बेगूसराय : मृत्युभोज रहित रामबहादुर स्मृति समारोह का आयोजन सम्पन्न - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 9 फ़रवरी 2019

बेगूसराय : मृत्युभोज रहित रामबहादुर स्मृति समारोह का आयोजन सम्पन्न

ram-bahadur-smriti-begusaray
अरुण कुमार (बेगूसराय) सादगी और इमानदारी के प्रतीक खगड़िया के सर्वप्रिय दिवंगत पूर्व विधायक रामबहादुर आजाद जी को यादकर आज भी लोग भाव विह्वल हो रहे हैं।मृत्यु भोज बहिष्कार संकल्प के साथ पूर्व विधायक राम बहादुर आजाद जी के लिए श्रद्धांजलि समारोह को ’स्मृति समागम’ के तौर पर मनाया गया।आयोजन आज शुक्रवार को जिला मुख्यालय स्थित के०एन० क्लब के प्रांगण में किया गया।वयोवृद्ध सामजवादी नेता सुरेश प्रसाद यादव की अध्यक्षता में आयोजित इस स्मृति समागम के दौरान मंच संचालक की भूमिका युवा शक्ति के प्रदेश अध्यक्ष नागेन्द्र सिंह त्यागी निभा रहे थे।   भाव विह्वल उपस्थित अतिथियों ने स्मृति-शेष राम बहादुर आजाद के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया।वक्ताओं ने दिवंगत पूर्व विधायक आजाद जी के विचारों को आत्मसात करते हुए मृत्यु भोज नहीं करने के उनके संकल्प को उनके परिजनों सहित समाज के अन्य लोगों द्वारा पूरा करने पर एक दूसरे को बधाई दी और कहा कि प्रखर समाजवादी नेता भले ही दुनियां में नहीं हों,लेकिन सबके दिलों में अवश्य ही विराजमान हैं और रहेंगे।विधान पार्षद सोने लाल मेहता ने पूर्व विधायक आजाद जी को याद करते हुए कहा कि उनका चिंतन ही हमारे लिए संकल्प है। उनके रास्ते पर चलकर ही हम एक बेहतर समाज का निर्माण कर सकते हैं।मौके पर जे०पी० सेनानी अशोक सर्राफ ने उन्हें एक महान नेता व समाज के प्रहरी की संज्ञा दी।समाजवादी नेता बालेश्वर आजाद ने अपने संस्मरणों को पटल पर रखते हुए स्वर्गीय आजाद जी के संघर्षों पर प्रकाश डाला।खगड़िया के पूर्व नगर परिषद अध्यक्ष सह जाप किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष मनोहर कुमार यादव ने भाव विह्वल हो मार्मिक शब्दों इस बात की घोषणा की कि शहर की एक सड़क का नाम दिवंगत पूर्व विधायक आजाद जी के नाम पर होगा।इतना ही नहीं,उनकी एक भव्य प्रतिमा को भी स्थापित किया जाएगा। विपिन पराशर ने उन्हें याद करते हुए कहा कि उन्होंने हमेशा समाज को कुछ नया और बेहतर देने का कार्य किया है।जिसमें उनके द्वारा मृत्यु भोज का विरोध भी शामिल रहा है बछौता के मुखिया सुनील कुमार ने अपने संबोधन में उनके द्वारा बेहतर समाज के लिए उनके योगदान को रेखांकित किया। उपसभापति नगर परिषद् सुनील कुमार पटेल ने अपने संबोधन में उन्हें एक बेहतर राजनीतिज्ञ की संज्ञा दी। इस अवसर पर चंदन कश्यप, श्रीकांत पोद्दार तथा सुशांत यादव ने कहा कि आजाद ने शून्य से शिखर तक का सफर तय किया।प्रो० राज कुमार पोद्दार,शिवराज यादव, कौशल किशोर कौशल आदि ने कहा कि रामबहादुर आजाद जी ने कभी भी अपने सिद्धांतों से समझौता नहीं किया।कपिलदेव यादव, कृष्णानंद यादव,अजय कुमार घोष, कृष्ण मणि यादव, ऋचा योगमयी ने कहा कि वर्तमान की राजनीति में आजाद जी एक चमकते सितारों में एक थे।आचार्य राकेश पासवान शास्त्री ने स्वर्गीय आजाद जी को समाजवादी विचारधारा के प्रणेता की संज्ञा से विभूषित किया और कहा कि उनके अधूरे सपने को साकार करना ही सही मायने में उनके लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी। बेलदौर प्रमुख विकास पासवान, गोगरी प्रमुख श्रीकांत सिंह,उमेश ठाकुर तथा ई० धमेन्द्र ने कहा कि स्व० आजाद ने कभी भी सच कहने से  कुरेज नहीं किया,चाहे सामने कोई भी हो। मौके पर युवा कवि संत कुमार ने आजाद जी पर केन्द्रित कविता पाठ किया। अभय कुमार वर्मा, आशुतोष कुमार पोद्दार, उपेन्द्र कुमार, प्रभाशंकर सिंह, चन्द्र शेखरम्, अनिल जायसवाल, किरण देव यादव, सिकन्दर आजाद वक्त, अशोक पोद्दार, कंचन पटेल, दीपक ठाकुर, सुभाष चन्द्र जोषी, पप्पु यादव, सुनीता देवी, घनश्याम प्रसाद,आजाद राजीव रंजन, नंदन यादव, मारिया फर्नाडिस,डा उमेश प्रसाद सिंह आदि द्वारा संबोधित किया गया।इस अवसर पर पूर्व विधायक रामवहादुर आजाद के जीवन वृतांत पर केन्द्रित एक पुस्तक ”आजाद” का लोकार्पण भी किया गया। पुस्तक का लोकार्पण सुशाांत यादव, अशोक देव, कपिलेदव यादव, मनोहर यादव, डॉ० उमेश प्रसाद सिंह आदि ने संयुक्त रूप से किया। मौके पर वक्ताओं ने पुस्तक को ऐतिहासिक दस्तावेज करार दिया। वक्ताओं ने उनकी विचारधारा को आगे बढ़ाने में इस पुस्तक vo के योगदान पर भी बल दिया। उल्लेखनीय है कि राजीव रंजन आजाद के द्वारा लिखित पुस्तक में स्व० आजाद के जीवन-वृत को बड़े ही सरलता के साथ प्रस्तुत किया गया है,और उनकी लेखनी की कोई सानी भी नहीं है ऐसा उन्होंने उनमुक्त कन्ठ से कहा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...