दुमका : चाइल्ड ट्रैफिकिंग जैसे गंभीर विषय पर काम कर रहा।राज्य बाल संरक्षण आयोग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 अक्तूबर 2018

दुमका : चाइल्ड ट्रैफिकिंग जैसे गंभीर विषय पर काम कर रहा।राज्य बाल संरक्षण आयोग

child-walfare-commission-working-on-child-trafiking
दुमका (आर्यावर्त डेस्क) राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्यों द्वारा सूचना भवन सभागार में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। प्रेस  वार्ता  में  राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य अनुज आर्य ने कहा कि मुक्ति कारवां अभियान रथ रांची से प्रारंभ होकर झारखंड के चिन्हित 14 जिलों में पहले चरण में चाइल्ड ट्रैफिकिंग जैसे गंभीर विषय पर लोगों को जागरुक करने का कार्य किया। शेष बचे जिलों में दूसरे चरण में जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। झारखंड में प्रथम चरण के अभियान का समापन हो चुका है तथा यह रथ बिहार के लिए प्रस्थान कर चुकी है। पहले चरण के लिए झारखण्ड, बिहार, उड़ीसा तथा बंगाल का चयन किया गया है। उन्होंने कहा कि 3500 किलोमीटर की यात्रा में लगभग 25 से 30000 लोगों को नुक्कड़ नाटक के माध्यम से जागरुक करने का कार्य किया गया। वहीं अप्रत्यक्ष रूप से लगभग 1 लाख लोगों को जागरूक करने का कार्य किया गया है।  श्री आर्य ने बताया कि नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी द्वारा चाइल्ड ट्रैफिकिंग जैसे मुद्दों पर कार्य किया जा रहा है। अबतक 86 हजार बच्चों को मुक्त कराकर उन बच्चों को एक नया जीवन देने का कार्य किया गया है। विश्व के 144 देशों में इस अभियान को चलाया जा रहा है।  पूरे देश के 20 राज्यों में इस अभियान को चलाया जाएगा । उन्होंने कहा कि झारखंड के कई ऐसे जिले हैं जहां के बच्चों को बहला-फुसलाकर यहां से दूर ले जाया जाता है तथा कई बार उनका शोषण भी किया जाता है। उन्होंने कहा सभी 14 जिलों में 15 सदस्य की निगरानी कमिटी बनाई जाएगी जिसमें सभी क्षेत्र के लोग होंगे तथा आयोग के सदस्य अध्यक्ष के रूप में होंगे। उन्होंने कहा कि चाइल्ड ट्रैफिकिंग जैसी गंभीर समस्या को रोकने के लिए मीडिया का योगदान महत्वपूर्ण है। प्रेस प्रतिनिधि अखबारों  व टीवी चैनलों के माध्यम से लोगों को जागरुक करने का कार्य करें। सभी के सहयोग से ही हम इसे रोकने में सफल होंगे। लोगों को जागरूक करने की जरूरत है। इसके लिए व्यापक रूप से प्रचार प्रसार करने की आवष्यकता है। उन्होंने कहा चाइल्ड हेल्प लाइन नंबर 1098 तथा एम्बुलेंस नंबर 108 को लोगों तक पहुचाने का कार्य करें। सभी थानों के साथ बाल मित्र थाना संबद्ध है जहाँ कोई भी बच्चा जाकर किसी भी प्रकार की शिकायत लिखित रूप से दे सकता है। इस अवसर पर मुक्ति कारवां के राज्य सदस्य राजा दुबे, मुक्ति कारवां के जिला समन्वयक अमरेंद्र कुमार यादव, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी श्वेता भारती, अभ्युदय जन कल्याण आश्रम के सचिव शकुंतला दुबे, प्रयत्न फाउंडेशन के सुनील कुमार साहा आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...