दिल से दिल को जोड़ना जरुरी : डॉ एस.एन सुब्बाराव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 18 मार्च 2019

दिल से दिल को जोड़ना जरुरी : डॉ एस.एन सुब्बाराव

join-hands-togather
भोपाल,17 मार्च। कई मायनों में महत्वपूवर्ण है वर्ष 2019 । यह कस्तूरबा गांधी (बा) और महात्मा गांधी (बापू) के जन्म का 150 वां वर्ष है । अंतराष्ट्रीय स्तर पर होने वाली जय जगत 2020 यात्रा की भी शुरुआत है। आगामी 2 अक्टूबर 2019 को राजघाट, दिल्ली से होने वाली है । यह यात्रा दिल्ली, भारत से शुरू होकर जिनेवा, स्विट्जरलैंड तक जाएगी । जय जगत संवाद - 2020  श्रृंखला के तहत युवा संवाद का आयोजन किया गया है जिसमे बी. एस. एस. कॉलेज के विद्यार्थियों ने गांधी भवन भोपाल का शैक्षणिक भ्रमण किया। इस अवसर पर जाने-माने गांधी विचारक पद्मश्री डॉक्टर एस.एन. सुब्बाराव (भाईजी)  विद्यार्थियों से मुखातिब हुए। उन्होंने देश और दुनिया की परिस्थितियों पर गहन चिंतन करते हुए युवाओं को शांति का मार्ग अपनाने की अपील की। उन्होंने चंद्रमा की सतह पर पहुंचने वाले प्रथम व्यक्ति नील आर्मस्ट्रांग के कथन का उल्लेख करते हुए कहा कि चांद से पृथ्वी बहुत सुंदर दिखाई देती है क्योंकि वहां से पृथ्वी पर कोई खरोंच नहीं दिखाई देती। इस कथन के पीछे भाई जी का उद्देश्य दुनिया में बढ़ते आपसी द्वेष को भुलाने का था, उन्होंने दुनिया में बढ़ रही हिंसा को खत्म करने के लिए शांति और सहमति का आह्वान किया। भाई जी ने युवाओं को भौतिक चमक से बाहर निकलते हुए आपसी प्रेम को बढ़ाने की बात कही।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...