्जवला योजना के तहत निशुल्क गैस कनेक्शन वितरण के कार्यक्रम में व्यक्त किये । विधायक शांतिलाल बिलवाल ने इस अवसर पर केन्द्र सरकार एवं प्रदेश सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गा्रमीण महिलाओं को लकडी कण्डों से जलने वाले धुएं वाले चुल्हो से निजात दिलाने के लिये उज्ज्वला योजना के तहत गा्रमीण एवं गरीब महिलाओं के लिये उज्जवला योजना क्रियान्वित करके उन्हे धुयें से मुक्ति दिला कर उनके स्वास्थ्य के प्रति संवेदनशीलता वाली योजना प्रारंभ करके महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक अभिनव कदम उठाया है। श्री बिलवाल ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान की संबल योजना एवं श्रमिकों के लिये लागू योजना के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी और कहा कि संबल योजना से हर गरीब के चेहरे पर आयेगी मुस्कान तथा इसे जन्म से लेकर मृत्य तक लोगों को लाभान्वित करने वाली योजना बताया । इस अवसर पर श्रीमती सुनीता अजनार, माना अजनार, भानु भूरिया ने भी अपने विचार व्यक्त किये । गा्रम समोई में आयोजित निशुल्क गैस कनेक्शन वितरण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि विधायक शांतिलाल बिलवाल , जिला भाजपाध्यक्ष मनोहर सेठिया, नगर परिषद अध्यक्षा सुनिता अजनार, जनपद अध्यक्ष माना अजनार, मंडल अध्यक्ष सूरसिंह, भाजयुमो जिलाध्यक्ष भानु भूरिया, अजजा मोर्चा जिला अध्यक्ष शेलेन्द्र सोेलंकी, सरपंच रूपसिंह के अलावा खाद्य विभाग के अधिकारीगण एवं बडी संख्या में गा्रमीणजन, महिलायें एवं पार्टी कार्यकर्ता उपस्थित थे । कार्यक्रम का संचालन खाद्य अधिकारी श्री गामड ने किया ।

नगर मंडल ने किया किसान चैेपाल का आयोजन
  • संबल योजना ने गरीबों की भाग्यरेखा को खोला- हर चेहरे पर दिखाई्र दे रही मुस्कान-बबलु सकलेचा

jhabua news
झाबुआ । भारतीय जनता पार्टी नगर मंडल झाबुआ द्वारा गुरूवार को किशनपुरी में किसान चैपाल का आयोजन  किया गया । किसान चैपाल में मुख्य वक्ता के रूप  में समाजसेवी श्रीमती किरण शर्मा, पूर्व नपा अध्यक्ष धनसिंह बारिया, नगर मंडल अध्यक्ष बबलु सकलेचा, महिला मोर्चा की अध्यक्ष श्रीमती बसंती बारिया, ओम शर्मा,जुवानसिंह गुण्डिया, मुकेश अजनार, नाना राठौर सहित सैकेडो की संख्या में किसान एवं पार्टी कार्यकर्ता उपस्थित रहे । इस अवसर पर मुख्य वक्ता श्रीमती किरण शर्मा ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान की विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं के बारे मे बताते हुए कहा कि सिर्फ भाजपा की सरकार ही किसानों एंव गरीबों के समग्र उत्थान के लिये कृत संकल्पित होकर जनता से किये गये हर वादे को पूरा करके योजनाओं को धरातल पर उतार कर लोगों को लाभान्वित करने का काम कर रही है। श्रीमती शर्मा ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह के पत्र का वाचन करते हुए प्रदेश को विकसित प्रदेश का दर्जा दिलाने का जिक्र किया एवं हर वर्ग के लिये लागू योजनाओं के बारे मे विस्तार से बताया । इस अवसर पर नगर मंडल अध्यक्ष बबलु सकलेचा ने अपने संबोधन में कहा कि भाजपा की सरकार के आने के बाद ही लागू की गई किसान हितैशी योजनाओं के कारण प्रदेश कृषि के क्षेत्र में अग्रणी स्थान पर पहूंचा है और केन्द्र सरकार ने पांच पाचं बार कृषि कर्मण पुरस्कार से प्रदेश को सम्मानित किया है । श्री सकलेचा ने मुख्य मंत्री की संबल योजना का विस्तार जानकारी देते हुएकहा कि असंगठित कर्मकारों के लिये लागू इस योजना से हर गरीब को योजना का लाभ दिया जारहा है तथा बच्चे के जन्म से लेकर प्रसूति होने तक मां एवं बच्चें के आरोग्य के लिये 12 हजार का आर्थिक अनुदान के साथ ही परिवार के सदस्यों की असामयिक मौत होने  पर अनुदान के अलावा अन्त्ष्ेटी तक के लिये राशि दी जारही है। किसान चैपाल मेंकेन्द्र एवं प्रदेश सरकार की योजनाओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी गई ।   इस अवसर पर कई वक्ताओं ने अपने विचार व्यक्त किये तथा योजनाओं का साहित्य वितरण किया गया । कार्यक्रम के अन्त मे आभार प्रदर्शन धनसिंह बारिया ने किया ।

