बिहार : पटना की संकल्प रैली में बोले प्रधानमंत्री - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 3 मार्च 2019

बिहार : पटना की संकल्प रैली में बोले प्रधानमंत्री

pm-modi-in-gandhi-maidan-patna
अरुण कुमार (आर्यावर्त्त) पटना गांधी मैदान में एनडीए की संकल्प रैली हो रही है।रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करीब नौ साल बाद किसी चुनावी रैली में एक साथ मंच साझा कर रहे हैं।उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी,लोजपा सुप्रीमो राम विलास पासवान, राजीव प्रताप रूडी, राजीव रंजन सिंह, नित्यानंद राय, भूपेंद्र यादव, रामकृपाल यादव, विजय कुमार सिन्हा समेत एनडीए के 60 से ज्यादा नेता कार्यक्रम में मौजूद हुए। रैली को पहले राम विलास पासवान ने संबोधित किया।अब रैली को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार संबोधित कर रहे हैं।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार पहला ऐसा राज्य है, जहां पंचायती राज व्यवस्था और नगर निकायों में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। इस बात पर प्रधानमंत्री ने भी ताली बजाकर वाहवाही दी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पुलवामा हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि भारत ने आतंकवाद का कड़ा जवाब दिया है। पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होंने जवानों की तारीफ की।उन्होंने कहा कि भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान का कड़ा जवाब दिया। एयरफोर्स के विंग कमांडर अभिनंदन की भी खूब तारीफ की।

राजद पर कसा तंज
बिना किसी का नाम लिए उन्होंने राजद पर तंज कसते हुए कहा कि बिहार में हमने घर—घर बिजली पहुंचा दी और लालटेन की जरुरत खत्म हो गई। बिहार में प्रेम और सद्भावना का माहौल है। कुछ लोग कटुता फैलाना चाहते हैं। मैं सबसे अपील करूंगा कि उनके चक्कर में न पड़ें।

बिहार की सभी 40 सीटें जीतेंगे
नीतीश कुमार ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री से अनुरोध करना चाहता हूं कि समाज में प्रेम और सौहार्द का वातावरण कायम रखिएगा. कोई किसी भी धर्म का हो हम एक दूसरे की इज्जत करनी चाहिए. आज के राजनेताओं को सिद्धांत की राजनीति से कोई मतलब नहीं है. बिहार में कई नेता है जो कोई काम नहीं करते हैं. अब बस सत्ता में आकर धन अर्जित करते हैं. यह सामाजिक पाप है. आजकल के नेताओं को सेवा में नहीं मेवा में रुचि है. बिहार के लोग प्रधानमंत्री को आश्वस्त करते हैं कि हम लोग लोकसभा चुनाव में 40 के 40 सीट जीतेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...