बेगूसराय : एक मंच पर एक साथ अमिय कश्यप के द्वारा 625 शिक्षक/शिक्षिकाओं का किया गया सम्मान। - Live Aaryaavart

Breaking

बुधवार, 12 सितंबर 2018

बेगूसराय : एक मंच पर एक साथ अमिय कश्यप के द्वारा 625 शिक्षक/शिक्षिकाओं का किया गया सम्मान।

teacher-award-madhubani
बेगूसराय (अरुण कुमार) , आज दिनांक 12 सेप्टेंबर 2018 रोज बुद्धवार,गणेश चतुर्थी और तीज के शुभावसर पर दिनकर फ़िल्म सिटी के संस्थापक के द्वारा एक वृहत कार्यक्रम का आयोजन सफालता पूर्वक सम्पन्न हुआ।कार्यक्रम शिक्षक सम्मान समारोह का था,इसे वृहत ही वृहत्तर भी कहें तो कोई आश्चर्य नही होगा।यूँ तो आये दिन भारत के प्रत्येक प्रांत के नगरों में इस तरह के कई कार्यक्रम सम्मान के रुप में होते ही रहते हैं,किन्तु यह सम्मान समारोह पूरे दलसिंगसराय के विभिन्न गाँवों से सेवानिवृत्त शिक्षकों का चयन करते हुए एक साथ एक मंच से 625 महिला/पुरुष शिक्षकों को सम्मानित करने का आयोजन निश्चित ही वृहत्तर ही कहा जाएगा।इस कार्यक्रम को मंच तक लाने में पिछले छः महीनों से कार्यरत वॉलीवुड अभिनेता की ही सोच और अथक मिहनत का ही परिणाम आज मंच तक सभी गुरुजनों को एकत्रित करने का कार्य किया है।आज सभी शिक्षकों एवं शिक्षिकाओं के चेहरे पर एक अलग ही खुशी का भाव दिखाने को मिला।यह तो तय ही है कि इन सभी बुजुर्ग शिक्षकों का आशीर्वाद अमिय कश्यप को प्राप्त हुआ होगा।इस कार्यक्रम के दिशा निर्देशक के रुप में साहित्यिक,कवि,वरिष्ठ पत्रकार और समाजसेवी चाँद मुसाफिर।आर्थिक सहायतार्थ श्री वासुकीनाथ सिंह,और डॉ•अंजना कश्यप के भरपूर सहयोग से इस सम्मान कार्यक्रम सफल हुआ।अन्य सहयोगियों के रुप में क्षेत्रीय कार्यों में एवं मंचिय कार्यक्रमों में जिनका योगदान रहा वे इस प्रकार हैं।राकेश कुमार "महन्थ जी",रंजन कुमार, अभिजीत सोनू जी आदि के साथ अन्य भी कई कार्यकर्ता के रुप में अपना योगदान किया।मंच का उद्घाटन कर्ता मुख्य अतिथि के रुप में श्री चाँद मुसाफिर विशिष्ट अतिथि के रुप में दिनकर फिल्म प्रॉडक्शन और हिन्दी फीचर फिल्म चौहर के निर्माता श्री दिनकर भारद्वाज,भारद्वाज,भारद्वाज गुरुकुल बेगूसराय के प्राचार्य श्री शिव प्रकाश भारद्वाज,समाज सेवी सरोज कुमार,एम आर जे डी के प्राचार्य श्री सुरेश कुमार राय,शिक्षक नेता अमरेन्द्र कुमार आदि उपस्थित थे।इस कार्यक्रम में उपस्थित बेगूसराय से आये कवि प्रफुल चन्द्र मिश्रा ने शिक्षक सम्मेलन को देखते हुए अपनी बहुचर्चित कविता "दिल्ली",प्यास और धरती की वेदना सुनाकर काफी ताली और शाबासी बटोरी।और विशेष रुप से आमंत्रित सम्मानित होनेवाले सेवा छह सौ शिक्षक जिन्हें अंगवस्त्र,पुष्प माल पहनाकर प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया।ऐसी कार्यक्रम जिले का प्रथम कार्यक्रम था,इस तरह के कार्यक्रमों को आयोजित कर वॉलीवुड अभिनेता अमिय कश्यप ने प्रदेश ही नही बल्कि देश में एक सन्देशात्मक कार्य करते हुए आशीर्वाद प्राप्त किया।
एक टिप्पणी भेजें