किम, मून ने पवित्र ज्वालामुखी पर हाथ मिलाए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 20 सितंबर 2018

किम, मून ने पवित्र ज्वालामुखी पर हाथ मिलाए

kim-moon-shake-hand-holy-volcano
प्योंगयांग, 20 सितंबर, एक दूसरे के प्रतिद्वंद्वी रहे उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के नेताओं ने अपने सम्मेलन के आखिरी दिन गुरूवार को खूबसूरत ज्वालामुखी की चोटी पर खड़े होकर एक दूसरे से हाथ मिलाया। इस ज्वालामुखी को उत्तर कोरिया में पवित्र माना जाता है। दोनों नेता उत्तर कोरिया-चीन की सीमा पर स्थित पहाड़ी तक गए और तस्वीरें खिंचवाई। एक दिन पहले ही दोनों देशों ने कई समझौते किए। कहा जा रहा है कि ये समझौते शांति की दिशा में अहम कदम हैं। उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग-उन और दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन गुरूवार को अलग-अलग वायु मार्ग से पेकतु पर्वत के पास एक हवाई अड्डा पहुंचे। वहां दोनों नेताओं की मुलाकात हुयी और उसके बाद वे चोटी पर गए। तस्वीरों में दोनों नेता मुस्कुरा रहे थे। उनके साथ उनकी पत्नियां भी मौजूद थीं। वे लोग पास में स्थित एक झील तक भी गए।  इस बीच उत्तर कोरिया विरोधी करीब 100 प्रदर्शनकारियों ने मध्य सोल में शिखर सम्मेलन के खिलाफ रैली की। उन्होंने दोनों देशों के नेताओं की बैठक का भी विरोध किया और कहा कि इस सम्मेलन से किम जोंग उन को फायदा होगा।
एक टिप्पणी भेजें