पूर्णिया : ...और अब शहर के कचरे से तैयार होगी जैविक खाद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 15 फ़रवरी 2019

पूर्णिया : ...और अब शहर के कचरे से तैयार होगी जैविक खाद

-16 लाख की लागत से तैयार होने वाले प्रोजेक्ट को मिली हरी झंडी 
- सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2016 के तहत इस दिशा में कार्य की शुरूआत हो गई है- सिटी नाका चौक पर दो कट्‌ठा जमीन का अधिग्रहण कर सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट के तहत बाकायदा जैविक खाद शेड का निर्माण कराया जाएग 

urban-wastage-become-potash
कुमार गौरव । पूर्णिया : यदि सबकुछ ठीक ठाक रहा तो वो दिन दूर नहीं जब शहर के कचरे से तैयार जैविक खाद लोगों के घर घर तक पहुंचेगी। दरअसल नगर निगम क्षेत्र में यत्र तत्र फेंके गए कचरे को अब प्रोसेसिंग के बाद जैविक खाद में तब्दील किया जाएगा। जिसे प्रोसेसिंग व पैकेजिंग के बाद निगम कर्मी आमलोगों को उपलब्ध कराएंगे। सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2016 के तहत इस दिशा में कार्य की शुरूआत हो गई है। सिटी नाका चौक पर दो कट्‌ठा जमीन का अधिग्रहण कर सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट के तहत बाकायदा जैविक खाद शेड का निर्माण कराया जाएगा। जहां शहर के कचरे से जैविक खाद तैयार होगी। गत दिनों नगर आयुक्त विजय कुमार सिंह बिहार सरकार के एक कार्यक्रम के सिलसिले में मुजफ्फरपुर गए थे जहां उन्हें इस तकनीक की जानकारी मिली और उन्होंने इसे अपने शहर में अमल में लाने की ठानी। इस पूरे प्रोजेक्ट को तैयार करने में महज 16 लाख रूपए का खर्च आएगा और इसे नगर निधि कोष से ही अमलीजामा पहनाया जाएगा। इस प्रोजेक्ट के लिए मशीनों की खरीदारी जेम पोर्टल के माध्यम से होगी और दो माह के अंदर प्रोजेक्ट को सरजमीं पर उतारने का लक्ष्य रखा गया है।  

...एक्सपर्ट से ली जाएगी मदद : 
शहर में सॉलिड वेस्ट से जैविक खाद बनाने के लिए एक्सपर्ट की भी मदद ली जा रही है। शहर के लाइन बाजार स्थित नया टोला निवासी हरमन शाह (कंसल्टेंट इंजीनियर) इस प्रोजेक्ट में अपनी रूचि दिखा रहे हैं और उन्होंने बाकायदा इसके लिए एक प्रारूप भी तैयार किया है। जिसमें घर घर से वेस्ट कलेक्शन से लेकर जैविक खाद बनाने तक की प्रक्रिया शामिल है। फिलहाल निगम के द्वारा लोगों को ठोस कचरे को संग्रहित करने की दिशा में जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। ताकि लोगों को यह पता चल सके कि जो सामान उनकी नजर में बेकार है उससे जैविक खाद तैयार की जा सकती है। बता दें कि शहर में प्रतिदिन 150 मिट्रिक टन कचरा जमा होता है। 

...30 दिनों में तैयार होगी खाद : 
हरमन शाह बताते हैं कि इस नई तकनीक के सहारे महज 30 दिनों में कचरे से जैविक खाद तैयार की जाएगी। बैक्टीरियल कल्चर व बायो कम्पोस्टिंग तकनीक का सहारा लिया जाएगा। ताकि फूड वेस्ट को जल्द से जल्द बायो ऑर्गेनिक फर्टिलाइजर में कन्वर्ट किया जा सके। फूड वेस्ट को जमा करने के लिए निगम के द्वारा कुल 70 हजार कंटेनर का वितरण किया जाएगा। पहले चरण में 26 हजार कंटेनर फिर दूसरे चरण में बाकी कंटेनर घरों में वितरित किए जाएंगे। साथ ही लोगों को जागरूक किया जाएगा कि सूखा व गीला कचरा को किस पात्र में रखना है। 

...दो माह के अंदर शुरू होगा प्रोजेक्ट : 
सॉलिड वेस्ट को जैविक खाद में परिणत करने की दिशा में कार्य को गति दी गई है। दो माह के अंदर सिटी नाका चौक के पास जैविक खाद तैयार करने के लिए शेड का निर्माण कराया जाएगा। इस प्रोजेक्ट में महज 16 लाख रूपए खर्च होंगे और इसे नगर निगम निधि से तैयार किया जाएगा। :  विजय कुमार सिंह, नगर आयुक्त, नगर निगम पूर्णिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...