देश की भावना के अनुरूप बयान देना बेहतर : सिंघवी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 18 फ़रवरी 2019

देश की भावना के अनुरूप बयान देना बेहतर : सिंघवी

better-to-make-statement-according-to-country-spirit-singhvi
नयी दिल्ली, 18 फरवरी, कांग्रेस ने पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के हाल के बयान के संदर्भ में सोमवार को कहा कि किसी भी राजनीतिक कार्यकर्ता को सार्वजनिक जीवन में रहते हुए देश की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए अपनी बात कहनी चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने यहां पार्टी की नियमित प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि कांग्रेस हो या काेई अन्य राजनीतिक दल का नेता हो, सार्वजनिक जीवन में रहने वाले हर व्यक्ति को निश्चित रूप से देश के नागरिकों की भावनाओं के अनुरूप ही बयान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक जीवन में रहते हुए व्यक्ति जो भी सोचे, बोले, अभिव्यक्त करे या दर्शाए, यह राजनीतिक कार्यकर्ता का दायित्व है कि वह अपने हिसाब नहीं बल्कि देश की सामूहिक भावना के अनुसार ही विचार व्यक्त करे और अपनी बात कहे। यह परिपक्वता और गंभीरता वाली बात है और सभी राजनीतिक कार्यकर्ताओं को इस अनुशासन में रहकर ही अपनी बात करनी चाहिए। श्री सिद्धू ने पुलवामा हमले के बाद कहा था कि कुछ लोगों के कारण पूरे मुल्क को दोषी नहीं ठहराया। इस हमले में जो दोषी हैं उनको सजा मिलनी चाहिए। आतंक का कोई धर्म और मुल्क नहीं होता। कोई भी रास्ता बातचीत से ही निकल सकता है। उनके इस बयान को लेकर जमकर विवाद हुआ और उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...