पाकिस्तान दिवस पर मोदी के संदेश पर कांग्रेस ने उठाया सवाल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 23 मार्च 2019

पाकिस्तान दिवस पर मोदी के संदेश पर कांग्रेस ने उठाया सवाल

congress-raises-questions-on-modi-s-message-on-pakistan-day
नयी दिल्ली, 23 मार्च, कांग्रेस ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान को भेजे गए संदेश पर सवाल खड़ा करते हुए शनिवार को कहा कि उन्होंने इसमें पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद और आतंकवादियों को भारत भेजे जाने का मुद्दा क्यों नहीं उठाया। कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यहां संवाददाताओं से कहा, “आज हमने देखा कि किस प्रकार से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने चोरी छुपे इमरान खान को पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस पर ‘लव लैटर’ लिखा। पर उसमें मोदी जी पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद, पाकिस्तान और आईएसआई द्वारा भारत में भेजे जा रहे आतंकवादियों को रोकने की चर्चा करना भूल गए। मोदी जी क्या यही आपका राष्ट्र प्रेम है?” उन्होंने कहा कि श्री मोदी को यह बताना चाहिए कि उन्होंने आतंकवाद की चर्चा क्यों नहीं की और इसे रोकने की सलाह क्यों नहीं दी। श्री सुरजेवाला ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर भी निशाना साधा और कहा कि उन्हें कांग्रेस को देशभक्ति सिखाने की जरुरत नहीं है। श्री शाह ने आज कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा के एक बयान को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से माफी मांगने की मांग करते हुए कहा था कि यह बयान देश की सेना, शहीदों और जनता का अपमान है। श्री पित्रोदा ने बालाकोट पर भारतीय वायुसेना की कार्रवाई में मारे गए आतंकवादियों की संख्या बताने की मांग की थी।  श्री सुरजेवाला ने पूछा कि श्री मोदी बिन बुलाए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मिलने क्यों गए थे? उन्होंने पठानकोट आतंकवादी हमले की जांच के लिए आतंकवादियों को संरक्षण देने वाली पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को क्यों बुलाया था? श्री मोदी उस समय क्यों चुप रहे जब उनकी मौजूदगी में उनकी गठबंधन सहयोगी पीडीपी की नेता एवं तत्कालीन मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने जम्मू-कश्मीर में चुनाव शांतिपूर्ण होने के लिए पाकिस्तान और अलगाववादियों को धन्यवाद दिया था। उन्होंने कहा कि देश से अगर किसी को माफी मांगनी चाहिए तो श्री मोदी और श्री शाह को मांगनी चाहिए।  श्री पित्रोदा के बयान पर उन्होंने कहा कि वह उनका निजी बयान था इससे पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...