मधुबनी : मुहर्रम त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था को लेकर बैठक का आयोजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 18 सितंबर 2018

मधुबनी : मुहर्रम त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था को लेकर बैठक का आयोजन

meeting-for-law-and-order-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त डेस्क) 17, सितंबर 18,  श्री शीर्षत कपिल अषोक,जिला पदाधिकारी,मधुबनी की अध्यक्षता में सोमवार को डी.आर.डी.ए. स्थित सभाकक्ष में मुहर्रम त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था को लेकर बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में श्री दीपक वरनवाल,पुलिस अधीक्षक,मधुबनी, श्री दुर्गानंद झा,अपर समाहत्र्ता,मधुबनी, श्री अजय कुमार सिंह,उप विकास आयुक्त,मधुबनी, श्री कुमार गौरव,सहायक समाहत्र्ता,मधुबनी(प्रषिक्षु), श्री सुनील कुमार सिंह,अनुमंडल पदाधिकारी,सदर मधुबनी, श्री शंकर शरण ओमी,अनुमंडल पदाधिकारी,जयनगर, श्री विमल कुमार मंडल,अनुमंडल पदाधिकारी,झंझारपुर, श्री गणेष कुमार,अनुमंडल पदाधिकारी,फुलपरास, श्री सुजीत कुमार,जिला परिवहन पदाधिकारी,मधुबनी, श्री विनोद कुमार पंकज,वरीय उप समाहत्र्ता,मधुबनी समेत सभी अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी एवं सभी थानाध्यक्ष,सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचल अधिकारी उपस्थित थे। जिला पदाधिकारी द्वारा सभी पदाधिकारियों को बताया गया कि इस वर्ष मुहर्रम का त्योहार दिनांक 21.09.2018(चांद के दृष्टिगोचर होने पर) को मनाये जाने की सूचना है। ऐसा देखा गया है कि मुहर्रम का पहलाम दूसरे दिन सुबह तक होता है। अतः आवष्यक है कि सभी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी/पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल जबतक पहलाम नहीं हो जाता है,और उसमें सम्मिलित सभी लोग गंतव्य स्थान के लिए नहीं चले जाते है,तब तक प्रतिनियुक्ति स्थान को नहीं छोड़ेगे। जिला पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी/अंचल अधिकारी/थानाध्यक्ष सभी संवेदनषील स्थानों का भ्रमण कर लेंगे तथा स्थिति की समीक्षा कर आवष्यकता पड़ने पर निरोधात्मक कार्रवाई करेंगे। खासकर असामाजिक तत्वों की गतिविधियों पर विषेष निगरानी रखेंगे एवं उनके विरूद्ध कड़ी कारवाई समय से पूर्व करेंगे,जिससे विधि-व्यवस्था बिगड़ने न पाये। उन्होंने सभी पदाधिकारियों को असूचना संकलन करने हेतु सभी पंचायत के मुखिया/सरपंच/प्रखंड प्रमुख एवं विभिन्न राजनीतिक दलों के व्यक्तियों से संपर्क बनाये रखेंगे। उन्होंने सभी पदाधिकारियों को शांति समिति का गठन कर अपने-अपने क्षेत्र में शांति समिति की बैठक का आयोजन सुनिष्चित करने का निदेष दिया। साथ ही मिथ्या अफवाह फैलाने वालों के विरूद्ध शीघ्र कार्रवाई करने एवं ऐसे अफवाहों के खंडन हेतु तत्काल यथोचित कार्रवाई करने का निदेष दिया गया। साथ ही बताया गया कि मुहर्रम त्योहार के अवसर पर जुलुसों के मार्ग एवं समय निर्धारण के प्रष्न को लेकर झगड़ा हुआ करता है। अतः सभी पदाधिकारी जुलुस को नियंत्रित करने में पुलिस एक्ट की धारा-30 तथा सी.आर.पी.सी की धारा 144 की सहायता ले सकते है। साथ ही क्षेत्रीय स्तर पर जुलुस के लिए पूर्व निर्धारित मार्ग के आधार पर ही अनुज्ञप्ति दें।  मुहर्रम के अवसर पर विधि-व्यवस्था बनाये रखने हेतु सषस्त्र बल के साथ दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति दिनांक 20.09.18 के पूर्वा. से 22.09.2018 के अप.(पहलाम होने तक) के लिए की गयी है। इस त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था एवं सांप्रदायिक सौहार्द बनाये रखने एवं स्थिति पर कड़ी निगरानी रखने हेतु मधुबनी समाहरणालय के सभाकक्ष में जिला नियंत्रण कक्ष की स्थापना की जायेगी। जिसका दूरभाष संख्या-06276-224425 है। सभी अनुमंडल पदाधिकारियों को अपने-अपने अनुमंडल मुख्यालय में दिनांक 20.09.18 के पूर्वा. से 22.09.18 के अप.(पहलाम समाप्त होने तक) अनुमंडल नियंत्रण कक्ष की स्थापना करने का निदेष दिया गया है। इस त्योहार के अवसर पर विधि-व्यवस्था संधारण हेतु बड़े पैमाने पर दंडाधिकारी/पुलिस पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति के कारण सभी प्रकारी की छुट्टियां(सरकारी पदाधिकारियों/पर्यवेक्षीय कोटि के पदाधिकारियों के लिए) रद्द कर दी गयी है। सभी पदाधिकारियों को नित्य खैरियत प्रतिवेदन जिला मुख्यालय को भेजने का निदेष दिया गया है। जिला पदाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी पदाधिकारी एवं पुलिस जवानों को इस अवसर पर अपनी सेवा पूरी चुस्ती एवं सावधानी के साथ करने का निदेष दिया गया है। साथ ही प्रतिनियुक्ति स्थल से अनुपस्थित रहनेवाले पदाधिकारियों के विरूद्ध सख्त अनुषासनिक कार्रवाई की जाएगी। साथ ही सांप्रदायिक हिंसा/तनाव आदि को रोकने,इससे निपटने की पूरी जिम्मेवारी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी/पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल की है। इस संबंध में कोई ढ़िलाई या किसी प्रकार की षिथिलता गंभीर कत्र्तव्यहीनता समझी जायेगी। साथ ही यह भी स्पष्ट किया जाता है कि सांप्रदायिक सौहार्द एवं शांति बनाये रखने के लिए स्थानीय अधिकारी जो भी कार्रवाई, बिना किसी भेदभाव से प्रेरित होकर निष्पक्ष पूर्वक करेंगे,उसमें पूर्ण समर्थन मिलेगा। 
एक टिप्पणी भेजें