बेगुसराय : भारद्वज गुरुकुल की प्रस्तुति असुरों का संहार। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 17 फ़रवरी 2019

बेगुसराय : भारद्वज गुरुकुल की प्रस्तुति असुरों का संहार।

acted-in-begusaray
अरुण कुमार (बेगुसराय) बंगाल के पुरुलिया से आये 16 कलाकार semi classical folk dance Chhau का प्रदर्शन भारद्वाज गुरुकुल के ऑडिटोरियम में महिषासुर मर्दिनी theme पर किया।इस कार्यक्रम का संयोजन स्पिक मेके SPIC MACAY यानी Society for the Promotion of Indian Classical Music and Culture amongst Youth ने किया है। पूरे विश्व में भारत अपनी संस्कृति के लिए जाना जाता है।इस क्षेत्र में अपना देश अव्वल है।बच्चों और युवाओं के बीच ऐसे कार्यक्रम उन्हें सम्मान और गर्व का भाव देते हैं।बहुत सारी विधाएं विलुप्त होने के कगार पर हैं।धरोहरों को संजोने के लिए समय समय पर ऐसे कार्यक्रम किये जाते हैं।कश्मीर में भी महिषासुर रूपी आतंकवादियों ने मां भारती को लहूलुहान किया है।अंजाम महिषासुर वध जैसा ही होगा।भारत की तरक्की में व्यवधान पैदा करने की कोशिश करने वालों के लिए साफ संदेश है कि समय कभी रुकता नहीं।हम दोगुनी ऊर्जा से संस्कार भरने का काम करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...