दुमका : भारी संख्या में पुलिस ने बरामद किया जिन्दा कारतूस व नक्सली साहित्य - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 29 मार्च 2019

दुमका : भारी संख्या में पुलिस ने बरामद किया जिन्दा कारतूस व नक्सली साहित्य

naxal-litrature-seized-dumka
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) जोड़ाआम (काठीकुंड) से पुलिस ने भारी संख्या में 7.62 गोली (जिन्दा कारतूस) व नक्सली साहित्य बरामद किया। दिन शुक्रवार की देर शाम पुलिस अधीक्षक दुमका वाई एस रमेश ने प्रेसवार्ता आयोजित कर उपरोक्त की जानकारी दी। एस पी श्री रमेश ने कहा कि गुप्त सूचना के आधार पर ए एस पी अभियान आर सी मिश्रा, डिप्टी कमांडेंट एस एस बी नरपत सिंह, गुलशन  व काठीकुंड थाना के सब इंस्पेक्टर तेज प्रताप सिंह व अन्य पुलिसकर्मियों की एक संयुक्त टीम ने उपरोक्त की बरामदगी कर नक्सलियों की कमर तोड़ कर रख दी। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि नक्सल प्रभावित क्षेत्र काठीकुंड के जोड़ाआम से पुलिस की संयुक्त टीम ने 7.62 बोर के 180 जिन्दा कारतूस व 150 की संख्या में नक्सली साहित्य बरामद किया। उपरोक्त सारी चीजें स्टील के दो अलग अलग कंटेनरों (ड्राम) में प्लास्टिक व अन्य चीजों से ढककर जमीन के अन्दर गाड़ कर रखा गया था। लोकसभा चुनाव 2019 को देखते हुए  नक्सलियों द्वारा किसी बड़े हमले की साजिशों के मद्देनजर उपरोक्त सामग्रियों की बरामदगी एक बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है। दुमका एस पी श्री रमेश ने कहा कि एन्टी नक्सल मूवमेंट लगातार जारी है और पुलिस किसी भी खतरे से निपटने के लिए हर वक्त तैयार है। एस पी श्री रमेश ने कहा कि कम्यूनिटी पुलिसिंग से ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों का विश्वास दिन प्रतिदिन पुलिस की ओर बढ़ता जा रहा है। लोग पहले से ज्यादा सुरक्षित खुद को महसूस कर रहे हैं। जनता की छोटी से छोटी समस्याओं का त्वरित समाधान किया जा रहा है ताकि सभी बेखौफ जीवन बसर कर सकें। उन्होंने कहा कि पुलिस नक्सलियों के विरूद्ध लगातार दबिश बनाती जा रही है परिणामस्वरूप नक्सली एरिया छोड़ने पर मजबूर हो रहे हैं। ग्रामीणों का सहयोग भी पुलिस को हर संभव प्राप्त हो रहा है। एक सौ अस्सी की संख्या में बरामद कारतूस पर पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए एस पी ने कहा कि भारी संख्या में बरामद गोलियों से पता चलता है कि नक्सलियों के पास आग्नेयास्त्र भी हैं जिसका प्रयोग वे किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के ख्याल से एकत्रित कर रख रहे थे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...