भारत में सुधर रहा है बच्चों का स्वास्थ्य, अभी भी बजट बढ़ाने की जरूरत : बिल गेट्स - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 18 सितंबर 2018

भारत में सुधर रहा है बच्चों का स्वास्थ्य, अभी भी बजट बढ़ाने की जरूरत : बिल गेट्स


child-health-in-india-improving-bill-gates
वाशिंगटन, 18 सितंबर, सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक तथा समाजसेवी बिल गेट्स ने मंगलवार को कहा कि भारत में साल दर साल बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। हालांकि उन्होंने पोषण बेहतर करने तथा मौत से छुटकारा पाने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकारों द्वारा अधिक धन निवेश करने की जरूरत पर जोर भी दिया। उन्होंने कहा कि भारत में टीकाकरण की पहुंच की दर काफी बेहतर हुई है तथा नये टीकों का बड़ा प्रभाव पड़ेगा। बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के प्रमुख ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ भारत में बच्चों का स्वास्थ्य साल दर साल बेहतर हो रहा है। भारत सरकार और राज्यों के कई नेता टीकाकरण की पहुंच बेहतर करने जैसी चीजों के लिए श्रेय के पात्र हैं।’’  स्वास्थ्य एवं शिक्षा के बारे में राय पूछे जाने पर गेट्स ने कहा कि जब उन्होंने और उनकी संस्था ने बिहार तथा उत्तरप्रदेश में काम शुरू किया था तब टीकाकरण की पहुंच की दर 40 प्रतिशत से भी नीचे थी। उन्होंने कहा कि इस कारण हजारों अनावश्यक मौतें हो रही थीं। गेट्स ने कहा कि काफी सारी चीजें बेहतर होने के बाद भी कुपोषण की समस्या के हल में भारत काफी पीछे है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह कहना चाहूंगा कि केंद्र तथा राज्य सरकारों द्वारा स्वास्थ्य क्षेत्र को दिया जाने वाला बजट उस स्तर से काफी कम है जो हमें लगता है कि पोषण बेहतर करने तथा मौतों से छुटकारा पाने के लिए आवश्यक है। हालांकि कुल मिलाकर चीजें सकारात्मक हैं।’’  उन्होंने कहा कि भारत की नयी डिजिटल संरचना ने गरीबी, स्वास्थ्य और शिक्षा की मुख्य चुनौतियों से निपटने के कुछ अच्छे अवसर दिये हैं।
एक टिप्पणी भेजें