दरभंगा : DM ने सभी छोटे बड़े पदों के पदाधिकारियों का लिया क्लास। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 19 फ़रवरी 2019

दरभंगा : DM ने सभी छोटे बड़े पदों के पदाधिकारियों का लिया क्लास।

dm-take-officiers-classes
दरभंगा (आर्यावर्त संवाददाता) दरभंगा जिलाधिकारी त्यागराजन एस एम ने समाहरणालय सभा कक्ष में अधिकारियों और विभागों की साप्ताहिक समीक्षा बैठक करते हुए शौचालयों के जियो टेगिंग के जांच में गड़बड़ी पाये जाने पर जांचकर्ता के विरूद्ध प्राथमिकी का आदेश दिया है। हायाघाट के कनीय अभियंता के एक दिन का वेतन काटने का आदेश दिया है। अधिकृत रूप से बैठक में लिये गये निर्णय की जानकारी के अनुसार जिलाधिकारी ने समीक्षा में पाया कि जाले प्रखंड में 8 तथा दरभंगा सदर में 4 शौचालयों के जियो टेगिंग में जांचकर्ता ने गड़बड़ी की है। उन्होंने इस मामले में जांचकर्ता के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया है। उन्होंने कहा कि शौचालय निर्माण के भुगतान में अकारण विलंब पर कारवाई होगी। उन्होंने कहा कि आचार संहिता लगने पर योजना प्रारंभ नहीं की जाएगी पर चल रही योजना का कार्य व भुगतान नहीं रूकेगा। हर घर नल का जल योजना की समीक्षा क्रम में जिलाधिकारी ने कहा कि जल संकट को लेकर प्रखंड विकास पदाधिकारी गंभीर नहीं है। उन्होंने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि नल जल योजना से संबंधित दिशा निर्देशों में उत्तर दायित्व का निर्धारन कर प्राथमिकी का भी प्रावधान है। विशेष कर जल संकट जैसी आपदा में आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के अंतर्गत प्राथमिकी दर्ज किया जा सकता है। ऐसे में पंचायत सचिव, मुखिया, वार्ड सदस्य पर भी प्राथमिकी दर्ज किया जा सकता है। साथ ही लापरवाही बरतने पर प्रखंड विकास पदाधिकारी पर प्राथमिकी दर्ज किया जा सकता है। जिलाधिकारी ने स्पष्ट निर्देश दिया कि नल जल के लिए चयनित वार्डों के खाते में शत-प्रतिशत राशि दो दिनों के अंदर हस्तांतरित करें। उन्होंने कहा कि चयनित वार्डों में योजना पूरा करें कम से कम बोरिंग कर स्टैंड पोस्ट के माध्यम से तत्काल जल आपूर्ति करें। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी प्रखंडों में पीएचडी द्वारा चापाकल गाड़ने एवं मरम्मति की समीक्षा हेतु एक कमिटी गठित होगी। वहीं जिलाधिकारी ने कहा कि मनीगाछी के कनीय अभियंता की संविदा रद्द करने पर विचार किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने लोक शिकायत निवारण के मामले में अनुपस्थित रहने वाले प्राधिकार के विरूद्ध अर्थदंड लगाने का आदेश दिया। कन्या विवाह योजना में शून्य प्रविष्ट पर किरतपुर के प्रखंड विकास पदाधिकारी को चेतावनी दी। बैठक में अपर समहर्ता मो०मोबीन अली अंसारी, उप विकास आयुक्त डॉ० कारी प्रसाद महतो के अलावा संबंधित पदाधिकारी मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...