धर्मनिरपेक्षता, सौहार्दता और सहिष्णुता भारत के डीएनए में है : नकवी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 3 नवंबर 2018

धर्मनिरपेक्षता, सौहार्दता और सहिष्णुता भारत के डीएनए में है : नकवी

indian-dna-secular-naqwi
नयी दिल्ली, तीन नवम्बर, धर्मनिरपेक्षता, सामाजिक-सांप्रदायिक सौहार्दता और सहिष्णुता भारत के डीएनए में है। यह बात केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कही जिन्हें शनिवार को एक अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन ने ‘शांति दूत’ के तौर पर सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि भारत दुनिया में आध्यात्मिक मूल्यों का केंद्र है और इसलिए यह दुनिया में सबसे बड़ा धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र है। अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री को यहां एक कार्यक्रम में यूनिवर्सल पीस फेडरेशन (यूपीएफ) द्वारा ‘‘शांति दूत’’ के तौर पर सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि ‘‘समृद्धि का पासवर्ड शांति है’’ और इसलिए शांति के बगैर दुनिया की समृद्धि संभव नहीं है। समाज और दुनिया में सौहार्दता और शांति को बढ़ावा देने तथा विभिन्न धार्मिक समुदायों के बीच सहयोग बढ़ाने में योगदान के लिए नकवी को सम्मानित किया गया।
एक टिप्पणी भेजें