देष के प्रख्यात विधि विषेषज्ञों ने दिया प्रषिक्षण, श्री भंडारी को ग्रुप क्र. 1 का बनाया लीडर
  • बाल कल्याण समिति की तीन दिवसीय कार्यषाला भोपाल में हुई संपन्न

jhabua news
झाबुआ। मप्र शासन द्वारा संपूर्ण प्रदेष में गठित बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) के मनोनीत अध्यक्ष एवं सदस्यों की प्रथम प्रषिक्षण एवं कार्यषाला का आयोजन 30 जुलाई से 1 अगस्त तक नेषनल लाॅ इंस्ट्ीट्यूट भोपाल में हुआ। जिसमें झाबुआ जिले से समिति अध्यक्ष श्रीमती निवेदिता सक्सेना, सदस्य यषवंत भंडारी, गोपालसिंह पंवार, ममता तिवारी एवं चेतना सकलेचा ने भाग लिया। कार्यषाला में किषोर न्याय, बालकों की देखरेख और अधिनियम 2015 एवं आदर्ष नियम 2016 के साथ लैगिंग अपराधों से बालकों को संरक्षण अधिनियम 2012, बाल श्रम एवं दत्तक अधिनियम आदि के बारे में देष के प्रख्यात विभिन्न विधि विषेषज्ञों द्वारा प्रषिक्षण दिया गया। इस अवसर पर झाबुआ जिले के सीडब्ल्यूसी के वरिष्ठ सदस्य यषवंत भंडारी को ग्रुप क्रमांक 1 का लीडर भी बनाया गया। प्रदेश के समस्त जिलों में गठित यह समिति 1 से 18 वर्ष तक के बच्चों के हितों एवं संरक्षण के लिए न्यायपीठ के रूप में कार्य करेगी तथा भारतीय दंड संहिता 1973 (1974 का 2) द्वारा इस समिति के सदस्यों को प्रथम वर्ग मजिस्ट्रेट की प्रदत्त शक्तियां प्राप्त है। झाबुआ जिले में उक्त समिति का 13 जुलाई 2018 के राजपत्र में प्रकाषन हुआ तथा समिति के सदस्यों द्वारा 18 जुलाई को कार्यभार ग्रहण किया गया। पश्चात् 30 जुलाई को भोपाल में आयोजित प्रषिक्षण एवं कार्यषाला मंे गठित समिति के अध्यक्ष एवं सभी सदस्यों ने भाग लेकर प्रषिक्षण प्राप्त किया। कार्यषाला में प्रषिक्षण राजस्थान के गोविन्द मेनीवाल, रांची से डाॅ. निषांत गोयल, दिल्ली से कुमार साइलाब, मुंबई से पधारी डाॅ. निलिमा मेहता, दिल्ली से राजमंगल प्रसाद, बैंगलोर की खुषी कुलसप्पा जैसे देष के प्रख्यात विधि विषेषज्ञों ने श्रेष्ठ प्रषिक्षण प्रदान किया।

ग्रीप लीडर बनाया गया
कार्यषाला में प्रदेष के ग्वालियर, गुना, उज्जैन, इंदौर, धार, बड़वानी, आलीराजपुर, शाजापुर, सिहोर, जबलपुर, नरसिंहपुर तथा झाबुआ जिले के करीब 40 सदस्यों ने भाग लिया। जिसमें झाबुआ की समिति के वरिष्ठ सदस्य यषवंत भंडारी को कार्यषाला के ग्रुप क्र. 1 का लीडर बनाया गया। श्री भंडारी द्वारा प्रस्तुत किए गए विधिक ज्ञान, अनुभव एवं प्रभावी व्यक्तव्य की कार्यषाला मंे उपस्थित प्रषिक्षकों एवं सभी सदस्यों ने काफी सहराना की। बाद प्रषिक्षकों ने कहा कि श्री भंडारी अपने विधिक ज्ञानार्जन से झाबुआ का नाम पूरे देष में रोषन कर रहे है।

अपने अनुभव सुझाव किए
प्रषिक्षण के दौरान समिति सदस्य गोपालसिंह पंवार ने कहा कि मेरे जीवन की यह पहली विधि से संबंधित कार्यषाला थी, जिसमें प्रषिक्षकों द्वारा अपने विषयों के संबंध में बहुत ही अच्छी तरीके से समझाया। सदस्य श्रीमती ममता तिवारी ने बताया कि इस कार्यषाला के माध्यम से उन्हें एक नया आत्मविष्वास प्राप्त हुआ तथा बच्चों को कानून के संबंध में बहुत सारी जानकारी प्रषिक्षकों द्वारा प्रदान की गई। सदस्य चेतना सकलेचा ने कहा कि उनके जीवन की यह पहली कार्यषाला थी, जिसमें विषेषज्ञों द्वारा दिए गए प्रषिक्षण से वह काफी अभिभूत हुई एवं कई अनछुएं विषयों पर प्रषिक्षकों द्वारा बहुत सुंदर एवं सरल तरीके से समझाया गया।

