बिहार : वामदलों का आज बिहार बंद पूर्ण सफल : सत्य नारायण सिंह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 2 अगस्त 2018

बिहार : वामदलों का आज बिहार बंद पूर्ण सफल : सत्य नारायण सिंह

left-strike-successful-cpi
पटना (आर्यावर्त डेस्क) 02 अगस्त। तमाम सरकारी अवरोधों और विरोधों के बावजूद मुजफ्फरपुर बालिका गृह के महाकुकांड के विरोध में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सहित छह वामपंथी दलों के आह्वान पर आज मुकम्मिल बिहार बंद रहा। राज्य भर में सड़क यातायात ठप्प रहा। अनेक जगहों पर ट्रेन परिचालन बाधित हुआ। बाजार-हाट पूर्ण बंद रहे। पटना राजधानी सहित राज्य के सभी जिलों में बंद के समर्थन में हजारों लोग सड़क पर उतरे और राज्य सरकार के खिलाफ नारे लगाये। बंद के दौरान राज्य भर में हजारों बंद समर्थक गिरफ्तार किये गये। वामदलों के बिहार बंद समर्थन में राजद, कांग्रेस, बसपा, समाजवादी पार्टी आदि भी सड़कों पर जुलूस निकाले। आज यहां जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने कहा कि वामदलों का आज बिहार बंद पूर्ण सफल रहा। बंद को आम जनता और विपक्षी दलों का भी सराहनीय और व्यापक समर्थन मिला। सत्य नारायण सिंह ने बिहार बंद की सफलता के लिए राजद, कांग्रेस, लोकतांत्रिक जनता दल, समाजवादी पार्टी सहित अन्य विपक्षी दलों और बिहार की आम जनता को बधाई दी है। श्री सिंह ने आरोप लगाया कि बंद समर्थकों के साथ राज्य सरकार का रवैया विद्वेषपूर्ण और दमनात्मक रहा है। राजधानी पटना में बेवजह पुलिस ने बंद समर्थकों के जुलूस को बलपूर्वक रोकने का प्रयास किया और महिलाओं के साथ नोंक-झोंक किया। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी पुलिस की इस कार्रवाई की कड़ी निन्दा करती है। राजधानी पटना में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह, पार्टी के वरिष्ठ नेता रामनरेष पाण्डेय और जानकी पासवान के नेतृत्व में हजारों बंद समर्थकों ने शहर के मुख्य सड़कों पर जुलूस निकाला और डाकबंगला चैराहा को देर तक जाम किया। यहां जुलूस में बड़ी संख्या में महिलाओं ने भी भाग लिया।

बिहार बंद का असर राज्य के सभी जिला मुख्यालयों, शहरों और ग्रामीण इलाकों में भी व्यापक रूप से रहा। पुलिस ने बंद समर्थकों को बेवजह गिरफ्तार कर बंद को विफल करने की नाकामयाब कोषिष की, लेकिन व्यापक जन समर्थन के कारण बिहार की पुलिस की एक नहीं चली। जिला मुख्यालय के अतिरिक्त अंचल मुख्यालयों में भी पुलिस ने बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया। शेखपुरा, दरभंगा, लहेरियासराय, बेनीपट़टी, रहिका, झंझारपुर, जयनगर, हरलाखी, कटिहार, गोपालगंज आदि अनेक जगहों पर बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया गया है। बंद समर्थकों ने शेखपुरा, दरभंगा, मधुबनी, जहानाबाद, आरा, खुसरूपुर आदि अनेक जगहों पर घंटों ट्रेन को रोके रखा। सहरसा में हजारों लोगों ने मानव श्रंृखला बनाकर सड़क यातायात ठप किया। सहरसा और शेखपुरा में सैकड़ों युवकों ने सड़कों पर बंद के समर्थन में मोटरसाइकिल जुलूस निकाला। मुजफ्फरपुर में बालिका गृह कुकांड के सरगना व्रजेष ठाकुर के घर के सामने  सैकड़ों लोगों ने प्रदर्षन किया। मुजफ्फरपुर बालिका गृह कुकांड सिर्फ बिहार ही नहीं, बल्कि देष और मानवता के माथो पर कलंक है। बेसहारा, बेघरवार की बालिकाओं को राज्य सरकार ने अपने संरक्षण में रखने के लिए बालिका गृह, जिसकों सुधार गृह भी कहा जाता है, की स्थापना की है। लेकिन राज्य सरकार इसके संचालन और प्रबंधन का भार एक कुख्यात माफिया के नेतृत्व में चलने वाले एनजीओ को सौंप दिया है। इसके संचालक माफिया ब्रजेष ठाकुर ने इस बालिका गृह को यातना गृह में बदल दिया। इस कुकांड का अब पर्दाफाष हो चुका है। अब तक 34 लड़कियों के साथ बलात्कार की पुस्टि हो चुकी है। अभी भी 11 लड़कियाँ लापता है।

ऐसे कुकांड के खिलाफ वामदलों का आज बिहार बंद रहा है। इस अनैतिक, अमानवीय, आपराधिक घटना की सर्वत्र निन्दा और विरोध हो रहा है। लेकिन राज्य सरकार में इतनी भी नैतिकता नहीं है कि इस घटना की निन्दा करे और दोषियों को जल्द सजा देने की कार्रवाई करे। उलटे बिहार बंद पर अपनी प्रतिक्रिया में राज्य सरकार के मंत्री और कुछ वरिष्ठ  नेता इस घटना को कोई मुद्दा मानते ही नहीं है और बंद आयोजकों पर आरोप लगाते हैं आज का बिहार बंद मुद्दाविहीन है। यह अत्यन्त ही शर्म की बात है। श्री सत्य नारायण सिंह ने मांग की है कि राज्य के समाज कल्याण मंत्री मंजु वर्मा और नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेष शर्मा को मंत्री पद से अविलंब बर्खास्त किया जाय और चन्द्रषेखर वर्मा को गिरफ्तार किया जाय। इस कुकांड में ये सभी जिम्मेवार है। साथ ही सीबीआई की जाँच हाईकोर्ट की निगरानी में की जाय।
एक टिप्पणी भेजें