वैलेंटाइन डे पर विशेष : पहले स्वयं से प्यार करें : डॉ प्रदीप - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 14 फ़रवरी 2019

वैलेंटाइन डे पर विशेष : पहले स्वयं से प्यार करें : डॉ प्रदीप

love-self-first
आर्यावर्त डेस्क,मुंबई,14 फरवरी,2019, बसंत की फुहार लिए फरवरी महीने को प्यार के महीने के रूप में जाना जाता है। 14 फरवरीको मनाये जाने वाले वैलेंटाइन डे पहले पति पत्नी,प्रेमी प्रेमिका की जोड़ियों तक ही सीमित होता था लेकिन बदलते समय के साथ वैलेंटाइन का मतलब व्यापक होता चला गया और आज इस दिवस को लोग पति पत्नी ,प्रेमी प्रेमिका की जोड़ियों के साथ दोस्तों ,माता पिता,सहयोगियों,परिवार,शुभचिंतकों और पालतू जानवरों तक को समर्पित करने लगे हैं। मुंबई के गाडगे डायबिटिक सेंटर ने वैलेंटाइन दिवस को अपने मरीजों के प्रति समर्पित करते हुए उनके बेहतर स्वास्थ्य की कामना की है। डॉ प्रदीप गाडगे और उनकी टीम ने इसी कड़ी में वार्षिक खेल कूद का आयोजन किया जिसमे उनके 200 से ज्यादा मधुमेह रोगियों ने हिस्सा लिया। डॉ प्रदीप कहते हैं कि पहले खुद से प्यार करो और स्पोर्ट्स को जीवन का अभिन्न अंग बना कर जीवन जियें तो रोग अपने आप भाग जायेंगे।उनका मानना है कि स्वयं को तरोताजा रखने के लिए स्पोर्ट्स एक महत्वपूर्ण दैनिक खुराक है। शारीरिक श्रम,उचित आहार,सही दवाई,और जागरूकता के सामंजस्य से मधुमेह पर काबू पाते हुए हुए स्वस्थ जीवन जिया जा सकता है।मधुमेह विशेषज्ञ डॉ रौशनी गाडगे कहती हैं कि खेल कूद न सिर्फ शरीर को फिट रखने के लिए जरुरी है बल्कि मानसिक विकास और आत्मविश्वास के लिए भी शारीरिक व्यायाम जरुरी है। इस अवसर पर निशुल्क स्वास्थ्य जांच का भी आयोजन किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...