टीम भावना के साथ समिति करेगी कार्य
प्रशिक्षण प्राप्त करने के पश्चात् जिला बाल कल्याण समिति अध्यक्ष श्रीमती निवेदिता सक्सेना ने कहा कि तीन दिवसीय इस कार्यषाला के प्रषिक्षकों से वह बहुत ही प्रभावित हुई है तथा उनके द्वारा दिए गए प्रषिक्षण एवं समझाईष को ही अपना आदर्ष मानकर वे जिले में कार्य करेंगी तथा सभी सदस्यों के साथ एक टीम भावना से बाल संरक्षण एवं बाल हितों के लिए निरंतर कार्य किया जाएगा। श्रीमती सक्सेना ने आगे कहा कि झाबुआ जिले के लिए यह गौरव का विषय है कि यषवंत भंडारी जैसे वरिष्ठ एवं अनुभवी व्यक्तित्व इस समिति के सदस्य है, जिन्होंने तीन दिन की कार्यषाला में ग्रुप नंबर 1 का लीडर बनकर कार्यषाला के समस्त विषयों एवं चर्चा में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करते हुए झाबुआ जिले की पहचान पूरे प्रदेष में बनाई। समिति के सभी सदस्यों द्वारा आयोजन की श्रेष्ठ व्यवस्था के लिए महिला एवं बाल विकास कल्याण विभाग यूनिसेफ को धन्यवाद देते हुए इस हेतु कार्यषाला प्रभारी शहबाज खान के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।

मनकामेष्वर मंदिर सेवा समिति का पुनर्गठन, श्री रामावत अध्यक्ष मनोनित, 14 अगस्त से होगी सप्त दिवसीय नवग्रह कथा

झाबुआ । स्थानीय कैलाश मार्ग, छोटा तालाब स्थित श्री मन कामेश्वर महादेव मंदिर की समिति का पुनर्गठन  आयोजित बैठक में सर्वानुमति से किया गया । समिति के अध्यक्ष अजय रामावत को सर्वानुमति से चयन किया गया । श्री रामावत ने बताया कि स्व.पण्डित हरिप्रसाद अग्निहौत्री, एवं  स्व.नरोत्तमसिंह पंवार के द्वारा भगवान मनकामेश्वर महादेव मंदिर के उन्नयन एवं विकास के लिये जो सेवायें दी गई तथा नगर के धार्मिक स्थानों में अग्रणी स्थान के रूप में इस मंदिर को उनके सपनों के अनुरूप् आकर्षक एवं दर्शनीय बनाने के लिये  नवीन समिति गठित की गई है जिसमे अजय रामावत को अध्यक्ष, मनोज कोठारी, रविराज राठौर को उपाध्यक्ष, देवेन्द्र पुरी को सचिव, जगदीश पंवार को सह सचिव, संजय सिर्सादिया को कोषाध्यक्ष, पण्डित द्विजेन्द्र व्यास को सह कोषाध्यक्ष बनाया गया हे । वही नीरजसिंह राठौर, जितेन्द्र पटेल, हेमेन्द्र पटेल, एवं राम गोपाल सोनगरा को संरक्षक बनाया गया है । परामर्शदाता के रूप में भेरूसिंह सांकला, राजेश वर्मा, विष्णुपुरी पण्डित, राजेश कत्थक, सुजानसिंह सांकला एवं राजेश नागर को दायित्व सोपा हेै । मीडिया प्रभारी विक्रमसिंह सांकला, सुनील चैहान, एवं महेन्द्र राठौर रहेगें एवं समिति के सदस्य के रूप  में अमृतपुरी गोस्वामी, अजीत चैहान, भावेश कत्थक एवं लोकेन्द्र चैहान को मनोनित किया गया है। नव नियुक्त अध्यक्ष अजय रामावत के अनुसार भगवान मनकामेश्वर मंदिर परिसर में आगामी 14 अगस्त मंगलवार से 20 अगस्त सोमवार तक सप्त दिवसीय संगीत मय नवग्रह कथा का आयोजन किया गया है जिसमें रतलाम के प्रसिद्ध कथावाचक पण्डित हरिओम शर्मा द्वारा  कथा की जावेगी तथा यज्ञ अनुष्ठान पण्डित द्विजेन्द्र व्यास द्वारा किया जावेगा । श्री रामावत के अनुसार 20 अगस्त को कथा की पूर्णाहूति पर सायं 6 बजे से मनकामेश्वर महादेव मंदिर से भगवान भालेनाथ मनकामेश्वर की भव्य शोभायात्रा निकाली जावेगी तथा भगवान भालेनाथ नगर भ्रमण कर पावन मास मे नगरवासियों को आशीर्वाद प्रदान करेगें । आयोजन समिति ने नगर की धर्मप्रेमी जनता से अधिक से अधिक संख्या मे कथा श्रवण लाभ लेने के लिये अपील की है ।

“मिल-बाँचे मध्यप्रदेष“ कार्यक्रम-2018 अब 17 अगस्त को
     
झाबुआ । मध्यप्रदेष के समस्त षासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयो मे दिनांक 17 अगस्त 2018 को “मिल बांचे मध्यप्रदेष“ कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा हैं। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देष्य बच्चो मे भाषा की समझ के कौषल को विकसित करना, षैक्षणिक गुणवत्ता एवं समुदाय की सहभागिता बढाना है। साथ ही पाठ्यपुस्तक के अतिरिक्त अन्य रुचिकर पुस्तको को पढने के प्रति रूचि विकसित करना है। यह षासन की सर्वाेच्च प्राथमिकता का कार्यक्रम है। समस्त विद्यालयो मे वाॅलिन्टियर उपस्थित होकर बच्चो के साथ संवाद करेंगे। एम.एड., बी.एड. एवं डी.एल.एड. के छात्राध्यापक भी मिल-बांचे मध्यप्रदेष हेतु पंजीयन करवाकर दिनांक 17 अगस्त 2018 को विद्यालयो मे बच्चो के साथ संवाद करेंगे।

