बिहार : राशि आने के पूर्व तरस रहे थे और आ जाने के बाद तरप रहे हैं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 18 मार्च 2019

बिहार : राशि आने के पूर्व तरस रहे थे और आ जाने के बाद तरप रहे हैं

anm-problem-bihar
पटना, 18 मार्च। बिहार सरकार की राज्यकर्मी ए.एन.एम.केंद्रांश व राज्यांश की राशि आने के पूर्व तरस रहे थे और आ जाने के बाद तरप रहे हैं। इनको एक से डेढ़ साल से वेतन नहीं मिल रहा है। बताते चले कि स्वास्थ्य राज्यकर्मियों को राज्य सरकार की ओर से नियमित वेतन नहीं दी जा रही है।  ए.एन.एम. को परिवार कल्याण केंद्र प्रायोजित योजना में शामिल कर ली गई है। तब से वेतन टोटा हो गया है।केंद्रांश और राज्यांश के बलबूते ए.एन.एम.दीदी को वेतन मिलता है। जो कतिपय कारणों से नहीं मिल रहा। इसके कारण ए.एन.एम.दीदी बेहाल हो गयी। हाजिरी बनाकर काम का बहिष्कार करने का आंदोलन किया। आंदोलन भी बेअसर साबित हुआ। आंदोलन के दरम्यान आंदोलनकारियों ने पटना जिले के सिविल सर्जन डाक्टर प्रमोद झा को द्येरा। पोलियों की खुराख देने वाली ए.एन.एम. को डाक्टर झा साहब आश्वासन की घुट्टी पिलाते रहे। 

बताते चले कि एक से डेढ़ साल से वेतन के लिए तरपने वाली ए.एन. एम. को 28 फरवरी को खुशखबरी मिली कि केंद्र व बिहार सरकार की ओर से वेतन व अन्य मद में एक करोड़ चैारानवे करोड़ दस लाख तिरेपन हजार पांच सौ छह रूपये विमुक्त राशि की गयी। सिविल सर्जन डाक्टर प्रमोद झा ने 23 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा प्रभारी व अन्य को 05 मार्च को सरकारी पत्र में  स्पष्ट निर्देश दिया कि 15 मार्च तक अद्यतन वेतनादि देने की प्रक्रिया खत्म कर लें। बताते चले कि सिविल सर्जन ने 07 मार्च को पुनःसरकारी पत्र जारी किया। बताते चले कि मुख्य व्यय शीर्ष 2211 परिवार कल्याण केन्द्र प्रायोजित योजनान्तर्गत शीर्ष 00 लघु शीर्ष 101 ग्रामीण परिवार कल्याण सेवाएं 0205 स्वास्थ्य तथा चिकित्सा षिक्षा में मानव संसाधन उपशीर्ष विपत्र कोड 20-2211001010205 के अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए केन्द्रांश के तहत वेतन भत्ते एवं अन्य मद में प्राप्त आवंटन के आलोक में अतिरिक्त उपावंटन किया गया है। प्राप्त आवंटन है 353,423,506 रूपये मात्र। पूर्व में आवंटित राशि 115,595,00 रूपये मात्र। वर्तमान में उपावंटित राशि 237,828,506 रूपये मात्र है। शेष राशि 0 रूपये मात्र है। उसी तरह राज्यांश के तहत वेतन एवं अन्य मद में प्राप्त आवंटन के आलोक में अतिरिक्त उपावंटन किया गया है। कुल प्राप्त आवंटन 238,285,000 रूपये मात्र। पूर्व में आवंटित राशि 56,285,000 रूपये मात्र। वर्तमान में उपावंटित राशि 182,000,000 रूपये मात्र। शेष राशि 0 रूपये मात्र। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार केन्द्रांश में कुल योग मोकामा को 8161574, पंडारक को 3394347, बाढ़ को 7141108, बख्तियारपुर को 5008695, फतुहा को 7008695 , दनियावा को 1343296, सम्पतचक को 11245603, फुलवारीशरीफ को 15568431 , सदर प्रखंड को 23683527, दानापुर को 18409459, पुनपुन को 17518695, धनरूआ को 8433605 , मसौढ़ी को 29555786  , मनेर को 3347824, बिहटा को 70239086, विक्रम को 3991937, पालीगंज को 34467207, नौबतपुर को 6008695 , दुल्हिनबाजार को 7863493 , बेल्छी को 821195, अथमलगोला को 2308695 , घोसवरी को 1848848 और खुशरूपुर को 458710  । 

प्राप्त जानकारी के अनुसार केन्द्रांष में कुल योग मोकामा को 2776195, पंडारक को 10420520, बाढ़ को 3629285 , बख्तियारपुर को  9934750, फतुहा को 8044750 , दनियावा को 277480, सम्पतचक को 11256658, फुलवारीशरीफ को 7256883, सदर प्रखंड को 10091487, दानापुर को 10571449 , पुनपुन को 2544750, धनरूआ को 15071487, मसौढ़ी को 12841217,मनेर को 8839901, बिहटा को 12778941, विक्रम को 8875166 , पालीगंज को 6545779, नौबतपुर को 13948364 , दुल्हिनबाजार को 7202443 , बेल्छी को 104450, अथमलगोला को  819750, घोसवरी को 4454771 और खुशरूपुर को 3722524।

वेतन के लिए तरस रही ए.एन.एम.को अब भी वेतन के लिए तरपना पर रहा है। वेतन बनाने वाले अघतन राशि निकासी करने के एवज में एक प्रतिशत कमीशन मांग रहे हैं। वित्तीय वर्ष 2017-2018 का दिसम्बर,जनवरी और फरवरी माह का वेतन नहीं मिला है। तीन माह का वेतन निकासी करने के लिए एक प्रतिशत मांग कर रहे हैं। वहीं 2018-19 का वेतन निकासी करने के लिए प्रत्येक माह एक हजार रू.की मांग हो रही है। इस ओर पटना जिले के सिविल सर्जन प्रमोद झा को ठोस कदम उठाना चाहिए ताकि आपके अधीन 23 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अन्तर्गत उप स्वास्थ्य केन्द्र और अतिरिक्त स्वास्थ्य केन्द्र के कर्मियों का वेतन मिल सके। आपको स्पष्ट आदेश देना चाहिए कि जो प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के सहायकों द्वारा वित्तीय वर्ष में वेतन बकाया रहेगा तो उनको निलम्बित कर दिया जाएगा। वहीं राशि मांगने वाले दलाल और सहायकों पर लगाम लगाए। जिससे ए.एन.एम. को राहत मिल सके।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...