वायुसेना के बेड़े में पहला स्वदेशी युद्धक विमान सुखोई-30एमकेआई शामिल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 26 अक्तूबर 2018

वायुसेना के बेड़े में पहला स्वदेशी युद्धक विमान सुखोई-30एमकेआई शामिल

Air-Force-fleet-includes-the-first-indigenous-warship-aircraft-Sukhoi-30MKI
नासिक 26 अक्टूबर, पहला स्वदेशी सुपरसोनिक विमान सुखोई-30एमकेआई ओझर स्थित 11 बेस डिपो में मरम्मत के बाद संचालन बेड़ में शामिल करने के लिए शुक्रवार को यहां वायुसेना को सौंप दिया गया। मेंटेनेंस कमांड के प्रमुख एयर मार्शल हेमंत शर्मा ने एक भव्य समारोह के दौरान औपचारिक रूप से सुखोई-30एमकेआई विमान दक्षिण-पश्चिम एयर कमान के प्रमुख वायु सेना अधिकारी एयर मार्शल एच.एस. अरोड़ा को सौंप दिया। मरम्मत के बाद 24 अप्रैल को उड़ान भरने के बाद अंतिम रूप से सैन्य अभियान के लिए उड़ान के बेड़े में शामिल करने से पहले विमान को परीक्षण के अधीन रखा गया था। एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, "मरम्मत के दौरान विमान के कलपुर्जो को खोलकर अगल कर दिया गया और दोबारा उसे तैयार किया गया, जिससे बिल्कुल नया बन गया और इसकी काम करने की अवधि (उम्र) भी दोगुनी हो गई है।" ओझर में 11 बीआरडी की स्थापना 1974 में की गई थी। यह वायुसेना के युद्धक विमान मरम्मत का एकमात्र डिपो है। यहां मिग-29 और सुखोई-30 एमकेआई जैसे विमानों की मरम्मत, नवीकरण और पूर्ण बदलाव के कार्यो होते हैं।

एक टिप्पणी भेजें
Loading...