4 अगस्त को पैलेस गार्डन मे होगा स्व-रोजगार सम्मेलन
         
jhabua news
झाबुआ । प्रदेश के सभी जिलों के साथ झाबुाआ में भी स्थानीय पैलेस गार्डन झाबुआ मे 4 अगस्त को स्व-रोजगार सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। जिले में हितग्राही सम्मेलन में स्व-रोजगार ऋण वितरण, रोजगार मेले का आयोजन, संबल योजना अंतर्गत हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र, चेक का वितरण, तेंदूपत्ता संग्राहक बोनस एवं सामग्री वितरण, सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण विभाग की विभिन्न हितग्राहियों एवं अन्य विभागों के लाभान्वित हितग्राहियों को सम्मेलन में लाभान्वित किया जाएगा। कलेक्टर श्री आषीष सक्सेना ने सभी संबंधित अधिकारियो को आवष्यक व्यवस्थाएं सुनिष्चित कर हितग्राहियो को लाभान्वित करने हेतु निर्देषित किया हैं। साथ ही मुख्यमंत्री के कार्यक्रम के लाइव प्रसारण को देखने की व्यवस्था करने के निर्देष भी संबंधित अधिकारियो को दिये।

खरीफ फसलों के ई-उपार्जन के लिये 10 अगस्त से पोर्टल पर होगा पंजीयन
       
झाबुआ । प्रदेश में खरीफ 2018 फसलों के किसानों के फसलवार पंजीयन ई-उपार्जन पोर्टल पर 10 अगस्त से 31 सितम्बर तक किए जाने के निर्देश अपर मुख्य सचिव सह कृषि उत्पादन आयुक्त द्वारा दिए गए हैं। ई-उपार्जन पोर्टल पर जिसमें झाबुआ जिले के लिये अधिसूचित फसल में मूंगफली, सोयाबीन, अरहर, उड़द, तथा कपास फसल का पंजीयन किया जाएगा। खरीफ-2018 में अन्य संबंधित फसलों का ई-उपार्जन पोर्टल पर पंजीयन किया जाएगा तथा इन फसलों के उपार्जन, भावांतर, प्रोत्साहन राशि भुगतान के संबंध में निर्णय राज्य शासन द्वारा लिया जाकर पृथक से निर्देश जारी किए जाएंगे पंजीकृत किसानों के बोनी के रकबे का सत्यापन कार्य राजस्व विभाग द्वारा इस संबंध में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग तथा कृषि विभाग द्वारा जारी किए जाने वाले दिशा निर्देशों के अनुरूप किया जाएगा।

अब 31 अगस्त तक आयकर रिटर्न भर सकेंगे करदाता
         
झाबुआ । करदाताओ की परेषानी को महसूस करते हुए आयकर विभाग ने रिटर्न फाइल करने की तिथि बढाकर 31 अगस्त कर दी है। पहले यह काम 31 जुलाई तक पूरा करना था। लेकिन विभाग का सर्वर डाउन होने के कारण व्यापारी व कर्मचारी अपना रिटर्न दाखिल नही कर पा रहे थे। जिन करदाताओ ने रिटर्न जमा कर दिये थे उनके टैक्स पोर्टल पर प्रदर्षित नही हो पा रहे थे। यह षिकायत जब आयकर विभाग के आला अफसरो के ध्यान मे आई तो अंतिम तिथि को एक महीने और आगे बढा दिया गया हैं। सर्वर डाउन होने से लोग अपना आधार नंबर लिंक नही कर पा रहे हैं। ज्यादा परेषानी उन लोगो को है जो षहर से बाहर कार्यरत है और अपने स्थानीय वकील या सलाहकार से रिटर्न की ई-फाइलिंग करना चाहते है।

किसान नीदा नियंत्रण एवं नमी संरक्षण के लिये डोरा चलाये, पशुओ को दे संतुलित आहार

झाबुआ । कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ द्वारा किसानो को सलाह दी गई है कि आगामी 5 दिवसों में तापमान सामान्य रहने व वर्षा 43.0 मि.मी. होने की संभावना है इसे देखते हुए किसान खेत मे नीदा नियंत्रण, वातन एवं नमी संरक्षण हेतु डोरा चलाने का कार्य करे। लगातार बादलयुक्त मौसम व हल्की वर्षा को देखते हुए खरीफ फसलो मे सेमीलूपर, चने व तम्बाकू की इल्ली व कामलिया कीट का प्रकोप होने की संभावना को देखते हुए फसलो की सतत निगरानी रखे व इसके नियंत्रण हेतु क्यूनालफाॅस या प्रोफेनोफाॅस दवा 1.500ली./हेक्ट. की दर से छिडकाव करे। अनाज वाली 20 से 25 दिन की फसलो मे नत्रजन उर्वरक की अनुषंसित मात्रा का 1/3 भाग युरिया के रूप मे दे। दुधारु पषुओ को हरा चारा 25 किलो प्रति पशु प्रति दिन व संतुलित आहार एवं मिनरल की आपूर्ति हेतु 35 से 40 ग्राम प्रति पशु के हिसाब से खुराक दे।

