बिहार : प्रशासन पावर में होकर भी कस नहीं पाता लगाम। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 16 फ़रवरी 2019

बिहार : प्रशासन पावर में होकर भी कस नहीं पाता लगाम।

अपराधी सलाखों के पीछे होने के बावजूद भी आपराधिक मामलों में करते है काम
criminal-arrest-bihar
लखीसराय :- बिहार के लखीसराय में  एस०टी०एफ०और जिला पुलिस की टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है।एस०टी०एफ० ने लखीसराय के चर्चित पोखरामा हत्याकाण्ड के पिड़ित परिवार के सदस्यों की हत्या करने वाले तीन शूटर को हथियार के साथ गिरफ्तार किया है।ये सभी कोर्ट परिसर में पूर्व विधान परिषद सदस्य प्रमोद सिंह एवं दिलाशन सिंह की हत्या करने वाले थे।एस०टी०एफ० एस०ओ०जी० वन की टीम के साथ पुलिस ने गिरफ्तार अपराधियों के पास से एक कार्बाइन, एक पिस्टल, दो फुल मैगजीन एवं पांच गोली बरामद किया है।पूछताछ के दौरान अपराधियों ने स्वीकार किया कि पाँच लाख में हत्या करने की सुपारी ली गई थी। जिसमें एक लाख रुपए अपराधियों को दिए जा चूके थे। गिरफ्तार अपराधियों में लखीसराय के पोखरामा निवासी बमबम सिंह, प्रकाश कुमार और बेगूसराय के रामदीरी के अमित कुमार उर्फ मख्खन सिंह शामिल है। इसके अलावा पुलिस ने एक अन्य अपराधी बेगूसराय के रामदीरी निवासी बुधन सिंह को भी गिरफ्तार किया है जिसे बेगूसराय की मटिहानी पुलिस अपने साथ ले गई है।बताया जा रहा है कि चर्चित पोखरामा हत्याकांड मामले में जेल में बंद दिलीप कुमार उर्फ ढिल्लन और रौशन सिंह उर्फ गुड्डू के इशारे पर जेल से ही हत्या की सुपारी दी गई थी। गौरतलब है कि चार अगस्त 2017 को कजरा थाना क्षेत्र के पोखरामा गाँव में भूमि विवाद को लेकर तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी।उसके बाद इस केस के शिकायतकर्ता पवन सिंह की अपराधियों ने 9 जनवरी 2018 नगर थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े हत्या कर दी थी।हाल ही में इस हत्याकांड के छहः आरोपियों को कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...