इमरान ने भारत को किया आगाह, वार्ता की पेशकश की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 फ़रवरी 2019

इमरान ने भारत को किया आगाह, वार्ता की पेशकश की

imran-offer-to-peace-talk
इस्लामाबाद, 27 फरवरी,  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को दावा किया कि भारत के दो मिग लड़ाकू विमानों को मार गिराए जाने के बाद उनके पायलटों को पकड़ लिया गया है। साथ ही, उन्होंने परमाणु हथियारों से लैस दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने की स्थिति में ‘गलत अनुमान’ लगाए जाने के खिलाफ आगाह किया और तनाव दूर करने के लिए वार्ता की भी पेशकश की।  खान ने टीवी पर अपने संबोधन में कहा, ‘‘हमारी कार्रवाई सिर्फ यह संदेश देने के लिए थी कि यदि आप हमारे देश में घुस सकते हैं तो हम भी ऐसा कर सकते हैं। उनके दो मिग विमान मार गिराए गए और उनके पायलट हमारे पास हैं।’’  दरअसल इससे पहले, नयी दिल्ली में भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि आतंकवादियों के खिलाफ भारत की कार्रवाई के जवाब में पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने के लिए आज अपनी वायुसेना का इस्तेमाल किया, लेकिन उसके प्रयासों को पूरी तरह से नाकाम कर दिया गया। हालांकि, कार्रवाई में एक भारतीय पायलट लापता हो गया है।  भारत के इस बयान के कुछ ही मिनटों बाद इमरान की यह टिप्पणी आई। हालांकि, पाकिस्तानी थल सेना ने अपने शुरू के बयान से पलटते हुए कहा कि उनकी हिरासत में सिर्फ एक भारतीय पायलट है। गौरतलब है कि शुरू में उसने भारतीय वायुसेना के दो पायलटों के अपने पास होने की बात कही थी। अपने संबोधन में इमरान ने कहा कि सभी युद्ध गलत अनुमानों पर शुरू हुए और इसकी कीमत मानवता को चुकानी पड़ी। ऐसा प्रथम विश्व युद्ध, द्वितीय विश्व युद्ध और आतंक के खिलाफ युद्ध में हुआ। 

उन्होंने कहा कि कोई नहीं जानता कि युद्ध हमें कहां ले जाएंगे।  पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि सद्बुद्धि के साथ ही दोनों देशों को विवेक से काम करना चाहिए।  इमरान ने कहा, ‘‘मैं भारत से पूछता हूं: आपके पास जो हथियार हैं और हमारे पास जो हथियार हैं, क्या हम कोई जोखिम उठा सकते हैं? यदि यह स्थिति बिगड़ती है तो यह न तो मेरे नियंत्रण में रहेगी और न ही (प्रधानमंत्री) नरेंद्र मोदी के नियंत्रण में।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आईए बैठ कर वार्ता के जरिए इसे सुलझाते हैं।’’  उन्होंने कहा कि भारत ने जब मंगलवार सुबह हमला किया, उन्होंने थल सेना प्रमुख से बात की और पाकिस्तान ने हड़बड़ी में आकर जवाब नहीं दिया।  इमरान ने कहा कि पाक ने भारत को पुलवामा आतंकी हमले की जांच में सहयोग की पेशकश की है।  उन्होंने कहा, ‘‘हम जानते हैं कि पुलवामा घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को कैसा महसूस हुआ होगा। हम दशकों से युद्ध के पीड़ित रहे हैं...शुरू से ही हमने भारत से कार्रवाई योग्य साक्ष्य हमारे साथ साझा करने को कहा है। ’’  उन्होंने कहा, ‘‘मैंने कहा था कि यदि भारत आगे बढ़ेगा तो हम जवाब देंगे। ’’उन्होंने कहा कि पाकिस्तान महज अपनी क्षमता दिखाना चाहता है।  इमरान ने कहा, ‘‘बुधवार की हमारी कार्रवाई का एकमात्र उद्देश्य यह बताना था कि यदि आप हमारे देश में घुसेंगे तो हम भी ऐसा कर सकते हैं।’’ 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...