झाबुआ विधानसभा क्षेत्र मे पहुंची जागरूकता वैन, वोटरो ने वीवीपैट और ईवीएम से वोट डालने की प्रक्रिया को समझा
       
jhabua news
झाबुआ । मध्यप्रदेश में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव में पहली बार वीवीपैट वोटिंग मषीन का इस्तेमाल होगा। मतदान-प्रक्रिया को निष्पक्ष एवं पारदर्शी बनाने के लिये मतदाताओं को ईवीएम और वीवीपैट के संबंध में जानकारी देने के लिये जागरुकता वैन झाबुआ विधानसभा क्षेत्र के ग्राम मोहनपुरा, परवट, उमरी मे पहुंची एवं ग्रामीणो को वोट डालने की प्रक्रिया से अवगत कराया। वैन मे उपस्थित अधिकारियो ने मतदाताओ को बताया कि इस बार ईवीएम के साथ साथ वीवीपैट मषीन भी मतदान के समय रहेगी, जिसमे से एक पर्ची निकलेगी जिसे देखकर मतदाता यह जान पाएगा कि उसने जिस प्रत्याषी का बटन दबाया है उसी प्रत्याषी को उसका वोट मिला है या नही। ग्रामीणो ने स्वयं मषीन का बटन दबाकर समक्ष मे प्रक्रिया को देखा।  मतदाता जागरूकता वैन में प्रचार प्रसार के लिये एलसीडी, ईवीएम मषीन और वीवीपैट मषीन रखकर विषेषज्ञो द्वारा मशीनों के बारे में जानकारी दी जा रही है। तथा प्रचार सामग्री भी वितरित की जा रही है। वैन में एलसीडी के माध्यम से लघु फिल्मे दिखाकर वीवीपैट और ईवीएम का प्रदर्शन करके मतदाताओ को वोट डालने की प्रक्रिया समझाई जा रही है।

कलेक्टर ने अनुपमा निनामा, संयुक्त कलेक्टर को नियुक्त किया, एक्सपेंडीचर माॅनीटरिंग सेल का नोडल अधिकारी
         
झाबुआ । भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्वाचन के व्यय निगरानी के लिये श्रीमती अनुपमा निनामा, संयुक्त कलेक्टर झाबुआ को कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री आषीष सक्सेना ने निर्वाचन कार्य के लिये एक्सपेंडीचर माॅनीटरिंग सेल का नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। 

माशिमं ने शिथिल किया 10 प्रतिशत एडमिशन का नियम    
   
झाबुआ । माध्यमिक शिक्षा मंडल ने भोपाल सहित प्रदेश भर के उन 3 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राओं को रेगुलर विद्यार्थी के रूप में पढ़ने का मौका दे दिया है, जो स्कूल उससे संबद्ध हैं। अब तक माशिमं से संबंधित करीब 25 हजार सरकारी व प्राइवेट हाईस्कूल व हायर सेकंडरी स्कूलों में नियमित के अलावा केवल 10 फीसदी विद्यार्थियों को ही इनमें एडमिशन लेने का मौका मिल पाता था।

यात्रा से 120 दिन पहले तक बुक करा सकते हैं टिकट    
  
झाबुआ । इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन ने ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुकिंग को लेकर बदलाव किए हैं। अब रेल यात्री टिकट यात्रा से 120 दिन पहले बुक करा सकते हैं। सुबह 8 से 10 बजे तक एक आईडी से 2 टिकट बुक करा सकते हैं। आधार वेरिफाइड यूजर्स हर महीने 12 टिकट करा सकेंगे।

सफर पर दिव्यांग को छूट न देने पर बस संचालक पर होगी कार्रवाई    
  
झाबुआ । शासन के निर्देशानुसार बस में सफर करने के लिए दिव्यांग को किराये में 50 फीसदी की छूट मिलेगी। दिव्यांग होने का प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करना होगा। राज्य सरकार ने अधिसूचना जारी कर दी है। यदि कोई बस संचालक आदेश का पालन नहीं करता है तो उसकी शिकायत आरटीओ दफ्तर में की जा सकती है। सरकार के आदेश का पालन नहीं करने वाले बस संचालक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

निःशक्त मतदाताओं को रेम्प, व्हील-चेयर, ब्रेललिपि की सुविधा उपलब्ध होगी
  • 27 सितम्बर, 2018 को होगा मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन

