दरभंगा : जल ही जीवन, इसके संरक्षण के बिना मानव जीवन का अस्तित्व असंभव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 17 फ़रवरी 2019

दरभंगा : जल ही जीवन, इसके संरक्षण के बिना मानव जीवन का अस्तित्व असंभव

samenar-on-save-water-darbhanga
दरभंगा (आर्यावर्त संवाददाता) जल ही जीवन है तथा इसके संरक्षण के बिना मानव जीवन का अस्तित्व असंभव है | जल प्रकृति की अनमोल धरोहर है तथा प्रकृति ने ज़रूरत की सारी आवश्यक वस्तुएं निःशुल्क मानव जीवन के लिए प्रदान की है, जिसे सहेजकर रखना समाज का परमआवश्यक कर्त्तव्य है | ये बातें महाराजाधिराज लक्ष्मीश्वर सिंह संग्रहालय, दरभंगा में इंटैक के दरभंगा चैप्टर द्वारा आयोजित पानी की कहानी विषयक पेंटिंग एवं निबंध प्रतियोगिता की अध्यक्षता करते हुए इंटैक दरभंगा चैप्टर के  के संयोजक प्रो. (डॉ.) नवीन कुमार अग्रवाल ने कही | उन्होंने कहा कि पानी के बिना जीवन संभव नहीं है | स्वच्छ और सुरक्षित जल अच्छे स्वास्थ की कुंजी है | हमें पानी की कीमत को समझना होगा | धरती के दो तिहाई हिस्से पर पानी भरा हुआ है, फिर भी पीने योग्य शुद्ध जल पृथ्वी पर उपलब्ध जल का मात्र एक प्रतिशत हिस्सा ही है | 97 प्रतिशत जल महासागर में खारे पानी के रूप में भरा हुआ है | शेष दो प्रतिशत जल वर्फ के रूप में जमा है | इसपर ध्यान देने की ज़रूरत है | डॉ. अग्रवाल ने कहा कि पानी की कमी एक महासंकट बनता जा रहा है, इससे बचने के लिए और लोगों को जागरूक करने लिए आज का कार्यक्रम आयोजित किया गया है |  जल प्रबंधन विषयक प्रतियोगिता का उद्घाटन करते हुए संग्रहालय के अध्यक्ष ने कहा कि भविष्य के जल संकट की गंभीरता को समझते हुए जल को बचाने तथा स्वच्छ एवं सुरक्षित रखने के लिए बच्चों तथा समाज के सभी वर्ग को जागरूक करना अत्यंत आवश्यक है | डॉ. मिश्र ने बच्चों से आग्रह किया कि जल का दुरूपयोग रोकने के लिए चित्रकारी एवं निबंध प्रतियोगिता में भाग लें तथा परिवार एवं समाज के लोगो को भी प्रेरित करें कि जल का दुरूपयोग न करें | मुख्य अतिथि के रूप में जल विशेषज्ञ श्री नारायण चौधरी ने कहा कि आज जल श्रोतों में गंदगी के कारण जल-जंतुओं का रहना कठिन हो गया है | जल-संकट की वज़ह से मानव का ही जीवन खतरे में पड़ता जा रहा है | विज्ञान शिक्षिका डॉ. अंजू कुमारी ने कहा कि बच्चे राष्ट्र के भविष्य हैं, इनके माध्यम से जल- संरक्षण के प्रति जागरूकता अभियान को सफल बनाया जा सकता है | कल्पना मिश्र ने कहा कि जल ही जीवन है | इसके दुरूपयोग से ही जल स्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है |  कार्यक्रम में विशाल कुमार, बेबी कुमारी, राघवेन्द्र कुमार, घनश्याम कुमार, फ़वाद गज़ाली, रुपेश कुमार, जय प्रकाश पाठक, विनोद कुमार पंसारी, संजय कुमार, प्रणव नारायण, शहजादा गुले अन्दाम आदि उपस्थित थे | प्रतियोगिता में माउन्ट समर कान्वेंट स्कूल, दरभंगा पब्लिक स्कूल, महात्मा गांधी शिक्षण संस्थान, हॉली क्रॉस स्कूल, दिल्ली पब्लिक स्कूल तथा दरभंगा सेंट्रल स्कूल आदि के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया | आगत अतिथियों का स्वागत चन्द्र प्रकाश ने किया | कार्यक्रम के संयोजक डॉ. आर. एन. चौरसिया ने मंच संचालन किया | धन्यवाद ज्ञापन सह संयोजक  डॉ. सुशान्त कुमार किया |

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...