मानवाधिकारों का सर्वाधिक गंभीर उल्लंघन है आतंकवाद : भारत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 3 नवंबर 2018

मानवाधिकारों का सर्वाधिक गंभीर उल्लंघन है आतंकवाद : भारत

terrorism-anti-human-right-india
संयुक्त राष्ट्र, तीन नवम्बर, भारत ने संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान पर परोक्ष प्रहार करते हुये आतंकवाद को सीमापार से मानवाधिकारों का सबसे गंभीर उल्लंघन बताया और वैश्विक समुदाय से इसके सभी रूपों और अभिव्यक्तियों के खतरे के विरूद्ध ठोस कार्रवाई करने का आग्रह किया है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई मिशन की प्रथम सचिव पॉलोमी त्रिपाठी ने शुक्रवार को ‘मानवाधिकार परिषद की रिपोर्ट’ पर तीसरे समिति सत्र को संबोधित करते हुये कहा कि किसी स्थिति-विशेष से जुड़े मुद्दों में मानवाधिकार परिषद के कार्यों में आमसहमति की कमी एक चिंताजनक प्रवृत्ति है जिससे इसकी प्रभावशीलता और विश्वसनीयता में कमी आती है।  उन्होंने कहा, "आतंकवाद मानव अधिकारों का सबसे गंभीर उल्लंघन है जो हमारी सीमाओं के परे से आ रहा है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को मानव अधिकारों और निर्दोष लोगों की मौलिक स्वतंत्रता के दुरुपयोग को रोकने के लिए आतंकवाद के खिलाफ दृढ़ कार्रवाई करना चाहिए।" । त्रिपाठी ने कहा, "संबंधित देश से परामर्श और सहमति के बिना आक्रामक और टकराव वाला दृष्टिकोण और घुसपैठ के तरीकों को अपनाना प्रतिकूल रहा है और इससे मानवाधिकार के मुद्दों का केवल राजनीतिकरण ही होता है।"  भारत ने मानवाधिकार परिषद को अपनी प्रासंगिकता और प्रभावकारिता बनाए रखने के लिए सार्वभौमिकता, पारदर्शिता, निष्पक्षता, वस्तुनिष्ठता, गैर-चयनशीलता और रचनात्मक बातचीत के मौलिक सिद्धांतों के पालन को सशक्त बनाने के लिए कहा। भारत को पिछले महीने मानवाधिकार परिषद के लिए चुना गया था । 
एक टिप्पणी भेजें