झाबुआ । मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री व्ही.एल. कान्ताराव ने मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के साथ मतदाता सूची की द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण संबंधी बैठक में कहा कि भारत निर्वाचन आयोग निष्पक्ष, पारदर्शी, समावेशी और विश्वसनीय चुनाव कराने के लिए  कृत-संकल्पित हैं। बैठक में मान्यता प्राप्त सात राजनैतिक दलों को मतदाता सूची की सॉफ्ट कॉपी उपलब्ध कराई गई एवं जिलों में भी राजनैतिक दलों को विधानसभावार मुद्रित प्रतियां उपलब्ध कराई गई हैं। इसके साथ ही 19 जनवरी, 2018 से 31 जुलाई 2018 के बीच मतदाता सूची में जो भी परिवर्तन हुये हैं, उसकी पूरक मतदाता सूची भी अलग से सभी राजनैतिक दलों को दी गई। सभी राजनैतिक दल 22 दिनों के अन्दर (21 अगस्त तक) मतदाता का नाम जोड़ने, हटाने, परिवर्तन करने के लिए आवेदन बी.एल.ओ. के पास जमा करवा सकते हैं। इसके बाद 27 सितम्बर 2018 को मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन किया जायेगा। 30 जून 2018 तक 18 वर्ष की आयु पूर्ण किये सभी युवा मतदाताओं को इस बार मतदाता सूची में जोड़ने का काम किया गया है। लगभग 1 करोड़, 18 लाख घरों में सर्वे किया गया है, जिसमें 51 लाख आवेदन पत्र प्राप्त हुए, जिसमें लगभग 11 लाख 40 हजार नये मतदाता जोड़ने के आवेदन प्राप्त हुये हैं, लगभग 25 लाख आवेदन नाम हटाने के लिए प्राप्त हुए। शेष आवेदन नाम एवं स्थान परिवर्तन आदि के प्राप्त हुए। चुनाव आयोग द्वारा पात्र मतदाताओं को 100 प्रतिशत फोटो परिचय पत्र वितरित कर दिये गए हैं। सेवा मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 31 जनवरी 2018 को किया गया है, जिसमें 51 हजार 283 सेवा मतदाता सूची में दर्ज हैं। इन सभी को इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसमिटेड पोस्टर बैलेट द्वारा मतदान करवाया जायेगा। दावे एवं आपत्ति के लिए चुनाव आयोग के पोर्टल ूूूण्दअेचण्पद पर भी ऑनलाईन आवेदन किया जा सकता है। द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के प्रारूप प्रकाशन के बाद निर्धारित अवधि में प्राप्त दावे-आपत्तियों की जानकारी मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की वेबसाईट ूूूण्बमवउंकीलंचतंकमेीण्दपबण्पद पर प्रतिदिन देखी जा सकती है। मतदान केन्द्रों के युक्तियुक्तकरण से पूर्व निर्वाचन 2013 की तुलना में 12 हजार 146 मतदान केन्द्र बढ़े हैं। इस वर्ष विधानसभा चुनाव में 65 हजार 340 मतदान केन्द्रों पर मतदान होगा। ग्रामीण क्षेत्र के लिए प्रत्येक मतदान केन्द्र पर 1200 और शहरी क्षेत्र के लिए प्रत्येक मतदान केन्द्र पर 1400 औसत मतदाता रखे गये हैं। चुनाव आयोग ने सर्वे के दौरान ही 4 लाख 60 हजार निःशक्तजनों को चिन्हित कर लिया है, ताकि मतदान केन्द्रों पर उनकी आवश्यकता के अनुसार सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सके। निःशक्तजन टोल फ्री नंबर 1950 अथवा जिला निर्वाचन अधिकारी ई.आर.ओ., ए.ई.आर.ओ., बी.एल.ओ. को भी फोन कर घर पहुँच सुविधा प्राप्त करवा सकता है। फोन करने पर बी.एल.ओ. निःशक्तजनों के निवास पर पहुँच कर उनकी आवश्यकतानुसार सुविधा उपलब्ध करवाएंगे। मध्यप्रदेश में इस बार विधानसभा चुनाव में ई.व्ही.एम. एवं व्ही.व्ही.पेट मशीन का उपयोग होगा, जिसमें मतदाता द्वारा दिये गये वोट की पर्ची 7 सेकण्ड के लिए दिखेगी और फिर वह पर्ची मशीन में ही कट कर गिर जायेगी। इससे मतदाता ई.व्ही.एम. के बटन दबाने के बाद यह देखकर निश्चिंत होंगे कि जिस प्रत्याशी के चुनाव चिन्ह पर उन्होंने बटन दबाया है,उसी चुनाव चिन्ह की पर्ची व्ही.व्ही.पेट पर दिख रही है। सभी मतदान केन्द्रों पर निःशक्त मतदाताओं के लिये रेम्प, मतदान केन्द्रों पर समुचित प्रकाश, पेयजल, टॉयलेट छायादार बैठने की व्यवस्था, हैल्प डेस्क पर बी.एल.ओ. भी उपलब्ध रहेंगे। विगत विधानसभा चुनाव की तुलना में इस बार 28 लाख मतदाता बढ़े है। कुल 4 करोड़ 94 लाख 42 हजार मतदाता मतदान का प्रयोग करेंगे।

जिलों में शिक्षक सदन का होगा सुदृढ़ीकरण, शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान, अंशदान राशि आर्थिक सहायता के नये निर्देश जारी

