बेगूसराय : छात्रों के विरोध को लाठी के बल पर दबाने की कोशिश कर रही है यूपी सरकार-सजग - Live Aaryaavart

Breaking

रविवार, 4 नवंबर 2018

बेगूसराय : छात्रों के विरोध को लाठी के बल पर दबाने की कोशिश कर रही है यूपी सरकार-सजग

लखनउ में विद्यार्थियों पर हुई लाठीचार्ज के खिलाफ एआईएसएफ ने निकाला धिक्कार मार्च।
aisf-dhikkar-march-begusarai
बेगूसराय (अरुण शाण्डिल्य) लखनऊ में बीएड के छात्र-छात्राओं पर हुए बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज के विरोध में शनिवार को एआईएसएफ बेगूसराय जिला परिषद ने यूपी सरकार के खिलाफ शहर में धिक्कार मार्च निकाल विरोध जताया।जुलूस की शक्ल में एआईएसएफ के छात्रों का जत्था पटेल चौक स्थित जिला कार्यालय से नारेबाजी करते हुए जीडी कॉलेज के मुख्य द्वार पर पहुँचा।वहाँ एक प्रतिरोध सभा का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता संगठन के जिलाध्यक्ष सजग सिंह ने की।उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार छात्र विरोधी सरकार है।यूपी में जिस तरिके से छात्र-छात्राओं के उपर जानलेवा लाठीचार्ज किया गया,उनके कपड़े फाड़े गए।यह योगी सरकार के छात्र विरोधी रवैये की पोल खोलने के लिए प्रयाप्त है।उन्होंने कहा इस लाठीचार्ज की न्यायिक जांच कराकर दोषी पुलिसकर्मीयों को अविलंब बर्खास्त किया जाए।जिला उपाध्यक्ष राकेश कुमार ने कहा बिजेपी शासित राज्यों में सिलसिलेवार तरिके से छात्रों, पत्रकारों, बेरोजगारी से त्रस्त लोगों तथा किसानों के उपर हमला किया जा रहा है।वर्तमान सरकार अपने वैचारिक विरोध को दबाने के लिए सत्ता का दुरूपयोग कर रही है।पूर्व छात्र नेता रूपक कुमार तथा जिला सचिव किशोर कुमार ने कहा कि पटना में महिला पुलिसकर्मी की मौत के जिम्मेवार दोषी अफ़सर पर हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग भी हमारा संगठन करता है।बिहार में नितिश कुमार जबसे भाजपा के साथ गठबंधन में आएं हैं तब से लाॅ एण्ड ऑर्डर ध्वस्त हो गया है जिसका ताजा-तरीन उदाहरण लगातार बढता अपराध और पटना में महिला पुलिसकर्मी की मौत का मामला है।राज्य परिषद सदस्य शंभू देवा तथा अमरेश कुमार ने कहा पूरे देश के छात्रों पर कहीं भी ज़ुल्म होगा तो बेगूसराय में उसका विरोध किया जाएगा।बेगूसराय विरोध के संस्कृति का संवाहक है।इस मौके पर नगर सहसचिव गौरव कुमार,शाहरुख खान,जिला परिषद सदस्य शादाब खुर्शीद,मो आरज़ू, विपुल कुमार, धीरज, अमन, गुलफराज, मुकुंद, विकास, मुकेश पासवान इत्यादि मौजूद थे।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...