रमन सरकार की वाहवाही पाने में गई पत्रकार की जान : सिंहदेव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 1 नवंबर 2018

रमन सरकार की वाहवाही पाने में गई पत्रकार की जान : सिंहदेव

raman-governments-appreciation-took-journalists-life-says-singhdev
भोपाल 1 नवंबर, छत्तीसगढ़ के बस्तर में नक्सलियों (माओवादियों) के हमले में दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू के मारे जाने को लेकर छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष टी.एस. सिंहदेव ने रमन सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने यहां गुरुवार को कहा कि रमन सरकार वाहवाही बटोरने के लिए मीडियाकर्मियों को लगातार एक ही स्थान पर ले जा रही थी, जिसका नक्सलियों ने लाभ उठाया और एक पत्रकार को जान गंवानी पड़ी। सिंहदेव ने दूरभाष पर आईएएनएस से खास बातचीत में कहा, "रमन सरकार ने दंतेवाड़ा जिले के निलावाया गांव को मॉडल बनाकर पूरे देश में वाहवाही लूटने के लिए प्रचारित करना शुरू कर दिया था, घटना से पहले चार-पांच बार कई टीमें कवरेज के लिए वहां ले जाई जा चुकी थीं। यह स्थान नक्सलियों की नजर में था और उन्होंने मौका ताड़कर हमला बोल दिया, जिसमें दूरदर्शन के कैमरामैन की जान चली गई।" सिंहदेव का आरोप है कि कैमरामैन की जान जाने के लिए पूरी तरह रमन सिंह सरकार जिम्मेदार है। अगर यह सरकार एक स्थान को मॉडल के तौर पर प्रचारित करने के लिए मीडिया दलों को वहां नहीं ले जाती तो इस घटना को रोका जा सकता था। ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ में इसी माह चुनाव होने वाले है और बीते मंगलवार को नक्सली हमले में दंतेवाड़ा जिले के निलावाया गांव में दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू और दो जवानों की जान गई थी। इसके बाद से ही नक्सलियों की बढ़ती गतिविधियों और सुरक्षा इंतजाम पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। सिंहदेव ने वर्ष 2013 में कांग्रेस नेताओं पर हुए हमले की याद दिलाते हुए कहा कि कांग्रेस नेताओं की यात्रा को पहले दो दिन तो सुरक्षा मुहैया कराई गई, मगर तीसरे दिन सुरक्षा हटा ली गई और नक्सलियों ने हमला बोल दिया, जिसमें कांग्रेस के कई बड़े नेताओं की जान गई थी। यह हमला पूरी तरह योजनाबद्ध तरीके से किया गया था। सिंहदेव का आरोप है कि चुनाव से पहले एक बार फिर नक्सलियों ने हमला बोलकर अपना संदेश देने की कोशिश की है। वे चुनाव को प्रभावित करना चाहते हैं, राज्य और केंद्र की सरकार नक्सलियों पर लगाम लगाने में पूरी तरह नाकाम रही है। वर्तमान सरकार सिर्फ प्रचार करने पर भरोसा करती है और उसी के चलते एक कैमरामैन की जान गई है।

एक टिप्पणी भेजें