बिहार : बच्चे स्कूल में झुला झुलते हैं और परिजन बस में झुलते - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 5 सितंबर 2018

बिहार : बच्चे स्कूल में झुला झुलते हैं और परिजन बस में झुलते

उनको सड़क पर उछाल भरने से आनंद महसूस होता हैं और इनको कष्ट पहुंचता..
school-bag-and-guardian
कोढ़ा (कटिहार). कोढ़ा थाना क्षेत्र में गेराबाड़ी बाजार.गेराबाड़ी बाजार से कटिहार की दूरी है 19 किलोमीटर. 19 किलोमीटर सड़क की हालत जर्जर है.बस से सफर करने वाले कहते हैं जिला प्रशासन ने  जर्जर सड़क की जर्जरता दूर करने की ठेकेदारी अशोक कुमार अग्रवाल को दिया था.ठेकेदारी के बल पर अशोक कुमार अग्रवाल 'माननीय' बन गए. बिहार विधान परिषद के विधान पार्षद हो गए.इस हाल में रोड को छोड़ गए कि बच्चे स्कूल में झुला झुलते हैं और परिजन बस में झुलने को मजबूर हैं. बस पर सफर करने वालों ने अनुभव साझा किए.कई वर्षों से बस में झुलते हैं.यह कहना ज्यादा नहीं होगा कि सड़क में गड्ढा है कि गड्ढे में सड़क.कई जगहों में धड़ाम की आवाज आती है.सड़क ऊपर-नीचे होने से बस की आखिरी हिस्से से सड़क से टकराने से आवाज आती है.उनका कहना है कि इसी राह से  'माननीय' और जिले के हाकिम लोग आवाजाही  करते हैं मगर उनको फर्क नहीं पड़ता है.एसी चालू है डोर बंद है.गद्दे पर बैठे हैं.उछलने से आनंद महसूस करते हैं और हमलोगों को कष्ट पहुंचता है.सबूर की बात है कि नाला बन रहा है.पुल बन रहा है.कोई समय सीमा नहीं है निर्माण होने का.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...