बिहार : दीघा में जो बिकती है मगर दिखती नहीं शराब की बिक्री तेज - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 22 मार्च 2019

बिहार : दीघा में जो बिकती है मगर दिखती नहीं शराब की बिक्री तेज

राजू मिलयानुस और अजीत कुमार जिगरी दोस्त, एक की जान बचाने में दूसरी की मौत
alcohal-selling-digha-patna-bihar
पटना, 22 मार्च। आज ईसाई धर्मरीति के अनुसार राजू मिलयानुस की अंतिम विदाई दी गयी। कुर्जी पल्ली के सहायक पल्ली पुरोहित फादर विनाॅय ने मिस्सा पूजा अर्पित किया। इसके बाद  कुर्जी कब्रिस्तान में दफन कर दिया गया। इस दफन के साथ ही राजू मिलयानुस कई सवाल छोड़ गए। दीघा थाना क्षेत्र में जो बिकती है मगर दिखती नहीं शराब की बिक्री जोरशोर से तेज। दीघा थाना को 4 बजे सूचना दी गयी। इसके घंटाभर बाद लेट से पुलिस घटना स्थल पाटीपुल पहुंचती है। पुलिस केवल राजू मिलयानुस को ही उठाकर पीएमसीएच ले गयी। वहां पर 21 मार्च को इमरेजेंसी में इलाज शुरू हुआ। इसके बाद एम्बुलेंस से अजीत कुमार को पीएमसीएच भेजा गया। अभी उसका इलाज चल रहा है। इस बीच इलाज के दरम्यान 12 बजकर 05 मिनट पर राजू मिलयानुस का निधन हो गया। वह 33 वर्ष का था। अपने पीछे विधवा पिंकी देवी और 2 बच्चों को छोड़ गया। इस समय पिंकी देवी गर्भवती है। पांच महीने के शिशु गर्भ में पल रहा है। दीघा पुलिस ने मृतक राजू का पोस्टमार्टम नहीं कराया। वहीं पीएमसीएच के इंमरजेंसी वार्ड में कार्यरत डाक्टर राकेश चैाधरी ने डेड बाॅडी कैयररिंग सार्टिफिकेट दिया।  मरीज का नाम राजू रामाशीष लिखा गया है। पुत्र रामाशीष पासवान लिखा गया है। इसमें उल्लेख है कि राजू 21.03.2019 को भर्ती किया गया है। डाक्टर राकेश चैाधरी ने लिखा है कि राजू की मृत्यु 22.03.2019 को 12.05 पी.एम. में हो गयी। वास्तव में लिखना था कि 12.05 ए.एम.। 12 घंटे के हेराफेरी कर दिए। उसकी बहन शोभा देवी का कहना है कि वास्तव में उनका नाम राजू मिलयानुस है। पिता का नाम जोसेफ मिलयानुस है। वह ईसाई धर्मावलम्बी हैं। कुर्जी चर्च में 12.30 बजे से मिस्सा पूजा शुरू की गयी। 

राजू मिलयानुस और अजीत कुमार जिगरी दोस्त थे
मखदुमपुर मोहल्ला में रहते हैं राजू मिलयानुस (33 साल) और अजीत कुमार (32 साल)। दोनों जिगरी दोस्त हैं। दोनों साथ-साथ हलवाई का काम किया करते हैं। उन दोनों ने 21 मार्च को होली के दिन मूड बनाने का निश्चय किया। अपने घर के बगल मखदुमपुर मोहल्ला में ही जो बिकती है मगर दिखती नहीं विदेशी शराब का सेवन किए। मोबाइल से काॅल करने पर विदेशी शराब होम डिलिवरी कर दी गयी। विदेशी शराब का लुफ्त उठाने के बाद गंगा किनारे जा पहुंचे। यहां पर ईंट भट्टा है जमकर महुआ और मिठ्ठा से दारू बनाया जाता है। इस दारू का भी सेवन किए। देशी और विदेशी के मिलन होने पर मस्त हो गए। दोनों होली का लुफ्त उठाने लगे। अजीत और राजू फिल्मी गीत गाने लगे। इसके बाद अजीत पर फिल्मी कलाकार की तरह अभिनय करने का भूत सवार हो गया। अभिनय करते-करते फिल्मी स्टाइल में अजीत रेलवे ट्रैक पर लेट गया। 

फिर जो न होना था वह हो गया
गंगा नदी पर निर्मित पुल को पारकर अत्यंत तेज रफ्तार एक्सप्रेस सीटी बजाती आ गयी।  एक्सप्रेस गाड़ी सोनपुर की ओर से आकर पाटलिपुत्र स्टेशन की ओर बढ़ गयी। जो एक्सप्रेस गाड़ी से न होना था वह अंजाम देकर चली गयी। हुआ यह कि रेलवे ट्रैंक पर मदहोश अजीत कुमार कुमार पड़ा था। दोस्त की जिंदगी दांव पर लगते देख राजू ने दोस्त को बचाने का प्रयास किया। जान जौखिम में डालकर राजू ने अजीत को ट्रैंक से निकाला। तबतक अजीत  के बाये पैर और दाहिने पैर के नीचले हिस्से गवा बैठे था। फिर भी उसे बचाने के दरम्यान राजू रेल बाॅडी से टकरा गया। वह दूर जाकर गिर गया। अजीत दोनों पैर कटा लेने के बाद झटपटाते रहा। इस बीच दीघा पुलिस को खबर हो गयी थी। दीघा पुलिस ने अजीत को झटपटाते छोड़ राजू को गाड़ी में बिठाकर पीएमसीएच में ले गयी। वहां इलाज शुरू हुआ। 6 घंटे के अंदर राजू मिलयानुस दम तौड़ दिया। अभी अजीत का इलाज पीएमसीएच में चल रहा है। बताते चले कि संत माइकल हाई स्कूल में चतुर्थवर्गीय कर्मचारी जोसेफ मिलयानुस थे। उनकी पत्नी सेराफीना जोसेफ है। दोनों के दो संतान हुए। पुत्र राजू  और पुत्र सुनीता देवी है। दोनों के मां-पिता मर गए हैं। राजू की शादी बाढ़ निवासी पिंकी से हुई है। राजू और पिंकी के दो बच्चे हैं। दोनों छोटे हैं। इस समय पिंकी देवी गर्भवती हैं। कल्याणकारी सरकार से पिंकी देवी ने आग्रह की है कि परिवार लाभ और लक्ष्मीबाई सामाजिक सुरक्षा पेंशन से लाभ दिलवा दिया जाए। दोनों बच्चों की पढ़ाई की व्यवस्था हो।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...