झाबुआ । स्कूल शिक्षा विभाग शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान में दी जाने वाली अंशदान राशि से जिलों में शिक्षक सदन का सुदृढ़ीकरण का कार्य कराएगा। जिन जिलों में शिक्षक सदन नहीं हैं, वहाँ 10 कमरे और संभागीय मुख्यालय में 20 कमरे के शिक्षक सदन का निर्माण करवाया जायेगा। इस संबंध में आयुक्त लोक शिक्षण श्रीमती जयश्री कियावत ने संभागीय कार्यालय के संयुक्त संचालक शिक्षा और जिला शिक्षाधिकारी को निर्देश जारी किये हैं। इसके साथ ही, प्रदेश के शिक्षकों द्वारा शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान को वर्तमान में दिये जा रहे वार्षिक अंशदान की राशि में वृद्धि के संबंध में नये निर्देश जारी किये गये हैं। वर्तमान में स्कूल शिक्षा विभाग में पदस्थ सहायक शिक्षक 25 रुपये, शिक्षक 50 रुपये और व्याख्याता एवं प्राचार्य से 100 रुपये वार्षिक स्वैच्छिक अंशदान की राशि एकत्र की जाती है। बैठक में लिये गये निर्णय के अनुसार अब सहायक शिक्षक से 100 रुपये, शिक्षक से 150 रुपये तथा प्राचार्य एवं व्याख्याता से 200 रुपये और सहायक संचालक एवं उनसे वरिष्ठ अधिकारी से 300 रुपये प्रति वर्ष अंशदान स्वैच्छिक रूप से शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान में जमा करवाया जायेगा। वर्ष 2018-19 का अंशदान जुलाई-अगस्त माह में स्वैच्छिक रूप से शिक्षकों से प्राप्त कर शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान, इलाहाबाद बैंक, गौतम नगर, भोपाल की शाखा में जमा करवाया जायेगा। जिले से जो राशि शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान में अंशदान के रूप में जमा होगी, उसकी 20 प्रतिशत राशि संबंधित संभागीय संयुक्त संचालक एवं 30 प्रतिशत राशि संबंधित जिला शिक्षाधिकारी को शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान की गतिविधियों के संचालन के लिये उपलब्ध करवाई जायेगी। शेष 50 प्रतिशत राशि शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान, लोक शिक्षण संचालनालय में प्रतिष्ठान की गतिविधियों के लिये रखी जायेगी। शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान से शिक्षकों, अध्यापकों और उनके आश्रितों को गंभीर बीमारी में दी जा रही आर्थिक सहायता राशि में भी वृद्धि की है। गंभीर बीमारी होने पर 10 हजार रुपये तक की राशि जिला शिक्षाधिकारी और 20 हजार रुपये तक की राशि संभागीय संयुक्त संचालक, स्कूल शिक्षा द्वारा मंजूर की जा सकेगी। जिला शिक्षाधिकारी की अनुशंसा पर आयुक्त लोक शिक्षण गंभीर बीमारी पर शिक्षकों के आश्रितों एवं शिक्षकों को 50 हजार रुपये तक की राशि मंजूर कर सकेंगे।

संस्थागत प्राथमिकता के लिये 2 से 10 अगस्त तक ह¨गी काउंसलिंग
         
झाबुआ । प्रदेश में बी.ई/बी. आर्किटेक्चर/बी.डी. फार्मेसी पाठ्क्रम¨ं में संस्थागत प्राथमिकता सीट¨ं के लिए (पदेजपजनजपवदंस चतममितमदबम ेमंजे) काउंसलिंग 2 अगस्त से 10 अगस्त, 2018 तक ह¨गी। काउंसलिंग उन संस्थाअ¨ं में आय¨जित ह¨गी, जिन्ह¨ंने इन सीट¨ं के लिये सहमति पत्र के साथ निर्धारित तिथि तक आवेदन किया है। संस्थागत प्राथमिकता सीट¨ं के अन्तर्गत एआईसीटीई द्वारा  स्वीकृत प्रवेश क्षमता के 10 प्रतिशत स्थान¨ं तक ही प्रवेश की कार्यवाही की जायेगी। इन सीट¨ं पर प्रवेश पश्चात संस्था द्वारा घ¨षित वार्षिक शिक्षण शुल्क ही लिया जायेगा। संस्थागत प्राथमिकता सीट¨ं के के लिये उपलब्ध संस्थान¨ं की सूची अ©र उनके द्वारा इन सीट¨ं पर प्रवेशित अभ्यर्थिय¨ं से लिये जाने वाला शिक्षण शुल्क तथा विस्तृत प्रक्रिया वेबसाइट ूूू.कजम.उचवदसपदम.हवअ.पदएवं ूूू.कजमउचबवनदेमससपदह.वतह पर उपलब्ध है।

