दरभंगा : "फ़ैज़ अहमद फ़ैज़" की जयंती पर किया याद। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 13 फ़रवरी 2019

दरभंगा : "फ़ैज़ अहमद फ़ैज़" की जयंती पर किया याद।

remember-fais-begusaray
दरभंगा (आर्यावर्त संवाददाता)  आज दरभंगा में :- पूरी दुनिया के साथ ही मुकम्मल हिन्दुस्तान के मुकम्मल इंकलाबी शायर फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की जयंती पर "जश्ने फ़ैज" का आयोजन जन संस्कृति मंच, दरभंगा के तत्वावधान में जन कवि सुरेन्द्र प्रसाद स्मृति सभागार नागार्जुन नगर कबीरचक दरभंगा में किया गया। कार्यक्रम की शुरूआत फ़ैज़ साहब का मशहूर तराना "दरबारे वतन" बबिता कुमारी द्वारा की गयी प्रस्तुति से हुई। इस अवसर पर जसम के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य डाॅ सुरेन्द्र प्रसाद सुमन, इंसाफ मंच के राज्य उपाध्यक्ष काॅ नेयाज अहमद, जसम के राज्य उपाध्यक्ष काॅ कल्याण भारती, जसम दरभंगा के जिला सचिव डाॅ रामबाबू आर्य, जसम के काॅ भोलाजी, सचिन कुमार, राजा कुमार, नीतीश कुमार, गणेश कुमार तथा बजरंगी कुमार सहित कतिपय छात्रों ने फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ को महान इंकलाबी शायर बतलाते हुए मौजूदा फासीवादी हुक्मरां और फासीवादी उत्पात और उन्माद के खालाफ जद्दोजहद के लिए प्रेरित करनेवाला शायर कहा। मौके पर उनकी मशहूर इंकलाबी रचना 'इन्तिसाब' और 'गुब्बारे-अय्याम' का पाठ भी किया गया। अंत में 'मुर्दहिया' और 'मणिकर्णिका' उपन्यास के महान रचनाकार तथा दलित मार्क्सवादी चिंतक प्रो तुलसी राम के स्मृति दिवस पर उनकी स्मृति को इंकलाबी सलाम पेश किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जसम के राज्य उपाध्यक्ष काॅ कल्याण भारती और इंसाफ मंच के राज्य उपाध्यक्ष काॅ नेयाज अहमद ने संयुक्त रूप से किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...