दुमका : आधुनिकता को अपनाते हुए अपने मूल्यों को नहीं भूलना चाहिए: डॉ लुईस मरांडी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 19 सितंबर 2018

दुमका : आधुनिकता को अपनाते हुए अपने मूल्यों को नहीं भूलना चाहिए: डॉ लुईस मरांडी

never-forget-your-value-luis-marandi
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) सिदो कान्हू मुर्मू विवि के कॉन्फ़्रेन्स हॉल में  दिन बुधवार (19 सितम्बर) को कुलपति प्रो मनोरंजन प्रसाद सिन्हा  की अध्यक्षता में  लोक मंथन कार्यक्रम  आयोजित किया गया।  बतौर  मुख्य अतिथि  समाज कल्याण मंत्री डॉ  लुुईस मरांडी इस अवसर पर मौजूद थीं।  मुख्य अतिथि  डॉ लुईस मरांडी ने कहा की भारत के मनीषियों ने एक महान आदर्श स्थापित किया है।  हमें उस विरासत को आगे बढ़ाना है। आधुनिकता को अपनाते हुए हमें अपने सामाजिक व  राष्ट्रीय मूल्यों को नहीं भूलना चाहिए। मुख्य वक़्ता के रूप में बोलते हुए प्रो सदानंद सप्रे ने कहा की भारतीय जन मानस मान सिक उपनिवेश का शिकार है।  हमारे उच्च शिक्षा का पाठ्यक्रम भी इसका शिकार है। भारतीय संस्कृति, संस्कार, ज्ञान व अध्यात्म को छोड़ हम दूसरे का अंधनुकरन कर रहे हैं।  भारत के प्राचीन ग्रंथो में कई तकनीकी ज्ञान जैसे वायुयान का वर्णन है, हमें उस पर गर्व करना चाहिए। अपने अध्यक्षीय  सम्बोधन में कुलपति प्रो सिन्हा ने कहा की भारत के इतिहास के पुनर्लेखन की ज़रूरत है।  हमें अपनी विरासत पर गर्व है। हम विश्वगुरु का दर्जा रखते थे।  हमें अपने शिक्षण संस्थानो को पुनः विश्व स्तर का बनाना है।  इसके लिए ज्ञान विज्ञान में उच्च कोटि के शोध को बढ़ावा देना होगा।  हम इस दिशा में अग्रसर हैं। प्रज्ञा प्रवाह के पूर्व राष्ट्रीय संयोजक प्रो सदानंद सप्रे मुख्य वक्ता थे।  इससे पहले कुलपति प्रो सिन्हा ने पुष्प गुछ व  श्रीफल से मंत्री का स्वागत किया। प्रति कुलपति प्रो हनुमान प्रसाद शर्मा ने प्रो सप्रे को, डॉ संजय सिंह ने कुलपति प्रो सिन्हा को, डॉ डी एन गोराई ने प्रति कुलपति प्रो शर्मा को व डॉ अजय सिन्हा ने डॉ ब्रजेश कुमार को पुष्प गुछ व श्रीफल देकर स्वागत कियाा।  कार्यक्रम में काफ़ी संख्या में छात्र छात्राओं सहित  डॉ पी के वर्मा , प्रो वाई पी राय, डॉ हशमत अली, डॉ पी पी सिंह,  डॉ शम्भुनाथ मिश्रा, डॉ स्वतंत्र सिंह।  डॉ सुधांशु शेखर, डॉ  रंजित सिंह, डॉ संजीव कुमार, डॉ रंजन कुमार,  डॉ निलेश कुमार व डॉ निरंजन मंडल आदि उपस्थित थे।  कार्यक्रम के संयोजक डॉ अजय सिन्हा ने कहा कि  माह के प्रारम्भ में लोक मंथन के तहत विभिन्न कॉलेजों में लगभग 500 बच्चों ने भाग लिया।  7 सितम्बर को हर कॉलेज के प्रथम आए प्रतिभागियों ने यहाँ भाग लियाा।  विजयी प्रतिभागियों को  पुरस्कृत किया गया।  लोक मंथन 2018 वाद विवाद प्रति योगिता में प्रथम  स्थान  कल्याणी कुमारी, साहिबगंज ने प्राप्त किया जबकि द्वितीय स्थान पर  अंकित कुमार दूबे, ए एन कॉलेज दुमका व तृतीय स्थान पर  स्वाति सिंह , बाज़ला कॉलेज देवघर रहीं। इसी तरह निबंध प्रतियोगिता प्रथम स्थान पर अनामिका कुमारी साहिबगंज कॉलेज, द्वितीय स्थान पर  विश्वजीत वर्मा हिंदी विध्यापीठ   व  तृृृतीय  स्थान पर  वर्षा सिंह स्नातकोत्तर वनस्पति विज्ञान दुमका रहीं। पेंटिंग्स प्रतियोगिता में नेहा कुमारी, दीपसर कॉलेज, देवघर प्रथम, प्राची प्रज्ञा  के के एम कॉलेज पाकुड़  द्वितीय व तृतीय  अभिषेक  मुखर्जी स्नातकोत्तर गणित विभाग रहे। पोस्टर  प्रतियोगिता में प्रथम शिवानी बरंवाल दीपसर कॉलेज, द्वितीय जूही कुमारी बाज़ला कॉलेज व तृतीय सोनल वत्स देवघर रहीीं। इन सभी प्रथम पुरस्कार पाने वाले को 3100, द्वितीय को 2100 और तृतीय को 1100 रुपए का पुरस्कार डॉ मरांडी द्वारा  प्रदान किया गया। कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन इस कार्यक्रम के संयोजक डॉक्टर अजय सिन्हा ने किया प्रति कुलपति ने अतिथियो का स्वागत करते हुए कहा कि  बुद्धिजीवीयो के बीच सतत सँवाद चलते रहना चाहिए। मंत्री डॉ लुईस मरांडी व सप्रे जी का उन्होंने  विशेष अभिनंदन किया। 
एक टिप्पणी भेजें