महीने के प्रथम मंगलवार को मनेगा राजस्व दिवस
        
झाबुआ । राज्य शासन द्वारा प्रत्येक माह के प्रथम मंगलवार को राजस्व दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है। राजस्व विभाग से संबंधित कार्यों को समय-सीमा में पूरा करने और नागरिकों को समय पर सुविधाएँ उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से यह निर्णय लिया गया है। प्रदेश में सभी राजस्व न्यायालयों में एक वर्ष से अधिक समय से लंबित प्रकरणों की सूची तैयार कर आपसी सहमति से निराकृत करने के प्रयास किये जायेंगे। यदि आपसी सहमति से निराकृत नहीं हो पाते हैं, तो 10 दिन में तिथि निर्धारित कर गुण-दोष के आधार पर प्रकरण निराकृत करने के निर्देश दिये गये हैं। इसका उद्देश्य एक वर्ष से अधिक समय के सभी प्रकरणों का निराकरण सुनिश्चित करना है। नामांतरण, बँटवारा और सीमांकन के लंबित प्रकरणों की समीक्षा राजस्व दिवस में की जायेगी। जिन प्रकरणों में स्थल निरीक्षण जरूरी है, उनमें तिथि निर्धारित कर शीघ्र निरीक्षण करवाया जायेगा। राजस्व दिवस पर एक माह से अधिक की समयावधि से लंबित प्रत्येक प्रकरण का संक्षिप्त प्रतिवेदन लिया जायेगा। त्वरित निराकरण वाले राजस्व मामले जैसे आदेशों की प्रविष्टि पोर्टल पर करना, खसरा/नक्शा/राजस्व प्रकरण की नकल देना, ऋण पुस्तिका प्रदान की जाना, प्रमाण-पत्र बनाया जाना आदि प्रकरणों का निराकरण राजस्व दिवस के दिन ही करें। पीठासीन अधिकारियों द्वारा विगत माह में राजस्व प्रकरणों में पारित आदेशों के अमल की समीक्षा की जायेगी। प्रत्येक राजस्व दिवस पर सभी पीठासीन अधिकारी अपने अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत सी.एम. हेल्पलाइन के 5 प्रकरण, जिनमें आवेदक द्वारा असंतुष्टि दर्ज कराई गई है, की व्यक्तिगत सुनवाई करेंगे। कलेक्टर्स को निर्देशित किया गया है कि राजस्व दिवस पर सभी पीठासीन अधिकारियों एवं अधीनस्थ राजस्व अमले को अन्य सभी कार्यों से मुक्त रखा जाये। राजस्व दिवस पर सभी राजस्व निरीक्षक एवं पटवारी बस्ता सहित तहसील मुख्यालय पर उपस्थित रहेंगे। किसी भी नागरिक का कार्य तहसील या अनुविभाग कार्यालय में लंबित हो, तो वह राजस्व दिवस पर उपस्थित होकर आवेदन कर सकेगा। आवेदनों के निराकरण की जानकारी आवेदक को अनिवार्य रूप से दी जायेगी।

राजस्व दिवस की प्राथमिकताएँ एवं लक्ष्य
तहसील/अनुविभाग अंतर्गत विगत माह की राजस्व विभाग संबंधी समस्याओं का निराकरण। निराकरण संभव होने के बाद भी लंबित रहने वाले प्रकरणों का चिन्हांकन। एक माह से अधिक लंबित सामान्य प्रकरणों का निराकरण।सी.एम. हेल्पलाइन में लंबित एवं असंतुष्टि वाले प्रकरणों में शिकायतकर्ता से समक्ष में चर्चा कर समाधान करना। राजस्व दिवस पर प्राप्त आवेदन-पत्रों का निराकरण करना। राजस्व विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों की जानकारी देना। राजस्व संबंधी कार्यों में विश्वसनीयता और गुणवत्ता बढ़ाना।

31 अगस्त तक चलेगा प्रदेश के ग्रामीण अंचल¨ं में ष्स्वच्छ सर्वेक्षण-2018श्श्
      
झाबुआ । स्वच्छ भारत मिशन में शहरी क्षेत्र की तर्ज पर अब ग्रामीण क्षेत्र¨ं में भी स्वच्छ सर्वेक्षण-2018 करवाया जायेगा। यह सर्वेक्षण एक अगस्त से 31 अगस्त, 2018 तक ह¨गा। पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय द्वारा पूरे देश के 680 जिल¨ं में थर्ड पार्टी सर्वेक्षण करवाया जायेगा। इसी क्रम में मध्यप्रदेश के 51 जिल¨ं चुनिंदा 510 ग्राम¨ं का रेण्डमली चयन कर यह सर्वेक्षण करवाया जायेगा। इसमें भारत सरकार द्वारा निर्धारित एजेंसी द्वारा चयनित ग्राम¨ं में स्वच्छता अभियान में करवाये गये कायर्¨ं की गुणात्मकता अ©र संख्यात्मकता का परीक्षण किया जायेगा। स्वच्छ सर्वेक्षण तीन तरह से किया जायेगा। इसमें 35 प्रतिशत अंक सिटीजन फीडबैक से, 35 प्रतिशत अंक सर्विस लेवल प्र¨ग्रेस तथा 30 प्रतिशत अंक सर्वेक्षण एजेंसी द्वारा मूल्यांकित किया जायेगा।

ये रहेंगे मापदण्ड
सर्वेक्षण मूल्यांकन के लिये एजेंसी गाँव के सार्वजनिक स्थान यथा स्कूल, आँगनवाड़ी, स्वास्थ्य केन्द्र, हाट-बाजार, धार्मिक स्थल ह¨ंगे। इन स्थान¨ं की साफ-सफाई की स्थिति अ©र व्यवस्था का जायजा लिया जाएगा। इसमें ग्राम के महत्वपूर्ण व्यक्तिय¨ं की राय भी ली जायेगी। सर्वेक्षण में प्राप्त अंक¨ं के आधार पर देश अ©र प्रदेश की रैंकिंग की जायेगी। टाॅप के जिल¨ं क¨ भारत सरकार द्वारा 2 अक्टूबर, 2018 क¨ राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया जायेगा। प्रदेश में सर्वेक्षण के प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन के लिये तैयारियाँ पूर्ण कर ली गई हैं। कलेक्टर श्री आषीष सक्सेना ने जिले मे संबंधित अधिकारियो, सरपंच/सचिव एवं जनप्रतिनिधियो की बैठक लेकर जिले के गांवो को स्वच्छ बनाने के लिये अपील की है ताकि जिले के गांव स्वच्छता सर्वेक्षण मे अपना स्थान बना पाये।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...