मोदी ने सेना का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए किया : राहुल गाँधी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 8 दिसंबर 2018

मोदी ने सेना का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए किया : राहुल गाँधी

modi-policise-army-rahul-gandhi
नयी दिल्ली, आठ दिसंबर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सर्जिकल स्ट्राइक को ‘जरूरत से ज्यादा तूल दिए जाने’ संबंधी सेना के पूर्व अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डीएस हुड्डा के एक कथित बयान को लेकर शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला और दावा किया कि मोदी ने सेना का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए किया और इस पर ‘‘उन्हें कोई शर्म नहीं है।’’ उन्होंने यह भी दावा किया कि प्रधानमंत्री मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक का उपयोग राजनीतिक लाभ के लिए किया और राफेल सौदे का इस्तेमाल अनिल अंबानी की पूंजी बढ़ाने के लिए किया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हुड्डा के बयान से जुड़ी एक खबर शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘‘आपने (हुड्डा) जवानों के एक सच्चे जनरल की तरह बात की है। भारत को आप पर गर्व है। हमारी सेना का इस्तेमाल निजी संपत्ति के तौर पर करने में प्रधानमंत्री को कोई शर्म नहीं है।’’ कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया, ‘‘उन्होंने (मोदी) ने राजनीतिक पूंजी के लिए सर्जिकल स्ट्राइक का इस्तेमाल किया और अनिल अंबानी की पूंजी में 30 हजार करोड़ रुपये में बढ़ोतरी करने के लिए राफेल सौदे का इस्तेमाल किया।’’  पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हुड्डा के बयान को लेकर प्रधानमंत्री पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘‘लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त्) हुड्डा आपका धन्यवाद कि आपने प्रधानमंत्री मोदी की ओर से सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण किए जाने को बेनकाब कर दिया है। कोई भी हमारे बहादुर जवानों के पराक्रम और बलिदान का इस्तेमाल सस्ते तुच्छ राजनीतिक लाभ के लिए नहीं कर सकता।’’ दरअसल, खबरों के मुताबिक हुड्डा ने कहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक की सफलता पर शुरुआती उत्साह स्वाभाविक था, लेकिन इसको जरूरत से ज्यादा तूल दिया गया, जो अनुचित था। गौरतलब है कि जब 29 सितंबर, 2016 को नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार आतंकी ठिकानों को निशाना बनाकर सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी। उस समय हुड्डा उत्तरी सेना के कमांडर थे। हुड्डा के बयान पर फिलहाल भाजपा एवं सरकार की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली पाई है।

एक टिप्पणी भेजें