चुनावपूर्व महागठबंधन राष्ट्रीय स्तर पर होगा,प्रादेशिक स्तर पर नहीं : ममता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 14 फ़रवरी 2019

चुनावपूर्व महागठबंधन राष्ट्रीय स्तर पर होगा,प्रादेशिक स्तर पर नहीं : ममता

pre-poll-alliance-to-be-at-national-level-not-at-regional-level-mamata
नयी दिल्ली 14 फरवरी, अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सत्ता से बेदखल करने के लिए सभी विपक्षी दलों का चुनावपूर्व महागठबंधन प्रादेशिक स्तर पर नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर होगा। सुश्री बनर्जी ने अपने दिल्ली प्रवास के दौरान यहां प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि सभी विपक्षी दलों की कल रात हुई बैठक में चुनावपूर्व महागठबंधन बनाने का फैसला लिया गया लेकिन यह गठबंधन केवल राष्ट्रीय स्तर पर ही होगा। राज्यों में वहां की राजनीतिक स्थिति के हिसाब से चुनाव लड़ा जायेगा। उन्हाेंने प्रश्नों के उत्तर में कहा कि मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस और दिल्ली में आम आदमी पार्टी की स्थिति मजबूत है और वहां हमारी पार्टी मजबूत नहीं है लेकिन पश्चिम बंगाल में तो हमारी ताकत है इसीलिए हम उसके हिसाब से राज्यों में चुनाव लड़ेंगे।  यह पूछे जाने पर कि क्या वहां गठबंधन में वामपंथी दल शामिल होंगे,सुश्री बनर्जी ने कहा,‘‘ मुझे नहीं पता कि वामदल शामिल होंगे या नहीं। मेरी कोई बात वामदल से नहीं हुई है लेकिन एक बड़ा गठबंधन जरूर बनेगा।’’ उन्होंने स्वीकार किया कि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस और वामदल तृणमूल के खिलाफ हैं लेकिन सभी विपक्षी दलों की लड़ाई भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हैं। इसी कारण हम सभी विपक्षी दल एकजुट हैं। उन्होंने कहा कि यह राष्ट्रीय हित में और जनता के हित में है इसीलिए सभी विपक्षी दल मिलकर श्री मोदी को भगाना चाहते हैं क्योंकि प्रधानमंत्री ने देश को बेच दिया है। इतनी ही नहीं उन्होंने मीडिया को भी अपने कब्जे में ले लिया। आम मीडिया उनके खिलाफ बोल नहीं सकता और यह आपातकाल जैसी स्थिति है।  तृणमूल नेता बताया कि सभी विपक्षी दलों की दिल्ली में 26 या 27 फरवरी को फिर बैठक होगी और उसमें हमसब न्यूनतम साझा कार्यक्रम और आगे की रणनीति के बारे में विचार-विमर्श करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...