बिहार : हर्षोल्लास माहौल में करम उत्सव संपन्र - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 18 सितंबर 2018

बिहार : हर्षोल्लास माहौल में करम उत्सव संपन्र

पलायन करके आने वालों को महसूस होने नहीं दिया कि गांवघर से बाहर हैं जमकर मांदर की धून पर परंपरागत नृत्य करते रहे
karma-utsav-patna
पटना: आज हर्षोल्लास माहौल में सेवा केंद्र में करम उत्सव मनाया गया.यह उत्सव ' मदद' नामक गैर सरकारी संस्था ने आयोजित किया. सेवा केंद्र के निदेशक फादर अमलराज ने मिस्सा पूजा अर्पित किया.इसके बाद फादर ने दीप प्रज्जवलित कर  करम उत्सव का उद्घाटन किया. इस अवसर पर फादर अमलराज ने कहा कि हमलोगों को आरक्षण प्राप्त है.सुदूर क्षेत्रों में विकास की किरण नहीं पहुंची है. और तो और शासक के द्वारा  आजादी के 71 साल के बाद भी  रोजगार की समुचित  व्यवस्था नहीं की जा सकी है. इसका खामियाजा हमलोग भुगत रहे हैं.वहीं हर्ष की बात है कि गांवघर से बाहर होने के बावजूद भी हमलोग अपनी संस्कृति और त्योहार को नष्ट नहीं होने दे रहे हैं. सुदूर क्षेत्रों से पलायन करके राजधानी के विभिन्न जगहों में कार्यशील बालाओं को स्वैच्छिक संस्था मदद द्वारा संगठित किया जाता है.उनको हर तरह के शोषण से बचाने का प्रयास किया जाता है. आज हर गम को सीने में छुपाकर मांदर की धून में बालाएं परंपरागत नृत्य करते दिखे. मदद संस्था के सचिव धर्मराज ने कहा कि 124 घरेलू कामगार उपस्थित रहे.जो विभिन्न जगहों में कार्यशील हैं.अब इन कामगारों को यूनिफॉम में रहने का होगा.मौके पर यूनिफॉम का अनावरण किया गया. दलदल से बचाने वाली संस्था ने करमा पर्व मनाया.
एक टिप्पणी भेजें