हज़रत इमाम हुसैन की कुर्बानी अमर है : नीतीश कुमार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 20 सितंबर 2018

हज़रत इमाम हुसैन की कुर्बानी अमर है : नीतीश कुमार

hazrat-imam-hussain-amar-nitish-kumar
पटना, 20 सितम्बर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मोहर्रम के अवसर पर करबला के शहीदों एवं हजरत इमाम हुसैन की कुर्बानी को नमन किया और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। नीतीश ने कहा कि मैदान-ए-करबला में नाइंसाफी, जुल्म, अहंकार के विरूद्ध हक और सच्चाई के लिए हजरत इमाम हुसैन और उनके 72 साथियों द्वारा दी गई कुर्बानी अमर है। इसे हमेशा याद किया जायेगा। इससे प्रेरणा लेकर हमें इंसानियत, सच्चाई और भलाई के लिए बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने के लिए सदैव तैयार रहना चाहिये। उन्होंने मोहर्रम के अवसर पर राज्यवासियों से अपील कि है कि वे हजरत इमाम हुसैन की कुर्बानियों को याद करें और सच, इंसानियत, हक और भलाई के आदर्शों को अपनाते हुये बुराई, अहंकार और आतंक के विरूद्ध वातावरण बनायें। मुख्यमंत्री ने मोहर्रम को पूरे मेल-जोल, भाईचारा और आपसी सौहार्द्र के साथ मनाये जाने की अपील राज्यवासियों से की। मोहर्रम इस्लामी कैलेंडर का पहला महीना है। 680 ई में करबला (इराक) में की गई जंग में इस्लाम के आखिरी पैगंबर मोहम्मद साहब के नवासे इमाम हुसैन को इस महीने की 10वीं तारीख को शहीद कर दिया गया था।
एक टिप्पणी भेजें