अपनी जड़ों से जुड़कर नये भारत के निर्माण में सहयोग दें भारतवंशी : उप राष्ट्रपति - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 11 नवंबर 2018

अपनी जड़ों से जुड़कर नये भारत के निर्माण में सहयोग दें भारतवंशी : उप राष्ट्रपति

connect-actively-with-your-roots-participate-in-india-s-dev-process-veep-to-diaspora-in-paris
नयी दिल्ली, 10 नवम्बर, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने पेरिस में रह रहे भारतीय मूल के लोगों से अपनी जड़ों से जुड़ने और देश की विकास प्रक्रिया में योगदान देने को कहा है।  फ्रांस की यात्रा पर गये श्री नायडू ने पेरिस में संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) के एक कार्यक्रम में भारतीय मूल के लोगों को संबोधित करते हुए शुक्रवार को कहा , “ सरकार साहसिक सुधारों के एजेन्डे पर आगे बढते हुए देश के शैक्षिक स्वरूप को बदलने में लगी है। ” साथ ही उन्होंने कहा कि भारत संभावनाओंं से भरा देश है इसलिए वे नये भारत के निर्माण में हिस्सा लें और वहां निवेश के अवसरों का लाभ उठायें।  उप राष्ट्रपति ने कहा कि अभी दुनिया के कई हिस्सों में मंदी है लेकिन भारत सुधारों की दिशा में बढ़ रहा है। वस्तु एवं सेवा कर की शुरूआत सुगम और दक्ष राष्ट्रीय बाजार की दिशा में बड़ा कदम है। अभी भारत में व्यवसाय आसानी से फल फूल रहे हैं। इसलिए यह अपनी जड़ो से जुड़ने का बेहतर समय है। भारत और फ्रांस दोनों अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन की मदद से स्वच्छ ऊर्जा के इस्तेमाल को बढावा देने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रगति के लिए शांति और स्थिरता बेहद जरूरी है क्योंकि परस्पर जुड़ी दुनिया में संवाद और आपसी समझ से ही प्रगति हासिल की जा सकती है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...