मन की बात : मोदी ने इशारों-इशारों में जताया जीत का भरोसा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 24 फ़रवरी 2019

मन की बात : मोदी ने इशारों-इशारों में जताया जीत का भरोसा

modi-indicates-victory-in-general-election
नयी दिल्ली, 24 फरवरी,  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ‘इशारों-इशारों’ में आगामी लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के फिर से सत्ता में आने का रविवार को भरोसा जताया। श्री मोदी ने आकाशवाणी पर अपने 53वें ‘मन की बात’ कार्यक्रम में कहा कि अब अगली ‘मन की बात’ मई महीने के अाखिरी रविवार को होगी और वह जनता के आशीर्वाद से एक बार फिर ‘मन की बात’ के माध्यम से बातचीत की सिलसिला आरंभ करेंगे तथा सालोंसाल करते रहेंगे।  उन्होंने कहा, “चुनाव लोकतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव होता है। अगले दो महीने हम सभी चुनाव की गहमागहमी में व्यस्त होंगे। मैं स्वयं भी इस चुनाव में एक प्रत्याशी रहूंगा। स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपरा का सम्मान करते हुए अगली ‘मन की बात’ मई महीने के आखिरी रविवार को होगी।” आगामी आम चुनावों में इशारों-इशारों में राजग की जीत का भरोसा जताते हुए उन्होंने कहा, “मार्च, अप्रैल और पूरा मई महीना...इन तीन महीनों की सारी भावनाएं... मैं चुनाव के बाद एक नये विश्वास के साथ आपके आशीर्वाद से फिर एक बार ‘मन की बात’ के माध्यम से बातचीत का सिलसिला आरम्भ करूँगा और सालों तक आपसे ‘मन की बात’ करता रहूंगा।” उन्होंने काशी के एक कार्यक्रम का जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें यह सुनकर बहुत अच्छा लगा कि लोग न सिर्फ ‘मन की बात’ सुनते हैं, बल्कि उसे कई अवसरों पर याद भी करते हैं।  उन्होंने कहा, “‘मन की बात’ कार्यक्रम के माध्यम से आप सबसे जुड़ना मेरे लिए एक अनोखा अनुभव रहा है। रेडियो के माध्यम से मैं एक तरह से करोड़ों परिवारों से हर महीने रू-ब-रू होता हूं। कई बार तो आप सबसे बात करते, आपकी चिठ्ठियां पढ़ते या आपके फोन पर भेजे गये विचार सुनते, मुझे ऐसा प्रतीत होता है कि आपने मुझे अपने परिवार का ही हिस्सा मान लिया है। यह मेरे लिए एक बहुत ही सुखद अनुभूति रही है।”

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...