बिहार : 9 जनवरी के बिहार बंद को लेकर वाम दलों ने अन्य पार्टियों से समर्थन मांगा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 जनवरी 2019

बिहार : 9 जनवरी के बिहार बंद को लेकर वाम दलों ने अन्य पार्टियों से समर्थन मांगा

  • बिहार बंद में ऐपवा-आइसा-इनौस की होगी सक्रिय भागीदारी


left-demand-support-for-bihar-band
पटना 4 जनवरी 2019 , केंद्रीय ट्रेड यूनियन व संगठनों के संयुक्त आह्वान पर 8-9 जनवरी की आम हड़ताल के समर्थन में वाम दलों ने 9 जनवरी को बिहार बंद का आह्वान किया है. बंद के व्यापक समर्थन हेतु आज वाम नेताओं ने अन्य विपक्षी दलों के नेताओं से मुलाकात की और मोदी सरकार की कारपोरेटपरस्त नीतियों के खिलाफ बिहार बंद को सक्रिय समर्थन देने की अपील की. भाकपा-माले के वरिष्ठ नेता काॅ. केडी यादव व काॅ. राजाराम, सीपीआईएम के राज्य सचिव मंडल के सदस्य अरूण मिश्रा और सीपीआई के वरिष्ठ नेता विजय नारायण मिश्रा ने आज संयुक्त रूप से विभिन्न विपक्षी पार्टियों के नेताओं से मुलाकात की. मुख्य रूप से राष्ट्रीय जनता दल, हम, समाजवादी पार्टी, एनसीपी, लोकतांत्रिक जनता दल, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस को पत्र के जरिए 9 जनवरी के बंद को समर्थन देने की अपील की. ऐपवा की महासचिव मीना तिवारी, इनौस के बिहार राज्य सचिव नवीन कुमार व आइसा के बिहार राज्य अध्यक्ष मोख्तार ने भी संयुक्त प्रेस बयान जारी करके 8-9 जनवरी की हड़ताल व 9 जनवरी को आहूत बिहार बंद को अपना सक्रिय समर्थन देने की घोषणा की है. ऐपवा की महासचिव ने कहा है कि श्रम शक्ति की लूट में सबसे ज्यादा लूट महिला श्रम का ही हो रहा है. आशा-आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका-ममता-रसोइया आदि स्कीम वर्करों के प्रति सरकार का रवैया बहुत ही नकारात्मक है. ऐपवा उनकी मांगों का पुरजोर समर्थन करती है और बिहार की महिलाओं से बंद को सफल बनाने की अपील करती है.  छात्र-युवा संगठनों ने बंद के समर्थन में छात्र-नौजवानों से एकजुटता प्रकट करने की अपील की है. उन्होंने कहा कि आज वक्त की मांग है कि जनता के सभी हिस्से अपने व्यापक एकता का निर्माण करें और कारपोरेटपरस्त मोदी सरकार पर निर्णायक प्रहार करें.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...