दुमका : भ्रष्टाचार समाज का सबसे बड़ा अभिशाप: प्राचार्य - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 2 नवंबर 2018

दुमका : भ्रष्टाचार समाज का सबसे बड़ा अभिशाप: प्राचार्य

anti-corruption-caimpaign-dumka
दुमका (अमरेन्द्र सुमन)  भ्रष्टाचार मिटाओ नया भारत बनाओ अभियान  ( निगरानी जागरूकता सप्ताह) के तहत नेशनल स्कूल दुमका में छात्र छात्राओं सहित विद्यालय के शिक्षकों ने सत्यनि प्रतिज्ञा लिया।  इस  अवसर पर  विद्यालय के  प्राचार्य सुभाष चंद्र सिंह  ने स्वतंत्रता के सात दशक बीतने के बाद भी देश में  फैले भ्रष्टाचार पर चिंता जाहिर करते हुए सभ्य समाज के लिए इसे अभिशाप कहा।इस अवसर पर विद्यालय के छात्र-छात्राओं के बीच "भ्रष्टाचार मिटाओ नया भारत बनाओ"  विषयक निबंध प्रतियोगिता आयोजित की गई। इस प्रतियोगिता में कक्षा 10  के छात्र राहुल कुमार, शिवा कुमार शर्मा  व  अभिषेक कुमार ने क्रमशः पहला, दूसरा व  तथा तीसरा  स्थान प्राप्त किया ।  विद्यालय के हिंदी शिक्षक प्रमोद कुमार ने निर्णायक की भूमिका निभाई। कार्यक्रम का समन्वयन व संचालन मदन कुमार ने किया। कार्यक्रम में विद्यालय के कार्यवाहक प्राचार्य  सहित वरीय शिक्षक जय प्रकाश झा जयंत, सुधा कुमारी, कृष्णानंद झा,राजीव कुमार,जय प्रकाश चौधरी,अशोक कुमार,सरिता कुमारी, नागेंद्र साह, जालेश्वर प्रसाद गुप्ता, मदन कुमार, प्रकाश कुमार, शौकत अली, चंद्रशेखर चौधरी, प्रमोद कुमार, वरुण घाटी, मधुबाला, विजयानंद झा, श्रीकांत भूषण, पूर्णेन्दु मंडल, शुचि स्मिता, बसंत कुमार,  नफीसा बेगम,  रामचंद्र मुर्मूू ,संजीत कुमार, कंचना कंचन, प्रमिला अंकिता मुर्मू आदि मौजूद थे।
एक टिप्पणी भेजें