पटेल के मूर्तिकार रामसुतार समेत तीन को मिला टैगोर अवार्ड - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 18 फ़रवरी 2019

पटेल के मूर्तिकार रामसुतार समेत तीन को मिला टैगोर अवार्ड

tagore-award-get-for-three-including-patel-s-sculptor-ram-shutar
नयी दिल्ली, 18 फरवरी,  राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सोमवार को यहां गुजरात में सरदार पटेल की प्रतिमा बनाने वाले पद्मभूषण से सम्मानित वयोवृद्ध मूर्तिकार राम सुतार, मणिपुरी नृत्य के गुरु राजकुमार सिंघनजीत सिंह और बंगलादेश की प्रसिद्ध सांस्कृतिक संस्था छायानट को कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए टैगोर अवार्ड से सम्मानित किया। श्री कोविंद ने प्रवासी भारतीय केंद्र के सभागार में इन दोनों कलाकारों को यह सम्मान प्रदान किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में श्री कोविंद ने इन कलाकारों को सम्मान में एक-एक करोड़ रुपये, प्रशस्ति पत्र और प्रतीक चिह्न प्रदान किये। महाराष्ट्र के धुले जिले में जन्मे श्री राम सुतार ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, नेहरू मौलाना आज़ाद और जगजीवन राम की प्रतिमा का निर्माण किया है। वह पिछले दिनों सरदार पटेल की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा बनाने के कारण सुर्खियों में थे। ये पुरस्कार 2014-2015 और 2018 के लिए दिये गये हैं।  टैगोर अवार्ड की स्थापना गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की 150वीं जंयती के मौके पर की गयी थी। पहला टैगोर पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित विश्व प्रसिद्ध सितारवादक रविशंकर को दिया गया था जबकि 2013 में विश्व प्रसिद्ध वॉयलिन वादक जुबिन मेहता को दिया गया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...